चीन के आगे क्यों पस्त हुए देसी स्मार्टफोन?

बीते वित्तीय वर्ष में माइक्रोमैक्स और इंटेक्स जैसी कंपनी की मोबाइल बाज़ार में हिस्सेदारी काफी गिरी है. आंकड़ों से समझिए कैसे मोबाइल मार्केट में कब्ज़ा जमा रहे चीनी स्मार्टफोन?


Updated: January 3, 2018, 10:40 AM IST
चीन के आगे क्यों पस्त हुए देसी स्मार्टफोन?
बीते वित्तीय वर्ष में माइक्रोमैक्स और इंटेक्स जैसी कंपनी की मोबाइल बाज़ार में हिस्सेदारी काफी गिरी है. आंकड़ों से समझिए कैसे मोबाइल मार्केट में कब्ज़ा जमा रहे चीनी स्मार्टफोन?

Updated: January 3, 2018, 10:40 AM IST
एक साल के अंदर चीनी स्मार्टफोन कंपनियां श्योमी, ओप्पो और वीवो ने कमाई के मामले में 8 गुना बढ़ोत्तरी की है. साल 2017 वित्तीय वर्ष में तीनों कंपनियों ने भारतीय बाज़ार से बीते साल की तुलना में 19600 करोड़ से ज़्यादा की कमाई की.

चाइनीज़ कंपनियों की मोबाइल बाज़ार में बढ़ती हिस्सेदारी का खामियाज़ा भारतीय कंपनियों को भुगतना पड़ रहा है. बीते वित्तीय वर्ष में माइक्रोमैक्स और इंटेक्स जैसी कंपनी की मोबाइल बाज़ार में हिस्सेदारी काफी गिरी है. आंकड़ों से समझिए कैसे मोबाइल मार्केट में कब्ज़ा जमा रहे चीनी स्मार्टफोन?

आधे बाज़ार पर चीनी कब्ज़ा
भारतीय मोबाइल बाज़ार में आधे से ज़्यादा चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी है. इनमें प्रमुख कंपनियां श्योमी, ओप्पो, वीवो, लेनोवो, कूलपैड, G'five, जियोनी, हायर, हुवाई मोबाइल आदि कंपनियां शामिल हैं.



मार्च 2017 के वित्तीय वर्ष में चीन की टॉप 3 चीनी कंपनियों ने मिलाकर 22527 करोड़ की कमाई की. जो बीत साल 2016 तुलना में करीब आठ गुना ज़्यादा है. करीब एक साल पहले तीनों की कुल कमाई 2919 करोड़ थी.

देसी कंपनियों में भारी गिरावट
चीनी स्मार्टफोन की तुलना में देसी मोबाइल कई मोर्चों पर पिछड़ रहे हैं. कभी करीब आधे मोबाइल मार्केट पर अपना करने वाली कंपनी माइक्रोमैक्स ने बीते साल 42% की गिरावट दर्ज की.

यही हाल दूसरे नंबर की देसी कंपनी इंटेक्स का भी है. बीते साल इंटेक्स ने करीब 30% की गिरावट देखी. जो 4364.08 करोड़ से ज़्यादा थी.

क्यों आगे हैं चाइनीज़ फोन
1. दूसरे ब्रांड्स की तुलना में सस्ती कीमत
2. फीचर्स के मामले में ज़्यादा बेहतर
3. 4G सेगमेंट में कोई अन्य ब्रांड टक्कर में नहीं
4. बाज़ार में जबरदस्त प्रचार
5. ऑनलाइन साइट्स पर आकर्षक ऑफर्स के साथ मौजूद
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Tech News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर