Agra News: ऑक्सीजन- रेमडेसिविर के नाम पर ठगी करते साइबर अपराधी, पुलिस अलर्ट

ऑक्सीजन- रेमडेसिविर के नाम पर ठगी करते साइबर अपराधी (फाइल फोटो.

ऑक्सीजन- रेमडेसिविर के नाम पर ठगी करते साइबर अपराधी (फाइल फोटो.

एसपी ईस्ट (SP East) के. वेंकट अशोक ने बताया कि पुलिस के पास अब तक इस तरह से दो मामले सामने आए हैं.

  • Share this:

आगरा. कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के बीच साइबर अपराधियों (Cyber Crime) ने लोगों को ठगने का एक और तरीका निकाला है. यूपी के आगरा (Agra) जिले में साइबर अपराधी ऑक्सीजन (Oxygen) और रेमडेसिविर इंजेक्शन (Ramdesvir Injection) की घर और अस्पताल में डिलीवरी के नाम पर रकम जमा कर ठगने की कोशिश कर रहे हैं. आगरा में कुछ इसी तरह के मामले सामने आए हैं.

साइबर ठग सोशल मीडिया में ऑक्सीजन और रेमडिसिवर इंजेक्शन उपलब्ध कराने का झांसा दे रहे हैं और लोग उस झांसे में फंस भी रहे हैं. जो लोग मजबूर हैं या जिनको ऑक्सिजन और रेमडिसिवर इंजेक्शन की जरूरत है वो सोशल मीडिया में दिए गए नम्बरों पर सम्पर्क कर रहे हैं. संपर्क करने के बाद साइबर ठग ऑक्सिजन और रेमडिसिवर इंजेक्शन देने के एवज में रुपये अकाउंट में जमा करा रहे हैं. जिसको ऑक्सीजन या रेमडिसिवर इंजेक्शन की जरूरत होती और वह जैसे ही रुपये अकाउंट में जमा करवाता है. वैसे ही साइबर ठग अपना मोबाइल नंबर बंद कर लेते हैं. यानी बिना ऑक्सिजन और रेमडिसिवर इंजेक्शन दिए ही रुपये हड़प लेते हैं.

ऑक्सीजन की कमी से अपनों को खोया, अब सोशल टीम बनाकर सांसें बांट रहा UP का ये शहर

एसपी ईस्ट के. वेंकट अशोक ने बताया कि पुलिस के पास अब तक इस तरह से दो मामले सामने आए हैं. एक व्यक्ति ऑक्सीजन मिलने के लालच में आकर फंसा तो दूसरा रेमडिसिवर इंजेक्शन मिलने के लालच में फंस गया. जिस ठग से ऑक्सीजन देने की बात कही थी वह बिहार का रहने वाला था और उसने अकाउंटमें 15 हजार रुपये जमा करवाये थे . दूसरा मामला रेमडिसिवर इंजेक्शन का था. वह ठग दिल्ली का रहने वाला है और उसने 10 हजार रुपये खाते में जमा कराए थे. दोनों केस सामने आने के बाद कार्रवाही की जा रही है .

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज