Home /News /uttar-pradesh /

Noida के 60 यू-टर्न क्यों बने ब्लैक स्पॉट, पुलिस के लैटर से हुआ खुलासा

Noida के 60 यू-टर्न क्यों बने ब्लैक स्पॉट, पुलिस के लैटर से हुआ खुलासा

सर्दियों के मौसम में तो यह यू-टर्न और भी खतरनाक हो जाते हैं. Demo pic

सर्दियों के मौसम में तो यह यू-टर्न और भी खतरनाक हो जाते हैं. Demo pic

नोएडा (Noida) के सेक्टर- एक, 62, 116 और 125 पर गौतम बुद्ध नगर (Gautam Budh Nagar) प्रशासन की खास निगाह है. इसके पीछे सबसे बड़ी वजह यह है कि जब दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में वायु प्रदूषण अपने चरम पर होता है तो नोएडा में सेक्टर- एक, 62, 116 और 125 में सबसे ज्यादा वायु प्रदूषण (Air Polluation) होता है. इसी को ध्यान में रखते हुए ऐहतियात बरती जा रही है. वायु प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों जिसमे पुराने वाहन शामिल हैं के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है. पीयूसीसी न होने और धुंआ छोड़ने वाले वाहनों का पहली बार 5 हजार का और दूसरी बार पकड़े जाने पर 10 हजार रुपये का चालान काटा जा रहा है. नोएडा जिले को तीन जोन में बांटकर ट्रैफिक पुलिस कार्रवाई कर रही है.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. जानकारों के मुताबिक वैसे तो नोएडा (Noida) में करीब 100 से भी ज्यादा यू-टर्न हैं. लेकिन शहर के 60 यू-टर्न ऐसे हैं जो कार-बाइक (Car-Bike) ही नहीं सभी तरह के वाहनों के लिए जानलेवा साबित हो रहे हैं. सर्दियों के मौसम में तो यह यू-टर्न (U-Turn) और भी खतरनाक हो जाते हैं. नोएडा पुलिस (Noida Police) के एक लैटर से इसका खुलासा हुआ है. पुलिस की तरफ से यह लैटर नोएडा अथॉरिटी को लिखा गया है. लेकिन आरोप है कि 3 महीने पहले लिखे गए इस लैटर का कोई भी जवाब नोएडा अथॉरिटी ने पुलिस को नहीं दिया है. वहीं आम पब्लिक का भी कहना है कि यू-टर्न के बनने से आराम कम मिल रहा है और परेशानी ज्यादा हो रही है.

    ऐसे जानलेवा बन रहे हैं नोएडा के यू-टर्न

    जानकारों का कहना है कि धुंध और कोहरे में यू-टर्न के आसपास ज्यादा एक्सीडेंट होने लगते हैं. असल में यू-टर्न के पास कुछ बुनियादी काम न होने की वजह से यह खतरनाक होते जा रहे हैं. अब तो इन्हें ब्लैक स्पॉट भी कहा जाने लगा है. बीते कुछ वक्त से नोएडा के 60 यू-टर्न के आसपास होने वाले हादसों की संख्या बढ़ गई है. असल में सर्दियों के मौसम में काफी घना कोहरा और धुंध होती है. इस दौरान यू-टर्न के आसपास रिफलेक्टर और बिलिंकर न लगे होने के चलते वाहनों को दूर से यू-टर्न नजर नहीं आते हैं.

    इतना ही नहीं बहुत सारी जगह पर ऐसे यू-टर्न हैं जिनकी दीवार रोड के बीच से शुरू होती है. ऐसे में बिना रिफलेक्टर और बिलिंकर के वाहन चालक को कुछ समझ नहीं आता है और हादसा हो जाता है. हालांकि इसी सब के चलते पुलिस की ओर से नोएडा अथॉरिटी को लैटर लिखा गया है. लेकिन अभी तक इस संबंध में कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है.

    Noida में 95 हजार वाहनों का रजिस्ट्रेशन हुआ कैंसिल, ऐसे चेक करें अपनी कार-बाइक की जानकारी

    अगर यू-टर्न के पास ऐसा हो तो कम होंगे हादसे

    यू-टर्न पर हादसे रोकने के लिए जरूरी है कि हर एक यू-टर्न पर रिफ्लेक्टर लगाए जाएं. यू-टर्न से 50 मीटर पहले से ही रोड पर अगर बिलिंकर लगे हों तो वाहन चालक दूर से ही समझ जाएंगे कि आगे यू-टर्न है और उसे धीमी गति के साथ चलना है. इतना ही नहीं जिस यू-टर्न के पास दो सड़क आपस में जुड़ती हैं, उससे पहले भी बिलिंकर लगाए जाने चाहिए. जहां यू-टर्न की दीवार शुरू होती है तो उससे पहले रेडियम के टेप वाले प्लास्टिक के पोल लगाए जाने चाहिएं. यू-टर्न के आसपास हाई मास्ट लाइट होनी चाहिए.

    Tags: Road accident, Traffic Police, नोएडा

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर