• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Agra Explainer:-आखिर क्यों फैल रहा है इतनी तेजी से इस साल डेंगू,बचाव के लिये जानिए एक्सपर्ट्स की राय

Agra Explainer:-आखिर क्यों फैल रहा है इतनी तेजी से इस साल डेंगू,बचाव के लिये जानिए एक्सपर्ट्स की राय

डेंगू

डेंगू से पीड़ित अस्पताल में भर्ती बच्चा

  • Share this:

    Explainer.
    आखिर क्यों फैल रहा है आगरा में डेंगू?
    आखिर क्यों ये वायरल बुखार तेजी से बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है ?

    हर साल आता है डेंगू और वायरल बुखार लेकिन ऐसा क्या है जो इस साल इतना घातक हो गया हैं वायरल बुखार?
    अब तक हो चुकी है 70 से ज्यादा लोगों की मौत ?
    क्या है इसके पीछे हकीकत क्या कहते है एक्सपर्ट्स …

    ऐसे तमाम सवाल है जो आपके जेहन में उठ रहे होंगे जिनके जवाब आपको इस वीडियो में मिलेंगे. दरअसल सिलसिला 3 महीने पहले से शुरू होता है. उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जनपद में डेंगू और वायरल बुखार का प्रकोप इतनी तेजी से फैला की डॉक्टर और प्रशासनिक अधिकारी भी नहीं समझ पा रहे है. आलम ये है कि पूरे आगरा जनपद में 45 बच्चों समेत 70 से ज्यादा लोगों की मौत वायरल बुखार की वजह से हुई.
    आखिर यह वायरल बुखार है क्या? ना ही ये  डेंगू है और ना ही कोविड-19 फिर भी डॉक्टरों ने से संक्रमण की श्रेणी में रखा है .अभी तक इसका सही इलाज भी नहीं मिला है. आलम यह है कि निजी अस्पतालों सभी सरकारी अस्पतालों में बेड तक उपलब्ध नहीं है .

    मरीजों को नहीं मिल रहे हैं प्लेटलेट में जम्मू पैक व प्लाज्मा
    पैथोलॉजी की तो हालत पूछिए ही मत. लोगों को प्लेटलेट्स और प्लाज्मा के लिए घंटों लाइन में खड़ा रहना पड़ता है.15 से 18 घंटे बीत जाने के बाद जम्मो पैक ,प्लेटलेट्स और प्लाज्मा  मिलता है. जिन्हें प्लाज्मा नहीं मिल पाता है. वह काल के गाल में समा जाते हैं . हमारे एक्सपर्ट ने बताया है कि किसी भी वायरस का एक परिवार होता है और उसमें हर साल परिवर्तन होते रहते हैं. समय के साथ वायरस अपने को स्ट्रांग करता रहता है. डेंगू की चार श्रेणियां होती हैं जिसमें D4 सबसे घातक है. मरीजों को तेज बुखार, उल्टी ,दस्त और बच्चों में निमोनिया की शिकायत व लक्षण देखे जाते हैं. इससे बचने का सबसे पहला तरीका है.अपने आसपास सफाई रखें, पानी इकट्ठा ना होने दें, घर के जिन कोने में अंधेरा वहां मच्छरों को भगाने के लिए
    एंटी मॉस्किटो स्प्रे का छिड़काव करें. सबसे बड़ी बात यह है कि किसी भी झोलाछाप डॉक्टर से इलाज ना लें. जहां तक हो दर्द निवारक गोलियां लेने से बचने की कोशिश करें. तुरंत डॉक्टर के पास जाएं.
    आगरा से हरिकांत शर्मा की रिपोर्ट

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज