पनामा पेपर लीक में शामिल भारतीयों के नाम बताए सरकार: सपा

पनामा पेपर लीक में शामिल भारतीयों के नाम बताए सरकार: सपा
राज्यसभा में आज समाजवादी पार्टी ने लीक हुए पनामा दस्तावेजों में कथित तौर पर शामिल उन भारतीयों के नाम जाहिर करने की मांग की जिन्होंने कर अदायगी से बचते हुए अपना काला धन विदेशी बैंकों में जमा कर रखा है।

राज्यसभा में आज समाजवादी पार्टी ने लीक हुए पनामा दस्तावेजों में कथित तौर पर शामिल उन भारतीयों के नाम जाहिर करने की मांग की जिन्होंने कर अदायगी से बचते हुए अपना काला धन विदेशी बैंकों में जमा कर रखा है।

  • Share this:
नई दिल्ली। राज्यसभा में आज समाजवादी पार्टी ने लीक हुए पनामा दस्तावेजों में कथित तौर पर शामिल उन भारतीयों के नाम जाहिर करने की मांग की जिन्होंने कर अदायगी से बचते हुए अपना काला धन विदेशी बैंकों में जमा कर रखा है। सपा के नरेश अग्रवाल ने शून्यकाल में नियम 267 के तहत नोटिस जरिये यह मुद्दा उठाया और कार्यवाही स्थगित कर पनामा मुद्दे पर चर्चा की मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार जानबूझकर उन लोगों के नाम छिपा रही है जो पनामा स्थित मोसैक फोन्सेका विधि फर्म के दस्तावेज लीक होने से सामने आए हैं।

अग्रवाल ने आरोप लगाया कि पनामा भारत कर संधि के तहत, कंपनियों को उस देश में ही कर देना पड़ता है जहां उनका मुख्यालय है और इसीलिए काले धन को भारत से पनामा ले जाया गया तथा केवल पांच फीसदी का कर भुगतान कर उसे ‘सफेद’ किया गया, फिर प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के तौर पर उसे वापस भारत लाया गया।

सपा सदस्य ने कहा कि संधि के तहत, पनामा कंपनी मालिकों के नाम जाहिर नहीं करेगा। लेकिन सरकार के पास उन लोगों के नाम हैं जिन्होंने कर अदायगी से बचने तथा काले धन को सफेद करने के लिए पनामा की राह पकड़ी।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज