• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Jewar Airport के बाद अब Film City पर फैसले की बारी, बुधवार को होनी है लखनऊ में मीटिंग

Jewar Airport के बाद अब Film City पर फैसले की बारी, बुधवार को होनी है लखनऊ में मीटिंग

बुधवार को लखनऊ में फिल्म सिटी की डीपीआर पर फैसला लिया जाना है.  (Photo @GNoidaFilmCity)

बुधवार को लखनऊ में फिल्म सिटी की डीपीआर पर फैसला लिया जाना है. (Photo @GNoidaFilmCity)

Noida News: डीपीआर पर मुहर लगते ही फिल्म सिटी के लिए टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. 1 हजार एकड़ में बनने वाली फिल्म सिटी (Film City) का निर्माण पीपीपी मॉडल (PPP Model) पर होना है.

  • Share this:

    नोएडा. जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar International Airport) की जमीन ज्यूरिख कंपनी को सौंपने के बाद अब बारी फिल्म सिटी की है. बुधवार को लखनऊ में एक बड़ी मीटिंग होने जा रही है. उम्मीद है कि इस मीटिंग में फिल्म सिटी की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (DPR) पर यूपी सरकार की मुहर लग सकती है. यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) पहले ही डीपीआर तैयार करवाकर लखनऊ भेज चुकी है. एयरपोर्ट के पास ही फिल्म सिटी का निर्माण होना है. डीपीआर पर मुहर लगते ही फिल्म सिटी के लिए टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. गौरतलब रहे 1 हजार एकड़ में बनने वाली फिल्म सिटी (Film City) का निर्माण पीपीपी मॉडल (PPP Modal) पर होना है.

    डीपीआर तैयार करने वाली सीबीआरआई ने यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण को 15 खास प्रोजेक्ट सुझाए हैं. उसके मुताबिक हॉलीवुड की तर्ज पर बनने वाली फिल्म सिटी के लिए स्टेट ऑफ आर्ट स्टूडियो, आउटडोर सेट और शूटिंग विलेज बनाने होंगे. पोस्ट प्रोडक्शन के क्षेत्र में वीएफएक्स स्टूडियो बनाए जाएंगे. इसके अलावा एडिटिंग स्टूडियो और म्यूजिक डबिंग स्टूडियो बनेंगे.

    फिल्म प्रीमियम और फिल्म फेस्टीवल के लिए खास आयोजन स्थल होगा. फिल्म एकेडमी बनाने की भी जरूरत होगी. इसके साथ ही पंचतारा होटल, डॉरमेट्री, रिटेल शॉप, रेस्टोरेंट और मनोरंजन पार्क भी बनेंगे. साथ ही लोगों को फिल्मों का इतिहास बताने और दिखाने के लिए एक म्यूजियम बनाने की भी जरूरत होगी.

    Delhi-NCR में एक्सप्रेस-वे के किनारे बनेंगे दो प्राइवेट इंडस्ट्रियल पार्क, होंगी ये सुविधाएं

    ऐसे मिलेगा फिल्म सिटी में बिजनेस करने का मौका
    जानकारों की मानें तो फिल्म सिटी बसाने के लिए तीन मॉडल पर काम हो रहा है. पहला पीपीपी मॉडल, दूसरे मॉडल में यमुना प्राधिकरण खुद सीधे तौर पर प्लॉट बेचे और तीसरा मॉडल है यमुना प्रधिकरण को सरकार से सब्सिडी मिले और प्राधिकरण नोडल एजेंसी के तौर पर फिल्म सिटी को बसाए. लेकिन, आम लोगों को यहां रेस्टोरेंट, होटल और दुकान आदि के साथ ही एडिटिंग स्टूडियो और म्यूजिक डबिंग स्टूडियो समेत कई तरह के स्टूडियो खोलने का मौका मिलेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज