• Home
  • »
  • News
  • »
  • tech
  • »
  • अलर्ट! गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद है नकली WhatsApp, भूलकर भी न करें डाउनलोड

अलर्ट! गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद है नकली WhatsApp, भूलकर भी न करें डाउनलोड

अब आप व्हाट्सएप के जरिए भी कोविड वैक्सीनेशन का स्लॉट बुक करा सकते हैं.

अब आप व्हाट्सएप के जरिए भी कोविड वैक्सीनेशन का स्लॉट बुक करा सकते हैं.

WhatsApp के मॉडिफाइड वर्जन में एक नया ट्रोजन (वायरस) पाया गया है, जो कि प्ले स्टोर पर मौजूद है. Kaspersky ने इसे डाउनलोड न करने की सलाह दी है.

  • Share this:

    Android के लिए WhatsApp के मॉडिफाइड वर्जन में एक नया ट्रोजन (वायरस) पाया गया है. इस वायरस का नाम Trojan Triada है. ये मैलवेयर आगे एक पेलोड को डाउनलोड कर देता है, जिससे फिर बिना यूज़र की परमिशन के डिवाइस पर मैलिशियस एक्टिविटी का खतरा बढ़ जाता है. इस वायरस की जानकारी साइबर सिक्योरिटी Kaspersky द्वारा मिली है. टीम के रिसर्चर ने एक रिपोर्ट शेयर कर बताया है कि ट्रॉजन ट्रॉयडा, वॉट्सऐप के मॉडिफाइड वर्जन FMWhatsApp 16.80.0 को प्रभावित करता है. ऐसी मॉडिफाइड ऐप्स यूज़र्स को अडिशनल फीचर्स देते हैं, जो कि ओरिजिनल वॉट्सऐप में नहीं होते हैं.

    Kaspersky ने नोट किया कि ट्रॉजन ट्रायडा ने अब अपने विज्ञापन सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट (SDK) के साथ FMWhastApp के नए वर्जन में घुस गया है. ट्रॉजन से इनफेक्टेड ऐप के फोन में इंस्टॉल होने ये यूनीक डिवाइस आइडेंटिफायर (डिवाइस IDs, सब्सक्राइबर आईडी, मैक पते) एकत्र करता है और उन्हें एक रिमोट सर्वर पर वापस भेजता है.

    (ये भी पढ़ें- काफी सस्ते में मिल रहा है भारत का सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन! मिलेगी 8GB तक RAM) 

    फिर सर्वर नए डिवाइस को रजिस्टर करता है और एक पेलोड के लिए एक लिंक वापस सेंड कर देता है. ऐप में ट्रॉजन तब इस पेलोड को संक्रमित डिवाइस पर डाउनलोड करता है, कंटेंट को डिक्रिप्ट करता है और इसे ऑपरेशन के लिए लॉन्च करता है.

    रिसर्चर्स ने FMWhatsApp के ज़रिए ऐसी एक्टिविटी को अंजाम देने वाले अलग-अलग तरह के मैलवेयर की पहचान की है, जबकि उनमें से एक सिर्फ उपरोक्त पेलोड को डाउनलोड करता है, अन्य संक्रमित डिवाइस पर कई कार्य कर सकता है.

    (ये भी पढ़ें- Jio, Airtel और Vi के बेस्ट प्लान! एक बार रिचार्ज करके साल भर करें फ्री कॉलिंग, मिलेगा डेटा भी…)

    भूलकर भी न करें डाउनलोड…
    Kaspersky यूज़र्स को ऐसे ‘unofficial modifications apps’ को डाउनलोड करने को डाउनलोड न करने की सलाह देता है, खासतौर पर ‘WhatsApp Mods.’ बताया गया कि इससे अनचाहे पेड सब्सक्रिप्शन के साइन-अप के अलावा यूज़र अपने अकाउंट का कंट्रोल भी खो सकते हैं. हैकर्स ऐसे अकाउंट को हाइजैक करते हैं, ताकि आपके नाम से स्पैम और मैलवेयर फैला सकें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज