खुशखबरी: गंगा नदी में बढ़ा डॉल्फिन का कुनबा, टूटे सारे पुराने रिकार्ड इस बार मिलीं 41 डॉल्फिन

गंगा नदी में इस बार पिछले कई सालों के मुकाबले डॉल्फिन की संख्या बढ़ी है.
गंगा नदी में इस बार पिछले कई सालों के मुकाबले डॉल्फिन की संख्या बढ़ी है.

गंगा नदी (Ganga River) में डाल्फिन (Dolphins) का कुनबा इस बार बढ़ गया है. 2015 के बाद से इस बार सबसे ज्यादा डॉल्फिन देखने को मिली हैं. पिछले साल अक्टूबर में हुई गणना में 35 डॉल्फिन थीं. लेकिन इस बार ये आंकड़ा 41 पहुंच गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2020, 12:19 PM IST
  • Share this:
मेरठ. गंगा नदी (Ganga River) में डाल्फिन (Dolphins) के कुनबे में बढ़ोत्तरी देखने को मिली है. पिछले साल अक्टूबर में हुई गणना में 35 डॉल्फिन थीं. लेकिन इस बार ये आंकड़ा 41 पहुंच गया है. यानी कि एक वर्ष में छह डॉल्फिन बढ़ी है. इस बार चार डॉल्फिन के चार बच्चे भी मिले हैं, जो बड़ी खुशखबरी है. वन विभाग (Forest Department) और डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के ज्वाइंट ऑपरेशन में पांच से नौ अक्टूबर तक छह जिले में डॉल्फिन की गणना की गई.

मेरठ की डीएफओ आदिति शर्मा का कहना है कि यह निश्चित तौर पर अच्छी खबर है कि गंगा में संरक्षण और संवर्धन के चलते डॉल्फिन की संख्या लगातार बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि गंगा में डॉल्फिन की संख्या बढ़ना बताता है कि गंगा की स्थिति भी अच्छी हो गई है क्योंकि गैंगेटिक डॉल्फिन साफ जल में ही रहती हैं.
इस बार बिजौनर से मुजफ्फरनगर के बीच सात डॉल्फिन देखी गईं. मेरठ से बिजनौर के बीच तेरह डॉल्फिन देखी गईं. मेरठ से हापुड़ के बीच गंगा में दस डॉल्फिन देखी गईं. हापुड़ से अमरोहा के बीच तीन डॉल्फिन देखी गईं. संभल से बुलंदशहर के बीच दो डॉल्फिन देखी गईं, जबकि अनूपशहर से नरौरा बैराज के बीच छह डॉल्फिन देखी गईं.यानी कुल 41 डॉल्फिन छह ज़िलों में देखी गई हैं.

हाथरस कांड: पीड़िता के पिता की तबीयत बिगड़ी, हॉस्पिटल में भर्ती होने से किया इनकार
पिछले वर्षों से तुलना की जाए तो 2015 में 22 डॉल्फिन देखी गई थीं. दो 2016 में 30 डॉल्फिन देखी गईं थीं. दो 2017 में बत्तीस डॉल्फिन देखी गईं थीं. दो 2018 में तैंतीस डॉल्फिन देखी गईं थीं. दो हज़ार उन्नीस में पैंतीस डॉल्फिन देखी गईं और इस बार दो हज़ार बीस की गणना में 41 डॉल्फिन देखी गई हैं, जो एक रिकॉर्ड है.



टेंडम मेथड से की गई गणना
डॉल्फिन की गणना टेंडम मेथड से की गई. इसमें दो वोट करीब आठ किलोमीटर की दूरी पर आगे-पीछे चलती हैं. डीएफओ ने बताया कि गणना टीमों के पास जीपीएस समेत अन्य उपकरण रहते हैं, जिनसे वह डाल्फिन की एक्टिविटी पर नजर रखते हैं. यदि एक डाल्फिन एक से अधिक बार दिखती है तो उसकी गिनती एक डाल्फिन के रूप में की जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज