मुन्ना बजरंगी की हत्या के आरोपी सुनील राठी का अपहरण!

SHAHZAD RAO | News18Hindi
Updated: June 2, 2019, 9:58 AM IST
मुन्ना बजरंगी की हत्या के आरोपी सुनील राठी का अपहरण!
फोटो- पुलिस के पहरे में आरोपी सुनील राठी.

दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद कुख्‍यात बदमाश सुनील राठी को परिवार से मिलने के लिए शनिवार को सात घंटे की पैरोल मिली थी. पुलिस कड़ी सुरक्षा में उसे लेकर उसके घर टिकरी जा रही थी.

  • Share this:
माफिया मुन्ना बजरंगी की हत्या के आरोपी सुनील राठी पर शनिवार की सुबह हमले की कोशिश की गई.  वह पैरोल पर दिल्ली से बागपत आ रहा था, तभी सुरक्षा घेरे को तोड़ते हुए कई गाड़ियां घुस गईं. हालांकि, पुलिस ने सतर्कता दिखाते हुए 5 कारों को रोक लिया और कार सवार लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी है.

सुनील को सहारनपुर-दिल्ली हाइवे होते हुए टीकरी ले जाया जा रहा था. सुबह 10 बजे करीब काफिला ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे के मवी कलां टोल पर पहुंचा. तभी अचानक से 5 एसयूवी गाड़िया सुनील राठी के काफिले में घुस आईं. इससे पहले की तिहाड़ जेल पुलिस कुछ समझ पाती, पांचों गाड़ियों ने जेल की उस गाड़ी को अपने घेरे में ले लिया, जिसमे सुनील राठी को ले जाया जा रहा था.

वायरलेस पर गूंजने लगा अपहरण का मैसेज
साथ चल रही जेल पुलिस में हड़कंप मच गया. तुरंत ही सुनील राठी का अपरहण करने का वायरलेस पर मैसेज गूंजने लगा. बागपत पुलिस ने एक्सप्रेस-वे पर चेकिंग शुरू कर दी. मौके पर जेल पुलिस ने भी कोशिशें शुरू कर दीं. इस घटना की सूचना तिहाड़ जेल दिल्ली भी पहुंच गई.

फोटो- पुलिस लाइन में खड़ीं ये ही वो गाड़ियां हैं जो सुनील राठी के काफिले में घुुुुसी थीं.


पूछताछ में मालूम पड़ा कि सभी युवक सुनील राठी के परिचित हैं. सुनील की सुरक्षा को लेकर वह अलग-अलग गाड़ियों से आए थे. वो चाहते थे कि सुनील को निजी सुरक्षा में बागपत ले जाया जाए.7 घंटे बाद जब सुनील राठी परिवार से मिलने के बाद तिहाड़ जेल रवाना हुआ, तब जाकर पुलिस ने हिरासत में लिए गए युवकों और गाड़ियों को छोड़ा.


इन मामलों का आरोपी है सुनील राठी
Loading...

गौरतलब रहे कि सुनील राठी पर मौजूदा वक्त में रंगदारी, हत्या, हत्या की कोशिश और लूट के 24 से ज्यादा मामले चल रहे हैं. 2018 में बागपत जेल में बंद मुन्ना बजरंगी गोली मारकर हत्या करने का आरोप सुनील राठी पर लगा है.

क्या कहते हैं सीओ?

वहीं, इस बारे में सीओ बड़ौत रामानंद कुशवाह का कहना है कि हमें सूचना मिली थी कि कुछ अज्ञात गाड़ियां सुनील राठी के काफिले में घुस आई हैं. उन्होंने सुरक्षा घेरे को तोड़ दिया है. हमले की आशंका जताई गई थी. इसके बाद हमने घेराबंदी कर उन्हें पकड़ लिया. बाद में हिदायत देकर उन्हें छोड़ दिया. वो सुनील राठी के ही परिचित थे. अपहरण की खबर गलत निकली थी.

37 सेकेंड के वीडियो के लिए सवा घंटे तक मां-बाप के सामने तड़पता रहा युवक, हुई मौत

तीसरी बीवी के लिए सलीम चाचा बन गया गायब कांस्टेबल धर्मवीर, पढ़ रहा था 5 वक्त की नमाज़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागपत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 2, 2019, 8:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...