आप हो सकते है ब्लैकमेल, सेक्स सिमुलेटर' ऐप से रहें अलर्ट!

एक बार ये इनक्रिप्शन हो जाता है तो यूजर अपने डिवाइस की फोटो या फाइल्स ओपन नहीं कर सकता. इसके बाद आप को ब्लैकमेल किया जा सकता है और यह भी कहा जा सकता है कि बताई गई रकम न चुकाने पर आपका डेटा डिलीट कर दिया जाएगा.

News18Hindi
Updated: August 3, 2019, 11:59 AM IST
आप हो सकते है ब्लैकमेल, सेक्स सिमुलेटर' ऐप से रहें अलर्ट!
डाउनलोड होने वाला यह ऐप एक मैलिशस ऐप है, जो डिवाइस को नुकसान पहुंचाता है.
News18Hindi
Updated: August 3, 2019, 11:59 AM IST
हमेशा से ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन्स कई वजहों के कारण साइबर सिक्यॉरिटी का सबसे पहले शिकार होते हैं. नवभारत टाइम्स कि रिपोर्ट के अनुसार, एक ऐसे रैंसमवेयर का पता लगा है, जो 'सेक्स सिमुलेटर ऐप्स' की मदद से स्पैम टेक्स्ट मेसेजेस फैला रहा है. टेक्स्ट मेसेज में सेक्सुअल कंटेंट यूजर्स को भेजा जाता है, जो बाद में उन्हें ब्लैकमेल किए जाने की वजह बन रहा है. यह रैंसमवेयर 12 जुलाई को ऐक्टिव हुआ और इसने यूजर्स की कॉन्टैक्ट लिस्ट पर अटैक किया. यह ऐप कई तरह के सेक्स सिमुलेटर गेम हैं, जिससे यूजर्स का ध्यान खींचा जा रहा है.

12 जुलाई के बाद से Android/ File coder. C नाम के रैंसमवेयर ने यूजर्स को अश्लील कंटेंट के साथ मैलिशस लिंक एसएमएस की मदद से भेजने शुरू किए. ये मेसेज हिंदी और इंग्लिश समेत कुल 42 भाषाओं में हो सकते हैं. इस तरह यूजर को पता भी नहीं चलता और उसे निशाना बना लिया जाता है. रिपोर्ट के अनुसार, अटैकर ने सबसे ज्यादा शिकार चीन, यूएस और हांगकांग के लोगों को बनाया है.

news cyber crime
सेक्स सिमुलेटर' ऐप आपको कर सकता है ब्लैकमेल, ऐसे SMS से रहें अलर्ट


इस तरह के भेजता है मेसेज

डाउनलोड होने वाला यह ऐप एक मैलिशस ऐप है, जो डिवाइस को नुकसान पहुंचाता है. ऐसे मेसेज में पहले '(आपका नाम), ये रहीं आपकी कुछ फोटो लिखा होता है और साथ में एक लिंक भी दिया होता है. कुछ यूजर्स को ऐसे मेसेज भी गए हैं कि उनकी कोई न्यूड फोटो लीक हो गई है और नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके वो देख सकते है. यूजर्स को ऐसे मेसेजेस में किसी ऐप का लिंक भी दिया जा सकता है, जो उन्हें वॉर्निंग देता है कि उनकी फोटो कहीं इस्तेमाल की गई हैं.

आप के डेटा के बदले ब्लैकमेलिंग गेम
आप जैसे ही लिंक पर क्लिक करते हैं, अटैकर आप के हर फाइल टाइप (फोटो या टेक्स्ट) को बिना परमिशन के इनक्रिप्ट कर सकता है. एक बार ये इनक्रिप्शन हो जाता है तो यूजर अपने डिवाइस की कुछ फोटो या फाइल्स ओपन नहीं कर सकता. इसके बाद आप को ब्लैकमेल किया जा सकता है और यह भी कह सकता है कि बताई गई रकम न चुकाने पर आपका डेटा डिलीट कर दिया जाएगा. अभी तक ये पता नहीं लगाया जा सकता है कि कितनी डिवाइसेज पर इस रैंसमवेयर का अटैक हुआ है.
Loading...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गैजेट्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 3, 2019, 6:33 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...