Xerox बना रही है डिस्पोजेबल वेंटिलेटर्स, बिना बिजली और बैटरी के करेगा काम

Xerox बना रही है डिस्पोजेबल वेंटिलेटर्स, बिना बिजली और बैटरी के करेगा काम
(फोटो: Vortran Medical)

Xerox ने कंफर्म करते हुए बताया कि वह मेडिकल डिवाइस बनाने वाली कंपनी वॉर्टन मेडिकल (Vortan Medical) के साथ मिलकर Go2Vent का प्रोडक्शन कर रही है...

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 7, 2020, 12:14 PM IST
  • Share this:
फोटो कॉपी करने वाली पॉपुलर मशीन ब्रैंड ज़ेरॉक्स (Xerox) डिस्पोजेबल वेंटिलेटर (disposable ventilators) बनाने पर काम कर रही है. Xerox ने कंफर्म करते हुए बताया कि वह मेडिकल डिवाइस बनाने वाली कंपनी वॉर्टन मेडिकल (Vortan Medical) के साथ मिलकर Go2Vent का प्रोडक्शन कर रही है. Go2Vent कम कीमत वाला पुनर्जीवन उपकरण है जिसका इस्तेमाल आपात स्थिति और आपदाओं के मामले में पहले किया जाता है. ये पहल उस समय बहुत काम आएगी जब दुनिया भर के अस्पताल कोरोना वायरस महामारी के बीच वेंटिलेटर की महत्वपूर्ण कमी का सामना कर रहे हैं.

कोरोनो वायरस रोगियों के मामले में, इसका इस्तेमाल उन लोगों के लिए किया जा सकता है जो COVID​​-19 के ज़्यादा या नियंत्रित लक्षणों के साथ होते हैं, जिससे ICU-ग्रेड वेंटिलेटर को गंभीर रोगियों के लिए मुक्त किया जाता है.

(ये भी पढ़ें- बहुत काम का है गूगल से जुड़ा WhatsApp का ये नया ज़रूरी फीचर, जानें कैसे करेगा काम)



NBC न्यूज़ से बात करने के दौरान Xerox के चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर नरेश शंकर का कहना है कि, यह सिस्टम पर ओवरलोड को दूर करता है. Vortan के को-फाउंडर और CEO Gordon A Wong ने कहा कि Xerox के साथ पार्टनरशिप का मकसद ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की जिंदगी बचाना है. उम्मीद है कि इस साझेदारी के परिणाम स्वरूप जून तक हर महीने 150,000 से 200,000 वेंटिलेटर का उत्पादन होगा, जिसमें उम्मीद की जा रही है कि अगले महीने तक 1 मिलियन वेंटिलेटर बना लिए जाएंगे. रिपोर्ट के मुताबिक ज़ेरॉक्स प्रत्येक वेंटिलेटर के लिए अस्पतालों से $120 का शुल्क लेगा.



वोर्टन मेडिकल ने Go2Vent को ‘हैंड्स-फ्री’ वेंटिलेटर के रूप में वर्णित किया है जो निरंतर गैस स्रोत का उपयोग करके एक सुरक्षित वायुमार्ग प्रदान करता है. इसे कम से कम 10 लीटर प्रति मिनट प्रवाह दर के साथ एक कंप्रेसर, ऑक्सीजन या वायु पर संचालित किया जा सकता है.

(ये भी पढ़ें- Xiaomi, Vivo, Samsung समेत महंगे हो गए ये 31 स्मार्टफोन्स, अब इतना करना होगा खर्च)

उनका कहना है कि इस डिवाइस को बिजली या बैटरी की आवश्यकता नहीं होती है, जो जटिल चिकित्सा स्थितियों में उपयोगी है. बताया गया कि कंपनी कैलिफोर्निया के सैक्रामेंटो में वेंटिलेटर बनाती है.

मौजूदा समय में अमेरिकी सरकार ने कई कंपनियों से कहा है, जिसमें ऑटो निर्माताओं जैसे कि फोर्ड मोटर कंपनी, अपने कारखानों में वेंटिलेटर का उत्पादन करने में मदद करें ताकि इन महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरणों की कमी को कम किया जा सके क्योंकि कोरोनो वायरस के मामलों में वृद्धि जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading