देसंविवि में स्टार्ट-अप इंडिया दल ने ली ट्रेनिंग

देसंविवि में स्टार्ट-अप इंडिया दल ने ली ट्रेनिंग
डॉ. प्रणव पण्ड्या

स्टार्टअप इंडिया परियोजना के तहत चल रहे कार्यक्रम में प्रशिक्षण ले रहे 40 विद्यार्थियों एवं शिक्षकों के एक दल ने देसंविवि में हस्तकरघा, कागज, जूट व हस्तकला से संबंधित चल रहे लघु उद्योग का अध्ययन एवं प्रशिक्षण प्राप्त किया.

  • Agencies
  • Last Updated: May 4, 2016, 8:51 PM IST
  • Share this:
स्टार्टअप इंडिया परियोजना के तहत चल रहे कार्यक्रम में प्रशिक्षण ले रहे 40 विद्यार्थियों एवं शिक्षकों के एक दल ने देसंविवि में हस्तकरघा, कागज, जूट व हस्तकला से संबंधित चल रहे लघु उद्योग का अध्ययन एवं प्रशिक्षण प्राप्त किया.

दल में कई राज्यों के विद्यार्थी एवं शिक्षक शामिल थे. देसंविवि की ओर से जारी बयान के अनुसार, विवि के स्वावलंबन विभाग में उद्यमिता विकास को लेकर विभिन्न कुटीर उद्योगों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है यहां दिन-प्रतिदिन नए लोगों को भी प्रशिक्षण देने का क्रम चल रहा है.

इसी कड़ी में देश के सिक्किम, दिल्ली, मप्र, उप्र, मेघालय गुजरात आदि राज्यों में स्टार्ट-अप इंडिया परियोजना से जुड़े 40 विद्यार्थियों एवं शिक्षकों का एक दल यहां पहुंचा, और दल ने हस्तकरघा, कागज, हस्तकला एवं जूट से बनाए जाने वाली विभिन्न वस्तुओं का अध्ययन किया.



देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने इस अवसर पर कहा कि भारत में छोटे-छोटे उद्योगों में कौशल विकास के जरिए लोगों को जागरूक कर उन्हें प्रशिक्षित करने से देश प्रगतिशीलता की ओर अग्रसर होगा.
उन्होंने कहा, "आज बड़े उद्योगों की नहीं, कुशल लोगों की आवश्यकता है, जिससे समाज को आत्मनिर्भर बनाया जा सके." कार्यक्रम की संयोजक संस्था इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड और ड्रग मेनिफेक्च रिंग एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड ने उद्यमिता विकास एवं कौशल विकास के अंतर्गत चलाए जा रहे कार्यक्रम की सराहना की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading