होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

आगरा की 9 बेटियों ने ISRO में दिखाया दम, सेटेलाइट लांचिंग की बनीं गवाह

आगरा की 9 बेटियों ने ISRO में दिखाया दम, सेटेलाइट लांचिंग की बनीं गवाह

आगरा के कमला नगर स्थित गणेश रामनागर विद्यालय की 9 छात्राओं को पहली बार मौका मिला कि वह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संघठन यानी कि ISRO में सेटेलाइट लांचिंग का हिस्सा बनी है.उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से अपने अनुभव साझा किए .

रिपोर्ट- हरीकांत शर्मा

आगरा. दंगल फिल्म का एक मशहूर डायलॉग है… “हमारी छोरियां छोरों से कम नहीं है” ये डायलॉग आगरा की 9 बेटियों पर बिल्कुल सटीक बैठ रहा है. काबिलियत के दम पर आगरा की इन बेटियों ने शहर का नाम रोशन किया है. मौका था भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के आजादी सेटेलाइट के लांचिंग में अपनी भूमिका निभाने का. ISRO ने आजादी सैटेलाइट लॉन्च किया है.जिसमें आगरा की 9 बेटियों ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है. जब सेटेलाइट लांच हुई तो बेटियां इस पर का प्रत्यक्ष गवाह रही और यहां आगरा में बेटियों के परिवार में खुशी का माहौल था.

गणेश राम नगर कन्या इंटर कॉलेज की 9 छात्राओं के साथ 4 शिक्षक और प्रधानाचार्य इस ऐतिहासिक पल का हिस्सा रहे. सोशल मीडिया के माध्यम से इन सभी बेटियों ने सेटेलाइट लांचिंग के अनुभव को साझा किया.आगरा से जाते वक़्त भी वीडियो के द्वारा देश के प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त किया था .

छात्राओं ने ISRO के अनुभव को किया साझा .
आगरा के कमला नगर स्थित गणेश रामनागर विद्यालय की 9 छात्राओं को पहली बार मौका मिला कि वह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संघठन यानी कि ISRO में सेटेलाइट लांचिंग का हिस्सा बनी है.उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से अपने अनुभव साझा किए .जिसमें उन्होंने कहा कि लांचिंग के सभी पल बेहद खास और अद्भुत थे. पहली बार वे शहर से इतनी दूर किसी मिशन का हिस्सा बनी है. सभी छात्राओं ने अपने फोन से सेल्फी ली और अपने घर वालों से साझा की. घर वाले भी उनकी तस्वीर देख कर गदगद हो रहे हैं.

ISRO के मिशन में 750 छात्राओं ने दिया योगदान.
दरअसल इसरो(ISRO) ने आजादी के अमृत महोत्सव के तहत आजादी सेटेलाइट रविवार को लांच किया था.जिसमें देश भर के सरकारी स्कूलों की लगभग 750 छात्राओं ने अटल टिंकरिंग लैब में डिजाइन को तैयार किया है. आगरा के गणेश रामनागर विद्यालय को भी इसमें शामिल होने का मौका मिला है.

Tags: Agra news

अगली ख़बर