लाइव टीवी

52 लाख की फिरौती मामला: IG की टीम ने पकड़ा इंस्पेक्टर का सफ़ेद झूठ !

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 11, 2020, 11:52 PM IST
52 लाख की फिरौती मामला: IG की टीम ने पकड़ा इंस्पेक्टर का सफ़ेद झूठ !
आईजी आगरा की तरफ से 10 लोगों को नोटिस जारी की गई है.(सांकेतिक तस्वीर)

डाॅक्टर अपहरण कांड (Doctor kidnapping case) में एसएसपी मथुरा (SSP Mathura) शलभ माथुर, मथुरा के एसपी क्राइम और सीओ रिफाइनरी सहित दस लोगों को आईजी की तरफ से नोटिस जारी की गई है.

  • Share this:
आगरा. डाॅक्टर के अपहरण कांड (Doctor's kidnapping case) के हाई-प्रोफाइल मामले की लीपा-पोती में मथुरा की पुलिस (Mathura Police) लगातार फंसती जा रही है. मथुरा के डाॅक्टर से 52 लाख की फिरौती वसूली के मामले की लीपापोती में आगरा (Agra) में जांच टीम के सामने न पेश होने पर जब इस मामले से जुड़े इंस्पेक्टर जगदम्बा से फोन पर टीम ने जानकारी लेनी चाही तो उन्होंने बताया कि वह राजस्थान में दबिश के सिलसिले में हैं, लेकिन उनका झूठ पकड़ा गया.

एसएसपी समेत 10 लोगों को नोटिस
दरअसल इंस्पेक्टर ने जैसे ही खुद को राजस्थान में बताया तत्काल आईजी की जांच टीम ने इंस्पेक्टर के मोबाइल फोन की लोकेशन चेक की तो वह लखनऊ की निकली. इंस्पेक्टर का सफेद झूठ पकड़ में आने के बाद अब इस बात के संकेत मिले हैं कि उन पर बहुत जल्द कार्रवाई हो सकती है. डाॅक्टर अपहरणकांड में एसएसपी मथुरा शलभ माथुर, मथुरा के एसपी क्राइम और सीओ रिफाइनरी सहित दस लोगों को आईजी की तरफ से नोटिस जारी की गई है.

52 लाख की फिरौती मामले की लीपापोती में फंसी है पुलिस

गौरतलब है कि मथुरा के प्रतिष्ठित हड्डी रोग विशेषज्ञ का अपहरण करके अपराधियों ने 52 लाख की फिरौती वसूली थी. दस दिसंबर की इस सनसनीखेज घटना से सहमे डाॅक्टर ने एफआईआर (FIR) नहीं दर्ज कराई थी. बाद में पुलिस तक यह मामला पहुंचा तो मथुरा पुलिस ने सर्विलांस के जरिए एक अपहरणकर्ता को दबोच लिया. पुलिस पर आरोप है कि मेरठ के उक्त अपहरणकर्ता से रकम वसूली गई और फिर मामले की लीपापोती कर दी गई.

यह मामला जब एडीजी लॉ एंड आर्डर (ADG Law & Order) पीवी रामाशास्त्री के संज्ञान में आया तो उन्होंने इसकी जांच आगरा के आईजी (IG of Agra) सतीश गणेशन को सौंप दी. अब आगरा के आईजी सतीश के नेतृत्व में एक टीम इस हाईप्रोफाइल मामले की जांच कर रही है. मथुरा के एसएसपी को तेरह प्रश्नों का जवाब एक प्रश्नावली देकर मांगा गया है. मथुरा के एसपी क्राइम और सीओ रिफाइनरी के साथ साथ हाइवे थाने के सिपाही विनोद के बयान आईजी आफिस में दर्ज किए जा चुके हैं. इस मामले की लीपापोती का मास्टरमाइंड इंस्पेक्टर जगदम्बा को माना जा रहा है. इंस्पेक्टर जगदंबा आगरा में तैनाती के दौरान भी एक ही स्टिंग में फंसकर पूर्व में भी निलंबित किये जा चुके हैं.

 ये भी पढ़ें- अयोध्या पुलिस ने लूट की वारदातों का किया खुलासा, गिरोह के सरगना की तलाश....


आगरा: डॉक्टर से 52 लाख रुपए की फिरौती वसूली की लीपापोती में फंसे अफसरों के छूटे पसीने

कानपुर में महिलाओं का CAA के खिलाफ प्रदर्शन जारी, पुलिस से नोटिस वापस लिए जाने की मांग....

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आगरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 11:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर