इसलिए 6 महीने में भी पुलवामा शहीदों के परिवार तक नहीं पहुंचे 75 लाख रुपये

News18Hindi
Updated: August 26, 2019, 11:50 AM IST
इसलिए 6 महीने में भी पुलवामा शहीदों के परिवार तक नहीं पहुंचे 75 लाख रुपये
पुलवामा अटैक में 40 से अधिक सीआरपीएफ के जवान शहीद हुए थे. (प्रतीकात्मक फोटो)

शिक्षक और कर्मचारियों ने अपना एक दिन का वेतन शहीदों के परिजन को देने का ऐलान किया था. लेकिन, प्रशासनिक लापरवाही के कारण अभी तक प्रभावितों तक यह राशि नहीं पहुंचाई जा सकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2019, 11:50 AM IST
  • Share this:
जम्‍मू-कश्‍मीर के पुलवामा (Jammu-Kashmir) में हुए भीषण आतंकी हमले में 40 से अधिक सीआरपीएफ (CRPF) के जवान शहीद हुए थे. वहीं, करीब 35 जवान घायल भी हो गए थे. पुलवामा अटैक (Pulwama Attack) के बाद पूरा देश जवानों के साथ उठ खड़ा हुआ था. हर तरह से घायल जवानों और शहीदों के परिवार की मदद का भरोसा दिलाया गया था. हर किसी ने अपने हिसाब से मदद भी की थी. इसी दौरान डॉ. बीआर आंबेडकर यूनिवर्सिटी और बेसिक शिक्षा विभाग आगरा (Agra) के शिक्षक और कर्मचारियों ने भी अपने वेतन से रुपये दिए प्रभावित जवानों के परिवार को दिया था. लेकिन, छह महीने बाद भी शिक्षकों द्वारा जमा की गई यह रकम अधिकारियों के खाते में नहीं गई है. कुल राशि तकरीबन 75 लाख रुपए है.

फरवरी 2019 में पुलवामा अटैक के बाद मार्च का वेतन मिलते ही डॉ. बीआर आंबेडकर यूनिवर्सिटी (आगरा) के शिक्षक और कर्मचारी संघ ने अपने एक दिन का वेतन सीआरपीएफ के शहीद जवानों के परिवार को दान में दे दिया था. यूनिवर्सिटी कर्मचारी संघ के अखिलेश चौधरी का कहना है, 'करीब 8 लाख रुपये जमा किए थे, लेकिन अफसोस की यह रुपया शहीदों के परिवार तक पहुंचने के बजाए अधिकारियों की लापरवाही से अभी बैंक खाते में ही पड़ा हुआ है.'

दूसरी ओर, बेसिक शिक्षा विभाग, आगरा के सभी टीचरों ने भी पुलवामा अटैक के बाद शहीदों के परिवार वालों की मदद के लिए एक-एक हजार रुपये इकट्ठा किए थे. यह एक हजार रुपये सीधे टीचरों के वेतन से ही काट लिए गए थे. इस तरह से करीब 60 लाख रुपये जमा हुए थे.

शहीद हुए जवानों के परिवार की मदद के लिए करीब 75 लाख रुपये की रकम जमा की गई थी.


यह पैसा भी विभाग में तैनात अधिकारी के खाते में ही पड़ा हुआ है. ब्याज लगने के बाद अब जमा हुई रकम में इजाफा भी हो चुका है.कुल रकम तकरीबन 75 लाख रुपए तक पहुंच चुका है. अधिकारी यह कहकर पल्ला झाड़ रहे हैं कि उन्‍हें यह नहीं पता कि अब इस पैसे को हम कहां भेजें. अब जब मामला लोगों के संज्ञान में आया तो अधिकारी कह रहे हैं कि इस पैसे का चेक बनवाकर मुख्यमंत्री राहत कोष में भेज दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें-तिहाड़ जेल के इन 12 बंदियों की वजह से 370 हटने पर भी शांत है कश्मीर

तिहाड़ जेल में कैदी का आरोप, पीठ पर जबरन लिखा गया अल्लाह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आगरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 26, 2019, 11:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...