गैंगरेप पीड़िता की इलाज के दौरान मौत, आरोपी दोनों जीजा गिरफ्तार

20 जून को छत्ता निवासी महिला को उसकी छोटी बहनों के पति मनीष और कमल खंदौली के गांव नंदलालपुर ले गए थे. यहां दोनों ने उसके साथ गैंगरेप किया और विरोध करने पर उसकी बेरहमी से पिटाई की.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 27, 2019, 8:18 AM IST
गैंगरेप पीड़िता की इलाज के दौरान मौत, आरोपी दोनों जीजा गिरफ्तार
सांकेतिक तस्वीर
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 27, 2019, 8:18 AM IST
आगरा के खंदौली थाना क्षेत्र में गैंगरेप का शिकार हुई महिला ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. गैंगरेप के दौरान महिला को बेरहमी से पीटा गया था जिससे वो बुरी तरह घायल हो गई थी. बीते 20 जून से वो अस्पताल में मौत से जंग लड़ रही थी. पुलिस ने अब कार्रवाई करते हुए महिला के आरोपी दोनों जीजा को गिरफ्तार कर लिया है.

यह घटना 20 जून की शाम को हुई थी जब छत्ता निवासी महिला को उसकी छोटी बहनों के पति मनीष और कमल खंदौली के गांव नंदलालपुर ले गए थे. यहां इन दोनों ने उसके साथ गैंगरेप किया और विरोध करने पर उसकी बेरहमी से पिटाई की. महिला की चीख-पुकार सुनकर बच्चों ने ग्रामीणों को बुला लिया था. जिसके बाद भीड़ ने एक आरोपी को पकड़ लिया था जबकि दूसरा फरार होने में कामयाब रहा था.



ग्रामीणों ने पीड़ित महिला को कमरे में अर्द्धनग्न और जख्मी हालत में पाया. उसके गर्दन, सिर और चेहरे पर चोट के निशान थे. जिसके बाद उसे इलाज के लिए इमरजेंसी वॉर्ड में भर्ती कराया गया था.

आरोपियों का पत्नी से चल रहा है विवाद

एसओ खंदौली प्रशांत त्यागी ने बताया कि बुधवार सुबह पीड़ित महिला ने दम तोड़ दिया. उसके शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है. उन्होंने कहा कि आरोपी मनीष को वारदात के वक्त ही लोगों ने पकड़ लिया था. जबकि कमल फरार हो गया था जिसे भी बाद में दबोच लिया गया है.

पुलिस के मुताबिक आरोपियों का उनकी पत्नी से विवाद चल रहा है. इस वजह से दोनों महिलाएं अपने मायके में रह रही हैं. मृतक महिला परिवार में सबसे बड़ी है और उसने भी अपने पति को छोड़ दिया था.

पूछताछ के दौरान आरोपियों ने कहा कि मृतक महिला की देखा-देखी ही उनकी भी पत्नियों ने घर-बार छोड़ दिया था. इसलिए वो पूरे परिवार को सबक सिखाना चाहते थे.
Loading...

ये भी पढ़ें:

यूपी: कांग्रेस ने रद्द कीं जिला कमेटियां, उपचुनाव के लिए अलग रणनीति

गोमती किनारे गंदगी: मुलायम की समधन समेत 4 अफसरों से वसूलेंगे 50-50 लाख
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...