चीन-भारत विवाद से शाओमी को नुकसान, स्मार्टफोन मार्केट में सैमसंग बना सरताज

सैमसंग ने चीनी कंपनी शाओमी को पछाड़ कर स्मार्टफोन मार्केंट पर बादशाहत कायम कर ली.
सैमसंग ने चीनी कंपनी शाओमी को पछाड़ कर स्मार्टफोन मार्केंट पर बादशाहत कायम कर ली.

सैमसंग (Samsung) ने स्मार्टफोन की ग्लोबल मार्केंट (global market) मे भी चीनी ब्रैंड हुवाबे (Huawei) को पछाड़ दिया है. रिपोर्ट के मुताबिक अगस्त 2020 तक सैमसंग ने ग्लोबल मार्केंट के 20 फीसदी बाजार पर अपना कब्जा (20 per cent occupy the market) कर लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2020, 8:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लाद्दाख में भारतीय सैनिाकों के साथ हुई बर्बरता के बाद से चीन (China) के प्रति लोगों का गुस्सा फूट रहा है. ऐसे में भारतीयों ने चीनी सामान का बायकॉट (Chinese Goods Bycott) करना शुरू कर दिया है. जिसका साफ असर स्मार्टफोन मार्केट (Smartphone market) पर देखने को मिल रहा है. काउंटर पाइंट की रिपोर्ट के मुताबिक सैमसंग ने चीनी कंपनी शाओमी को पछाड़ कर स्मार्टफोन मार्केट पर बादशाहत कायम कर ली है दरअसल सैमसंग इस समय स्मार्टफोन मार्केट में नंबर वन की पोजीशन में आ गई है.

भारतीयों के गुस्से का चीनी कंपनी भुगत रही है अंजाम- जून में लद्दाख में ग्लवान घाटी में चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों के साथ बर्बरता की थी. जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे. इसके बाद से ही देश में एंटी चाइना सेंटिमेंट लगातार बढ़ता जा रहा है. ऐसे में सैमसंग समेत अन्य ब्रैंड जो चाइनीज नहीं हैं उन्हें इसका काफी फायदा मिल रहा है.

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में मनरेगा कार्ड पर दीपिका पादुकोण की फोटो, जिसे चुकाई मजदूरी उसे पता नहीं
सैमसंग ने ग्लोबल मार्केट में भी चीनी कंपनी को पछाड़ा- सैमसंग ने स्मार्टफोन की ग्लोबल मार्केट मे भी चीनी ब्रैंड हुवाबे को पछाड़ दिया है. रिपोर्ट के मुताबिक अगस्त 2020 तक सैमसंग ने ग्लोबल मार्केट के 20 फीसदी बाजार पर अपना कब्जा कर लिया है. वहीं ग्लोबल मार्केट में चीनी कंपनी हुवाबे की हिस्सेदारी केवल 16 फीसदी ही रह गई है.
यह भी पढ़ें: WhatsApp में आए दिक्कत तो सीधे कंपनी को बताएं, जानें इस फीचर को कैसे करना है यूज



एपल को हुआ बड़ा नुकसान- एपल ने पिछले दिनों अपना पहला 5G आईफोन लॉन्च कर किया. इवेंट से ठीक पहले अमेरिकी शेयर बाजार में कंपनी के शेयर 4% तक नीचे गिर गए. इससे कंपनी का वैल्यूएशन 81 बिलियन डॉलर (5.94 लाख करोड़ रुपये) कम हो गई. हालांकि, बाजार बंद होने तक शेयर ने हल्की रिकवरी कर ली थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज