परिवार को त्याग चुकी महिला के लिए आश्रम वालों ने नहीं खोला ताला, गेट रातभर करती रही इंतजार

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के आगरा (Agra) में एक आश्रम के प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगे हैं. आरोप है कि आश्रम ने अपने यहां शरण लेने आई महिला (Women) के लिए दरवाजे नहीं खोले.

  • Share this:
आगरा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के आगरा (Agra) में एक आश्रम के प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगे हैं. आरोप है कि आश्रम ने अपने यहां शरण लेने आई महिला (Women) के लिए दरवाजे नहीं खोले. आलम ये था कि दोपहर में आश्रम में आई महिला देर रात तक बाहर गेट पर बैठी रही. महिला के रिश्तेदारों ने आश्रम प्रबंधन पर आरोप लगाए हैं कि आश्रम ने महिला को अपने यहां लेने से मना कर दिया. जबकि महिला वहीं रहने की जिद पर अड़ी हुई थी. मामले की जानकारी पुलिस को दी गई. इस बीच ग्रामीण भी आश्रम पहुंच गए.

मीडया रिपोर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के जबलपुर की रहने वाली लगभग 42 वर्षीय महिला आश्रम पहुंची थी. बताया जा रहा है कि वह दस साल पहले दीक्षा लेकर परिवार को त्याग चुकी है. महिला ने अपना बाकी जीवन आश्रम के नाम कर दिया है. महिला की एक बेटी है जो माउंट आबू में पढ़ती है. महिला अपने घर वालों से आगरा के आश्रम में पहुंचाने की कहा. बताया जा हा है कि बीते सोमवार की सुबह ननद उसे अपने साथ लेकर आगरा पहुंची. वह महिला के साथ सोमवार को पूरे दिन आश्रम को तलाशती रही. पता नहीं लगने पर दोनाें एक होटल में रूक गए. इसके बाद मंगलवार की सुबह महिला अपनी ननद के साथ आश्रम की तलाश में निकल पड़ी. उन्हें पता चला कि आश्रम ताजगंज के एकता चौकी क्षेत्र में है.

दोपहर में पहुंची आश्रम

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दोपहर में महिला को उसकी रिश्तेदार आश्रम लेकर पहुंची. लेकिन आश्रम के संचालक ने महिला को वहां रखने से मना कर दिया. संचालक का कहना था कि महिला पूर्व में आश्रम से रिश्ता तोड़कर जा चुकी है. इसलिए वह उसे दोबारा अपने यहां रहने की इजाजत नहीं दे सकते. वहीं महिला इस जिद पर अड़ गई कि वह आश्रम में ही रहेगी. क्योंकि उसने अपना बाकी जीवन आश्रम के नाम कर दिया हैत्र महिला और उसकी रिश्तेदार देर रात तक आश्रम के गेट पर बैठे रहे. वह स्टाफ काे समझाने का प्रयास करते रहे.
महिला के पक्ष में आए गांववाले

रिपोर्ट के मुताबिक महिला को आश्रम में प्रवेश नहीं देने पर गांव के लोग भी उसके पक्ष में आ गए. उनका कहना था कि महिला वहां रहना चाहती है, उसने आश्रम के लिए परिवार को त्याग दिया है. आश्रम को उसे अपने यहां लेना चाहिए. गांव के कुछ लोगों ने महिला को अपने यहां रहने का प्रस्ताव दिया, जब तक कि आश्रम वालों से उसकी सुलह नही हो जाती, लेकिन महिला का कहना था कि वह अपना बाकी का जीवन आश्रम यहीं पर बिताना चाहती है. मामले की जानकारी होने पर पुलिस भी पहुंच गई. आश्रम संचालक और महिला के बीच का विवाद सुलझाने का प्रयास किया, लेकिन अब तक सफलता नहीं मिली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज