होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Agra News: इन 3 क्रांतिकारियों के आगे नतमस्तक हो गई थी ब्रिटिश हुकूमत..

Agra News: इन 3 क्रांतिकारियों के आगे नतमस्तक हो गई थी ब्रिटिश हुकूमत..

UP News: आगरा के इतिहासकार राजकिशोर राजे अपनी किताब तवारीख -ऐ- आगरा में लिखते है कि बात 1940 की है जब आगरा की ऐतिहासिक ...अधिक पढ़ें

  • Local18
  • Last Updated :

    रिपोर्ट:हरिकांत शर्मा
    आगरा: 8 अप्रैल 1929 को भगत सिंह ,बटुकेश्वर दत्त ने दिल्ली के असेंबली में एक बम फोड़ा था.उस बम के धमाके ने ब्रिटिश हुकूमत की जड़े हिला दी थी.पूरे देश में इस बम धमाके की गूंज थी.लेकिन 27 सितंबर 1940 को भी एक ऐसा ही बम आगरा के क्रांतिकारियों ने एक अंग्रेजी अधिकारी के ऊपर फेंका था.जिसकी धमक से अंग्रेजों की चूलें हिल गई थी.यह क्रांतिकारी थे रोशन लाल गुप्त करुणेश, रामप्रसाद भारतीय और वासुदेव गुप्ता.बीते दिनों आगरा के बेलनगंज सड़क मार्ग का नाम क्रांतिकारी रोशन लाल गुप्त के नाम पर रखा गया है.आइए जानते हैं कि वह क्या घटना थी ? जिसकी वजह से यह तीनों क्रांतिकारी मशहूर हो गए थे .

    जब अंग्रेजी अधिकारी पर फेंका क्रांतिकारियों ने बम
    आगरा के इतिहासकार राजकिशोर राजे अपनी किताब तवारीख -ऐ- आगरा में लिखते है कि बात 1940 की है जब आगरा की ऐतिहासिक रामलीला को देखने के लिए उस वक्त का कलेक्टर हार्डी बेलनगंज के पुल के नीचे गौरैया बिल्डिंग के पास बैठा था.यह बरौलिया बिल्डिंग आज भी मौजूद है.हार्डी के सामने से राम बरात गुजर रही थी.तभी क्रांतिकारी रोशन लाल गुप्त करुणेश,रामप्रसाद भारती और वासुदेव गुप्ता ने योजनाबद्ध तरीके से हार्डी के ऊपर बम फेंका.इस बम कांड में अंग्रेजी अधिकारी हार्डी बुरी तरीके से घायल हो गया था.इस घटना से क्रांतिकारियों के हौसलों को मजबूती मिली थी.लेकिन अंग्रेजी सरकार की चूलें हिल गई थी.इस धमके की आवाज इंग्लैंड तक पहुंची थी.

    बेलनगंज मार्ग होगा अब रोशन लाल गुप्त करुणेश .
    बीते दिनों आगरा नगर निगम की कार्यकारिणी की हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि अब बेलनगंज मार्ग का नाम बदलकर रोशन लाल गुप्त करुणेश के नाम पर रखा जाएगा.आगरा के महापौर नवीन जैन ने बीते दिनों इस मार्ग का नाम बदलकर, क्रांतिकारी रोशन लाल गुप्त करुणेश के नाम पर रखा है.हालांकि इस पूरी घटना में दो और क्रांतिकारियों का योगदान था.उनके वंशज इस बात का विरोध कर रहे हैं कि एक ही क्रांतिकारी के नाम पर मार्ग का नाम क्यों रखा गया है ? इस बारे में जब मेयर से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बाद में शिला पट्टिका को बदल कर दोनों क्रांतिकारियों के नाम जोड़ दिए जाएंगे.

    Tags: Agra news, UP news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें