7 साल बाद फिर से बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में फर्राटा भरेंगी कार, 2013 में हुई थी आखिरी फार्मूला वन रेस  

एक बार फिर बीआईसी के रेसिंग ट्रैक पर कार फर्राटा भरती हुईं नजर आएंगी. File photo

जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar International Airport) और फिल्म सिटी (Film City) की शुरआत को देखते हुए इसे चालू करने की जरूरत महसूस होने लगी है.

  • Share this:
    नोएडा. 7 साल बाद बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट (BIC) के फार्मूला वन (Formula One) रेसिंग ट्रैक से धूल हटाने की तैयारी शुरु हो गई है. एक बार फिर बीआईसी के रेसिंग ट्रैक पर कार फर्राटा भरती हुईं नजर आएंगी. यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) ने इसे लेकर तैयारी शुरु कर दी है. बीआईसी के रेसिंग ट्रैक पर आखिरी रेस साल 2013 में हुई थी. लेकिन उसके बाद आयोजनकर्ता कंपनी से हुए विवाद के चलते रेस खटाई में पड़ गई. अब जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar International Airport) और फिल्म सिटी (Film City) की शुरआत को देखते हुए इसे चालू करने की जरूरत महसूस होने लगी है. टूरिज्म कॉरिडोर को मजबूत बनाने के लिए फिर से यह कवायद की जा रही है.

    क्या कहते हैं यमुना अथॉरिटी के सीईओ

    यमुना एक्सप्रेसवे विकास प्राधिकरण के सीईओ डॉक्टर अरुण वीर सिंह का कहना है कि बीआईसी एक बड़ी योजना है. इसे दोबारा से शुरू करने के लिए कंपनी से बातचीत करने की योजना तैयार की जा रही है. बीआईसी की शुरुआत के वक्त ही कंपी के साथ यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर की 5 रेस आय आयोजित करने का कॉन्ट्रैक्ट हुआ था. कॉन्ट्रैक्ट साल 2009 में हुआ था. इसी कॉन्ट्रैक्ट के चलते 2011 में बीआईसी में पहली रेस का आयोजन हुआ था.

    इसके बाद साल 2012 और 2013 में भी रेस आयोजित की गईं थी. लेकिन 2013 की रेस यहां आखिरी रेस थी. इसके बाद यहां किसी भी तरह की रेस का आयोजन नहीं किया गया. कंपनी को शायद मनोरंजन कर को लेकर कोई ऐतराज था, इसी के चलते विवाद भी उत्पन्न हुआ था. इसी के बाद से यह ट्रैक बंद पड़ा है.

    120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेगी मेट्रो ट्रेन, DMRC तैयार कर रही रिपोर्ट

    ट्रैक शुरु होते ही रुके हुए प्रोजेक्टस को लगेंगे पंख

    जानकारों की मानें तो बीआईसी के आसपास 10 बड़े प्रोजेक्टस ऐसे हैं जो रुके हुए हैं. अगर बीआईसी का ट्रैक शुरु होता है तो इन प्रोजेक्ट का काम भी शुरु हो जाएगा. हालांकि एक बड़ी कंपनी से जुड़े कई प्रोजेक्ट्रस पर अथॉरिटी का सैकड़ों करोड़ रुपया बकाया है.

    इसकी वजह से भी काम रुका हुआ है. लेकिन बीआईसी बंद होने की वजह से ही कंपनी न तो अपने प्रोजेक्ट शुरु कर रही है ओर न ही अथॉरिटी का पैसा दे रही है. चर्चा यह भी है कि अथॉरिटी की जल्द ही होने वाली बोर्ड मीटिंग में इस पर कोई बड़ा फैसला भी लिया जा सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.