लाइव टीवी

ताजमहल के आस-पास के इलाके में अजगर ही अजगर, अब तक 100 से ज्यादा दिखे

Himanshu Tripathi | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 23, 2019, 1:19 PM IST
ताजमहल के आस-पास के इलाके में अजगर ही अजगर, अब तक 100 से ज्यादा दिखे
आगरा में ताजमहल के आस-पास हैं सैकड़ों अजगर

इंसानी आबादी में घुसपैठ करने वाले इन अजगरों को बचाने को लेकर ग्रामीणों के साथ-साथ संस्थाएं भी जागरूक रहती हैं जिसका सुखद परिणाम है कि आगरा में हर साल अजगरों की बड़ी उपस्थिति नजर आती है.

  • Share this:
आगरा. विश्व प्रसिद्ध ताजमहल (Tajmahal) के आसपास के गांवों में सैकड़ों अजगरों (Pythons) का बसेरा है. पिछले एक महीने में ताजमहल के आसपास के लगभग 25 किलोमीटर के एरिया में अजगर ही अजगर दिख रहे हैं. पिछले एक माह में सौ से ज्यादा अजगर शहर से लेकर देहात तक देख गए. अन्य सांपों को भी अगर जोड़ लें तो दो सौ से ज्यादा सरीसृपों को वाइल्ड लाइफ (Wild Life) संस्था के द्वारा रेस्क्यू किया गया है.

बारिश शुरू होते ही निकलने लगते हैं अजगर

दरअसल, आगरा के आसपास का इलाका शुरू से ही अजगरों के लिए मुफीद रहा है. यही कारण है कि जुलाई महीने से अजगरों का रुख आबादी वाले क्षेत्रों में शुरू हो जाता है और यह क्रम अक्टूबर तक चलता रहता है. खास बात यह है कि आगरावासी अजगर को मारते नहीं बल्कि उसे पकड़कर जंगलों में छोड़ देते हैं. विशेषज्ञ बताते हैं कि बारिश शुरू होने के साथ ही अजगर यमुना के किनारे के घने जंगलों को छोड़ इधर-उधर भागना शुरू कर देते हैं. जंगलों से सटे हाइवे, फैक्ट्री एरिया और ताजमहल के आसपास के इलाके में अजगर अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हैं. पर्यटन स्थल महताब बाग से ताजमहल देखने के लिए हर दिन हजारों की संख्या में पर्यटक आते हैं. पिछले दिनों महताब बाग में भी दो बार अजगर निकला जिसे रेस्क्यू कर जंगल में छोड़ दिया गया.

इतने अजगर निकले

बीते कुछ दिनों की बात करें तो 11 सितंबर को ताजमहल से 15 किलोमीटर दूर सिकंदरा स्थित एक फैक्ट्री में अजगर निकला. इसे रेस्क्यू करने में एक घंटे से ज्यादा वक्त लगा. 20 सितंबर को ताजमहल से चंद किलोमीटर की दूरी पर ग्वालियर हाईवे पर छह फीट लंबा अजगर दिखाई पड़ा. इसे एसओएस संस्था के सदस्यों ने रेस्क्यू किया. सात अक्टूबर को जोग सोहणा गांव में पांच फीट लंबा अजगर पाया गया. इसे भी रेस्क्यू टीम ने पकड़कर जंगल में छोड़ दिया. सात अक्टूबर को एक कोबरा और अजगर सहित कुल चार सांप रेस्क्यू किए गए. 10 अक्टूबर को पनवारी में जहरीले लंबे करैत ने लोगों को डराया. रेस्क्यू के बाद ग्रामीणों की जान में जान आई. 19 अक्टूबर को किरावली क्षेत्र के एक ट्यूबवेल में रेस्क्यू टीम ने छह फीट लंबे कोबरा का रेस्क्यू किया. इसी दिन एक विशाल अजगर का भी रेस्क्यू किया गया.

Agra python
आगरा में ताजमहल के किनारे अजगरों का डेरा


ग्रामीण अजगर को मारते नहीं
Loading...

बता दें कि आगरा में यमुना के किनारे अधिकतर स्मारक बने हैं. ताजमहल, महताबबाग, आगरा फोर्ट यमुना के किनारे पर हैं तो सिकंदरा में अकबर टॉम्ब यमुना से कुछ दूरी पर है. यमुना नदी और स्मारकों के बीच घने जंगलों में बड़ी संख्या में अजगर पाए जाते हैं. यही अजगर अकसर स्मारकों के आसपास के कॉलोनियों, बाजारों और कुछ दूरी पर बने फैक्ट्री एरिया में पहुंच जाते हैं. इंसानी आबादी में घुसपैठ करने वाले इन अजगरों को बचाने को लेकर ग्रामीणों के साथ-साथ संस्थाएं भी जागरूक रहती हैं जिसका सुखद परिणाम है कि आगरा में हर साल अजगरों की बड़ी उपस्थिति नजर आती है.

ये भी पढ़ें:

Kamlesh Tiwari ने हत्या से एक दिन पहले ट्विटर पर शेयर की थी 16 मंदिर-मस्जिदों के नाम वाली ये लिस्ट

कमलेश तिवारी ने मर्डर से एक दिन पहले राम मंदिर के लिए लिखी थी ये बड़ी बात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आगरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 11:32 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...