होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /ग्लोबमास्टर की दहाड़, सुखाेई की हैरतअंगेज उड़ान; तिरंगा लेकर 8 हजार फीट की ऊंचाई से कूदते जवान, देखें VIDEO

ग्लोबमास्टर की दहाड़, सुखाेई की हैरतअंगेज उड़ान; तिरंगा लेकर 8 हजार फीट की ऊंचाई से कूदते जवान, देखें VIDEO

आगरा के एयर फोर्स स्टेशन में तीन दिनी 'समन्वय 2022 हार्ड एक्ससाइज' का आयोजन किया गया. जिसमें मंगलवार को अंतिम दिन आसिया ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- हरिकांत शर्मा

आगरा. आसमान को चीरते हुए लड़ाकू विमान सुखोई, चिनूक हेलीकॉप्टर, चीता हेलीकॉप्टर, लड़ाकू विमान और भारी भरकम ग्लोबमास्टर ने उड़ान भरी. इन लड़ाकू विमानों के हैरतअंगेज कारनामे देखकर उपस्थित लोग वाह कर उठे. इन विमानों की गर्जना से आसमान भी थर्रा गया. यह सब देखने को मिला आगरा एयरफोर्स स्टेशन में हुए समन्वय 2022 हार्ड एक्ससाइज में.

आइए, आपको बताते हैं आगरा के एयर फोर्स स्टेशन में तीन दिवसीय समन्वय 2022 हार्ड एक्ससाइज कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. जिसमें मंगलवार को अंतिम दिन आसियान देशों ने मिलकर राहत बचाव का साझा अभ्यास किया.

राहत और बचाव कार्य का साझा अभ्यास
देश में कहीं भी प्राकृतिक आपदा, भूकंप, बाढ़ या फिर कैसी भी अनहोनी हो उस से निपटने के लिए और लोगों तक जल्द राहत सामग्री उपलब्ध कराने के लिए मंगलवार को आगरा के एयरफोर्स स्टेशन में आसियान देशों ने मिल कर सैन्य अभ्यास किया. जिसमें कंबोडिया, इंडोनेशिया, मलेशिया, म्यांमार फिलीपींस, सिंगापुर और भारत की वायुसेना भी शामिल थी. इस कार्यक्रम में देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, CDS, जर्नल अनिल चौहान, एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी उपस्थित रहे. कार्यक्रम में वायु सेना के जांबाज जवानों ने हैरतअंगेज कारनामे दिखाए. 8000 फीट की ऊंचाई से वायु सेना के जांबाजों ने तिरंगा को लेकर छलांग लगाई.

आपदा में मिलकर सहयोग करने की है जरूरत
देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने एक उदाहरण से समझाया कि अगर नाव में बड़ी संख्या में लोग सवार हो और नाव के एक कोने पर छेद हो जाता है, तो उस नाव में सवार प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी होगी की उस छेद को भरे. किसी एक की नहीं. ठीक उसी तरह से अगर देश में या फिर मित्र राष्ट्रों पर कोई आपदा आती है तो पड़ोसी देशों की जिम्मेदारी होती है कि उन तक राहत सामग्री और अपने संसाधनों से उस देश की मदद करें.

एक दूसरे की करनी चाहिए मदद
उन्होंने अपने उद्बोधन में भारतीय वायुसेना की प्रशंसा करते हुए कहा कि लगातार हम सुरक्षा के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं. वर्तमान परिवेश में किसी भी तरीके की देवी आपदा से निपटने के लिए भारतीय वायु सेना पूरी तरह से तैयार है. आपदा के समय सभी मित्र राष्ट्रों खासकर आसियान देशों को एक दूसरे की मदद करने पर भी जोर दिया. उसके बाद राजनाथ सिंह ने वायुसेना की तरफ से लगाई गई प्रदर्शनी में सुरक्षा से जुड़े उपकरणों की जानकारी ली.

Tags: Agra news, Indian air force

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें