आगरा: कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित ने टोरंट कंपनी के खिलाफ प्रदर्शन न करने के लिए मांगे 5 लाख रुपए
Agra News in Hindi

आगरा: कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित ने टोरंट कंपनी के खिलाफ प्रदर्शन न करने के लिए मांगे 5 लाख रुपए
टोरंट कंपनी के खिलाफ प्रदर्शन को लेकर चर्चा में आई थीं मनोज दीक्षित

वायरल वीडियो में एक मीडिएटर के माध्यम से टोरंट कंपनी और कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित (Manoj Dikshit) के बीच डील चल रही है. डील में प्रदर्शन ने करने के एवज में पैसे मांगे जा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2020, 7:38 AM IST
  • Share this:
आगरा. ताज नगरी आगरा (Agra) में बिजली कंपनी के खिलाफ धरना-प्रदर्शन (Dhrana Protest) ने करने के एवज में कांग्रेस (Congress) जिलाध्यक्ष (District President) मनोज दीक्षित (Manoj Dikshit) का रिश्वत (Bribe) मांगने का एक सनसनीखेज वीडियो वायरल हुआ है. इस वायरल वीडियो में कांग्रेस जिलाध्यक्ष टोरंट कंपनी से एकमुश्त पांच लाख और हर तीन लाख रुपए की मांग करती नजर आ रही हैं. वीडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए जिला महासचिव शाहिद अहमद पर फंसाने का आरोप लगाया है. उधर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जिला महासचिव शहीद अहमद से भी इस्तीफा लेते हुए अनुशासनहीनता के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है.

वायरल वीडियो में चल रही है डील

वायरल वीडियो में एक मीडिएटर के माध्यम से टोरंट कंपनी और कांग्रेस जिलाध्यक्ष के बीच डील चल रही है. डील में प्रदर्शन ने करने के एवज में पैसे मांगे जा रहे हैं. वीडियो में कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित बैठी दिखाई दे रही हैं, एक मीडिएटर कह रहा है कि आपको भी नेतागिरी करनी है और टोरंट को भी कपनी कंपनी चलानी है. जनता कभी साथ में नहीं आएगी. मैं भी यहीं का हूं, जनता साथ में आ जाती तो टोरंट नहीं आती. आपको पॉलिटिक्स करनी है, वीडियो के अंत में मीडिएटर कह रहा है कि आपका कहना है कि 5 लाख आप को​ दिल वां दें, हां बिल्कुल और तीन लाख मंथली, हां बिल्कुल, मैं आपकी बात रखुंगा, मैं शाहिद भाई को दो से तीन दिन में बता दूंगा."



टोरंट कंपनी के खिलाफ किया था प्रदर्शन
गौरतलब है कि मनोज दीक्षित ने जिले में बिजली बिल माफी को लेकर बड़ा प्रदर्शन किया था. उन्होंने  एमजी रोड स्थित टोरंट कार्यालय में बडा आंदोलन किया था. जिसके बाद उन्हें अरेस्ट करने के बाद अस्थायी जेल में रखा गया. इसके बाद से जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित सुर्खियों में आईं थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज