मिलिए आगरा के लॉकडाउन-मैन से, जिसने शहर को स्वच्छ बनाने सौंप दिया अपना जीवन

Agra News: लॉकडाउन-मैन के नाम से पहचाने जाने वाले विजय कुमार गौतम हर सुबह माइक और झाड़ू लेकर सफाई के लिए निकल पड़ते हैं.

Agra News: लॉकडाउन-मैन के नाम से पहचाने जाने वाले विजय कुमार गौतम हर सुबह माइक और झाड़ू लेकर सफाई के लिए निकल पड़ते हैं.

Lockdown Man of Agra: विजय कुमार गौतम को आगरा के लोग लॉकडाउन-मैन के नाम से जानते हैं. वह आगरा को साफ रखने के लिए रोज माइक और झाड़ू लेकर निकल पड़ते हैं. वह शहर में न सिर्फ गंदगी बीनते हैं, बल्कि सड़क पर थूकने वालों को हिंदी और अंग्रेजी में नसीहत भी देते हैं.

  • Share this:
आगरा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान से प्रभावित एक शिक्षक ने आगरा शहर में अपनी अलग पहचान बना ली है. इनका नाम है विजय कुमार गौतम. लोग उन्हें लॉकडाउन-मैन (Lockdown Man of Agra) के नाम से जानते हैं, लेकिन उनका काम शहर की गंदगी को से दूर रखना है. वह शहर में न सिर्फ गंदगी को बीनते हैं, बल्कि सड़क पर थूकने वाले लोगों को भी टोककर हिंदी और अंग्रेजी में नसीहत देते हैं. लॉकडाउन के दौरान शिक्षक विजय कुमार गौतम ने आगरा में स्वच्छता के संदेश के प्रसार को अपने जीवन का हिस्सा बना लिया.

गौतम ने लॉकडाउन मैन का चोला पहन लिया. जो जैकेट शिक्षक वे पहनते हैं उस पर लॉकडाउन मैन में लिखा है. इस पर उनका मोबाइल नंबर भी अंकित है. हाथ में लाउडस्पीकर लेकर शहर के सभी चौराहों पर विजय कुमार गौतम स्वच्छता का संदेश देते हैं. यदि कोई उन्हें चौराहे पर गंदगी फैलाता हुआ, मसाला खाकर थूकता हुआ नजर आता है, तो उसकी हिंदी और अंग्रेजी में जमकर क्लास भी लगाते हैं. ऐसा करने के बाद विजय कुमार गौतम नसीहत देते हैं कि स्वच्छता को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं.

न्यूज 18 से बात करते हुए विजय गौतम ने कहा कि जब लॉकडाउन लगा तो वह बेरोजगार से हो गए. अपने घर में ट्यूशन पढ़ाते थे लेकिन लॉकडाउन की वजह से बच्चे नहीं आ रहे थे. इन हालातों में विजय कुमार गौतम ने एक नई सोच को जन्म दिया. 8 महीने से अधिक समय से विजय कुमार गौतम हर दिन अपने घर से लॉकडाउन मैन का चोला पहनकर के निकल पड़ते हैं. उनके हाथों में छोटी माइक होती है जिसके जरिए वह हिंदी-अंग्रेजी में बारी-बारी से गंदगी ना फैलाएं स्वच्छता अपनाएं, मास्क जरूर पहनें, 2 गज की दूरी बनाए रखें जैसे समाज को प्रेरणा देने वाले संदेश देते हैं. विजय गौतम एसएसपी दफ्तर के सामने अधिवक्ताओं को भी स्वच्छता का संदेश देने से नहीं चूकते.

एसपी दफ्तर के सामने एक अधिवक्ता के थूकने पर विजय कुमार गौतम ने माइक के जरिए ही उन्हें ऐसा न करने की नसीहत दी. पूरा शहर शिक्षक विजय कुमार गौतम को अब लॉकडाउन-मैन के नाम से पुकारता है. विजय कुमार गौतम तंगहाली में जी रहे हैं. न्यूज़ 18 से बात करते-करते उनकी आंखें भी छलक आईं, लेकिन उनमें जज्बे और जोश की कोई कमी नहीं है. लॉकडाउन के दिनों को याद करते हुए बेशक विजय कुमार गौतम की आंखों में आंसू आ गए , लेकिन वर्तमान में विजय जो कर रहे हैं इसके लिए उन्हें गर्व है. 61 साल के विजय कुमार गौतम ट्यूशन के जरिए अपना घर परिवार चला लेते हैं. बाकी हर दिन कम से कम 6 घंटे पूरे शहर में लॉकडाउन मैन का चोला पहनकर के स्वच्छता का शानदार संदेश देते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज