स्‍टूडेंट ने पूछा राष्‍ट्रपति बनना चाहता हूं, मोदी बोले-प्रधानमंत्री क्‍यों नहीं? देखें VIDEO

पीएम मोदी (PM Modi) इसरो (ISRO) हैडक्‍वार्टर में चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग को देखने के लिए पहुंचे थे. यहीं पर उन्‍होंने कई स्‍कूली छात्रों से भी बातचीत की.

News18Hindi
Updated: September 7, 2019, 1:28 PM IST
स्‍टूडेंट ने पूछा राष्‍ट्रपति बनना चाहता हूं, मोदी बोले-प्रधानमंत्री क्‍यों नहीं? देखें VIDEO
इसरो हैडक्‍वार्टर में पीएम मोदी ने छात्रों से मुलाकात की.
News18Hindi
Updated: September 7, 2019, 1:28 PM IST
बेंगलुरु: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) शुक्रवार-शनिवार की रात इसरो (ISRO) के हैडक्‍वार्टर में चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग को देखने के लिए पहुंचे थे. यहीं पर उन्‍होंने कई स्‍कूली छात्रों से भी बातचीत की. जब वह स्‍कूली छात्र छात्राओं से मुलाकात कर रहे थे, उसी समय एक स्‍टूडेंट ने प्रधानमंत्री से सवाल किया. उसने कहा, मैं देश का राष्‍ट्रपति बनना चाहता हूं. प्रधानमंत्री ने तुरंत कहा, प्रधानमंत्री क्‍यों नहीं बनना चाहते.

इसरो हैडक्‍वार्टर में ये स्‍कूली बच्‍चे प्रधानमंत्री (Prime Minister Narendra Modi) के साथ लैंडर विक्रम (Lander Vikram) की सॉफ्ट लैंडिंग को लाइव देखने पहुंचे थे. प्रधानमंत्री ने इन बच्‍चों से मुलाकात की. उसी दौरान छात्र ने पूछा, ''मेरा लक्ष्‍य देश का राष्‍ट्रपति बनना है, मुझे इसके लिए क्‍या करना होगा?'' प्रधानमंत्री ने तुरंत उस छात्र से हंसते हुए पूछा, ''प्रधानमंत्री क्‍यों नहीं बनना चाहते''



इसके बाद प्रधानमंत्री ने दूसरे छात्रों से बातचीत की और उन्‍हें ऑटोग्राफ भी दिया. बता दें कि जैसे ही इस बात की खबर मिली कि चंद्रयान-2 (chandrayaan-2) के लैंडर विक्रम का इसरो से संपर्क टूट गया है पीएम मोदी स्‍टूडेंट्स से मिले और कहा, जीवन में इस तरह के झटकों से निराश नहीं होना चाहिए. उन्‍होंने छात्रों से कहा, अपने जीवन में लक्ष्‍य ऊंचे रखो. अपने टार्गेट को छोटे छोटे हिस्‍सों में बांटो और इन छोटे-छोटे टार्गेट को हासिल करो. इसे भूल जाओ कि आप कहां असफल हुए. निराशा को को पीछे छोड़ो.
Loading...

बता दें कि इसरो चीफ ने घोषणा करते हुए बताया लैंडर विक्रम का सॉफ्ट लैंडिंग से 2.1 किमी पहले इसरो से संपर्क टूट गया. आखिरी समय तक लैंडर विक्रम सही काम कर रहा था. 2.1 किमी की दूरी तक ये लगातार संपर्क में था. लेकिन उसके बाद संपर्क टूट गया. वैज्ञानिक अब तक मिले डेटा का एनालिसिस किया जा रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 1:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...