पुलिसकर्मियों के इलाज को नोएडा पुलिस लाइन में बना 52 बेड का अस्पताल, 24 घंटे रहती है एम्बुलेंस और ऑक्सीजन

एम्बुलेंस और ऑक्सीजन की सुविधाओं के साथ 52 बेड का अस्पताल शुरु किया गया है.

पीड़ित पुलिसकर्मियों को लाने- ले जाने के लिए एम्बुलेंस का इंतजाम भी है. ऑक्सीजन (Oxygen) के लिए कंसंसट्रेटर रखे गए हैं. डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ भी है.

  • Share this:
    नोएडा. डयूटी किसी भी मौसम में हो या महामारी के दौरान, पुलिसकर्मियों (Policemen) के लिए कोई छुट्टी नहीं है. कोरोना महामारी के वक्त भी पुलिसकर्मी रात-दिन डयूटी कर रहे हैं. तमाम ऐहतियात बरतने के बावजूद भी इत्तेफाक से कई पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) हो चुके हैं और अभी भी हो रहे हैं. इसी के चलते नोएडा पुलिस (Noida Police) कमिशनरी के कमिशनर आलोक सिंह ने पुलिस लाइन में 52 बेड के अस्पताल की व्यवस्था की है. पीड़ित पुलिसकर्मियों को लाने- ले जाने के लिए एम्बुलेंस का इंतजाम भी है. ऑक्सीजन (Oxygen) के लिए कंसंसट्रेटर रखे गए हैं. डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ भी है.

    गौरतलब रहे नोएडा पुलिस कमिश्नरेट ने अपने पुलिस कर्मियों के लिए दूसरी सुविधाओं के साथ COVID-19 केयर L1 की सुविधा भी है. L2-L3 सुविधा के लिए टाई अप किया गय है. दवाईयां भी अस्पताल में ही मिलेंगी. कोरोना पॉजिटिव के खानपान को देखते हुए एक मैस भी बनाई गई है.

    यूपी की इन पुलिस लाइन में भी बनाए गए हैं अस्पताल

    नोएडा के अलावा यूपी में गोरखपुर में 200 बेड, अलीगढ़ में 120, हरदोई में 110, गाजियाबाद में 40 ऑक्सीजनयुक्त समेत 90 बेड बढ़ाए गये हैं. बहराइच में 60 बेड, मुजफ्फरनगर में 16 ऑक्सीजनयुक्त समेत 66 बेड, लखनऊ कमिश्नरेट में 20 ऑक्सीजन वाले बेड समेत 57 बेड, मेरठ में सभी 30 ऑक्सीजनयुक्त बेड हैं, गौतमबुद्धनगर कमिश्नरेट में 10 ऑक्सीजनयुक्त समेत 52 बेड, कानपुर कमिश्नरेट में सभी 16 ऑक्सीजनयुक्त बेड और वाराणसी कमिश्नरेट में 54 बेडों का कोविड केयर सेन्टर संचालित किया जा रहा है.

    जेवर एयरपोर्ट के पास 440 प्लॉट लेने के चक्कर में आवेदकों के फंस गए करोड़ों रुपये, जानिए वजह

    जीआरपी अैर पीएसी के जवानों को भी मिलेगी सुविधा

    यूपी की सभी पुलिस लाइन में कुल 2993 बेड के कोविड-केयर-सेन्टर बनाए गये हैं, जिनमें से 299 ऑक्सीजन वाले बेड हैं।. जबकि पीएसी वाहिनियों में कुल 628 बेड उपलब्ध कराए गये हैं. इनमें से 45 ऑक्सीजनयुक्त बेड हैं. इन कोविड सेंटर का फायदा जीआरपी के जवानों को भी मिलेगा.

    हालांकि जीआरपी की ओर से 107 बेडों और प्रशिक्षण निदेशालय द्वारा 236 बेडों का कोविड-केयर-सेन्टर संचालित किया जा रहा है. खास बात यह है कि सभी जिलों और पुलिस इकाईयों द्वारा खुद के पास मौजूद संसाधनों और पुलिस मुख्यालय द्वारा दी गई रकम का इस्तेमाल करके कोविड केयर सेन्टर की स्थापना की गयी है.