Assembly Banner 2021

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस विशेष : बेटी के दिल के इलाज के लिए मां ने कर लिया दिल मजबूत

अपनी बेटी के साथ अपने ई-रिक्शा में सरिता उपाध्याय.

अपनी बेटी के साथ अपने ई-रिक्शा में सरिता उपाध्याय.

आगरा की रहने वाली सरिता उपाध्याय को जब पता चला कि उनकी बच्ची के दिल में छेद है तो उन्होंने किसी से मदद मांगने के बजाय ई रिक्शा चलाना पसंद किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 8, 2021, 10:58 PM IST
  • Share this:
आगरा. ताज नगरी में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के शक्ति मिशन को साकार करती हुई आगरा (Agra) की बेटी एमजी रोड पर ई-रिक्शा (E-rickshaw) दौड़ा रही है. आगरा की रहने वाली सरिता उपाध्याय (Sarita Upadhyay) को जब पता चला कि उनकी बच्ची के दिल में छेद है तो उन्होंने किसी से मदद मांगने के बजाय ई रिक्शा चलाना पसंद किया. बच्ची के इलाज में होने वाले खर्च को लेकर हो रही परेशानी दूर करने के लिए सरिता उपाध्याय एमजी रोड पर भगवान टॉकीज चौराहे से लेकर राजा मंडी बाजार तक ई-रिक्शा चलाती हैं.

बेटी की सेहत का जिम्मा अपने कंधे पर उठाया

न्यूज18 से सरिता ने कहा कि जब उन्हें पता चला कि बच्ची के दिल में छेद है, तो वे परेशान हो उठीं. पति काम करते थे, लेकिन उससे सिर्फ घर ही चल पाता था. ऐसे में उन्होंने ई-रिक्शा चलाने की ठानी. इसके बाद काफी दिनों तक ई-रिक्शा चलाना सीखा. फिर एक दिन ऐसा आया जब वह बेधड़क होकर सवारियों को बैठाकर ई-रिक्शा चलाने लगीं. ई-रिक्शा से होने वाली ज्यादातर कमाई बच्ची के इलाज पर खर्च हो जाती है और पति की जो कमाई होती है उससे सरिता का घर चलता है.



कॉलेज की छात्राएं करती हैं सरिता के ई-रिक्शा का इंतजार
महिला दिवस पर भी खुशी खुशी सरिता उपाध्याय ई-रिक्शा चला रही थीं. उनके ई-रिक्शा में सबसे ज्यादा महिला सवारियां बैठती हैं. महिला सवारियां और आगरा कॉलेज जाने वाली छात्राएं उनकी राह देखती रहती हैं. जैसे ही सरिता उपाध्याय का ई-रिक्शा पहुंचता है, तो मिनट भर में फुल हो जाता है. बड़ी संख्या में स्टूडेंट और महिलाएं उनको सपोर्ट करती हैं. आगरा की बेटी सरिता उपाध्याय ने साबित कर दिया कि अगर हौसला है तो बेटियों को आसमान में ऊंची उड़ान भरने से कोई नहीं रोक सकता.

प्रशासन से मिली है एमजी रोड पर रिक्शा चलाने की अनुमति

आगरा के व्यस्त एमजी रोड पर ऑटो रिक्शा और ई-रिक्शा चलाना प्रतिबंधित है. लेकिन जब प्रशासन को सरिता उपाध्याय के बारे में यह पता चला कि वह ई-रिक्शा चलाकर अपनी बच्ची के दिल की बीमारी का इलाज करा रही हैं तो प्रशासन ने उनके प्रति सहानुभूतिपूर्ण रवैया अपनाया. जिला प्रशासन ने सरिता उपाध्याय को ई-रिक्शा चलाने के लिए अनुमति पत्र जारी किया है. सरिता उपाध्याय कहती हैं एमजी रोड पर ई रिक्शा चलाने की अनुमति से उनके बच्ची का इलाज आसानी से हो जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज