LIVE NOW

यूपी चुनाव कवरेज : गन्ने का भुगतान नहीं होने से परेशान किसानों ने कहा- 11 फरवरी तक नहीं हुआ हल तो करेंगे आत्मदाह

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जिस पार्टी को खाप पंचायतें सपोर्ट कर दें उसकी जीत लगभग तय मानी जाती है. लेकिन, विधानसभा चुनावी माहौल उनके भी कुछ सवाल हैं. इन्हीं सवालों को टटोलने बुढ़ाना पहुंची है news18hindi.com (ओम प्रकाश, नासिर हुसैन, नित्यानंद पाठक और गौरी शंकर) की टीम.

Hindi.news18.com | February 1, 2017, 9:25 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated February 1, 2017

हाइलाइट्स

5:54 pm (IST)
3:59 pm (IST)
2:47 pm (IST)

गन्ने का भुगतान नहीं मिलने से परेशान किसानों ने सरकार को हिदायत दी. कहा- 11 फरवरी तक हमारा भुगतान नहीं किया गया तो हम आत्मदाह करेंगे और इसका जिम्मदार सिर्फ और सिर्फ यूपी सरकार ही होगी.


2:43 pm (IST)
2:42 pm (IST)

किसानों का कहना है- शुगर मिल समय से पैसा कभी नहीं देता. बावजूद इसके हम गन्ने को बोने के लिए मजबूर हैं. इसकी सबसे बड़ी वजह है यहां गन्ने की खेती का ही होना है. अगर यहां किसी और फसल की खेती होती तो हम कब का गन्ना बोना छोड़ चुके होते.


2:36 pm (IST)
2:33 pm (IST)

पिछले 19 दिनों से धरने पर बैठे एक किसान का कहना है- देखिए जी, नियम तो ये है कि गन्ना पहुंचने के 14 दिन के अंदर हमारा भुगतान हो जाना चाहिए, लेकिन ऐसा होता कहां है? काम छोड़कर यहां धरना देना पड़ रहा है.


2:22 pm (IST)

इस बारे में किसान नेता सुभाष बालियान का कहना है- सवा दौ सौ करोड़ रुपए हमारे बकाया है. हम सभी को शुगर मिल की ओर से सिर्फ आश्वासन मिले, पैसे नहीं. सबसे बड़ी बात ये है कि चीनी स्टॉक में है और मिल इसकी कालाबाजारी करने की फिराक में है. ऐसे में मिल को तो फायदा होगा, लेकिन हम तो तरह-तरह की जलालत झेलने को मजबूर हैं ना. हमारी फैमिली परेशान है. 


2:17 pm (IST)
2:14 pm (IST)

यूपी चुनाव LIVE कवरेज : यहां 19 दिनों से धरना दे रहे गन्ना किसान, कल सीएम अखिलेश यादव की रैली को दिखाएंगे काले झंडे. किसानों के इस फैसले से सरकारी महकमा हिला हुआ है.


LOAD MORE
बुढ़ाना। पश्चिमी यूपी में चुनाव हो और खाप पंचायतों का जिक्र न हो, ऐसा कैसे हो सकता है? यूपी, हरियाणा और राजस्थान के चुनाव में खाप पंचायतों का कुछ ज्यादा ही दखल माना जाता है. जिस पार्टी को ये सपोर्ट कर दें उसकी जीत लगभग तय मानी जाती है. लेकिन, विधानसभा चुनावी माहौल उनके भी कुछ सवाल हैं. इन्हीं सवालों को टटोलने बुढ़ाना पहुंची है news18hindi.com (ओम प्रकाश, नासिर हुसैन, नित्यानंद पाठक और गौरी शंकर) की टीम. खाप पंचायतों ने विधानसभा चुनाव को लेकर फेसबुक लाइव पर अपनी बात रखी.

खाप पंचायतें ही लेती हैं अधिकतर फैसले
यूपी, हरियाणा और राजस्थान में अब भी कई ऐसे जिले हैं, जहां के समाज में खाप पंचायतें ही सुप्रीम हैं. ये पारंपरिक पंचायतें हैं.

पश्चिमी यूपी में कौन-कौन सी हैं महत्वपूर्ण खाप पंचायतें
- गठवाला
- दैसवाल
- तोमर
- बालियान
- हुड्डा
- बत्तीसा

क्या हैं खाप पंचायतें?
रिवायती पंचायतें कई तरह की होती हैं. खाप पंचायतें भी पारंपरिक पंचायते हैं, लेकिन इन्हें कोई आधिकारिक मान्यता प्राप्त नहीं है. एक गोत्र या फिर बिरादरी के सभी गोत्र मिलकर खाप पंचायत बनाते हैं. ये फिर 5-5 की हो सकती है या 20-25 गांवों की भी हो सकती है.

सर्वसम्मति से होता है फैसला, मानना पड़ता है सभी को
जो गोत्र जिस इलाके में अधिक प्रभावशाली होता है, उसी का उस खाप पंचायत में ज्यादा दबदबा होता है. कम जनसंख्या वाले गोत्र भी पंचायत में शामिल होते हैं लेकिन प्रभावशाली गोत्र की ही खाप पंचायत में चलती है. सभी गांव निवासियों को बैठक में बुलाया जाता है, चाहे वे आएं या न आएं...और जो भी फैसला लिया जाता है उसे सर्वसम्मति से लिया गया फैसला बताया जाता है और अमूमन इसका कोई विरोध नहीं करता.

सवा दौ सौ करोड़ भुगतान की मांग को लेकर धरने पर किसान
इस बारे में किसान नेता सुभाष बालियान का कहना है- सवा दौ सौ करोड़ रुपए हमारे बकाया है. हम सभी को शुगर मिल की ओर से सिर्फ आश्वासन मिले, पैसे नहीं. सबसे बड़ी बात ये है कि चीनी स्टॉक में है और मील इसकी कालाबाजारी करने की फिराक में है. ऐसे में मिल को तो फायदा होगा, लेकिन हम तो तरह-तरह की जलालत झेलने को मजबूर हैं ना. हमारी फैमिली परेशान है.

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading