होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /UP: आगरा की हिमानी ने बदल दी यमुना की तस्वीर, इस मुहिम में बच्चों का मिला साथ, और फिर...

UP: आगरा की हिमानी ने बदल दी यमुना की तस्वीर, इस मुहिम में बच्चों का मिला साथ, और फिर...

Agra News: 1 साल पहले हिमानी चतुर्वेदी और उनके वॉलिंटियर ने मिलकर यमुना के घाटों को गोद लेकर सफाई का जिम्मा उठाया था.धी ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: हरिकांत शर्मा

आगरा. ताजनगरी आगरा की रहने वाली हिमानी चतुर्वेदी ने एक मुहिम चलाई है. उन्होंने देखा कि लोग यमुना में कचरा, पूजा सामग्री और पॉलिथीन फेंक रहे हैं. जिसके बाद उन्होंने यमुना को गंदगी से बचाने के लिए आस पास के बच्चों को इकट्ठा किया. जहां वे बच्चों के साथ सफाई करने में जुट गई हैं. इस मुहीम को 1 साल बीत चुके हैं और अब बच्चों के साथ मिलकर हिमानी घाटों की तस्वीर बदल रही हैं. हिमानी चतुर्वेदी UPSC की पढ़ाई कर रही हैं. साथ ही योग भी सिखाती हैं.

घाटों की सफाई के लिए छोटे बच्चे आये साथ
जब हिमानी चतुर्वेदी ने यमुना के घाटों को साफ करने की ठानी. शुरुआत में उनके साथ एक दो ही लोग थे. लेकिन धीरे-धीरे हिमानी ने आसपास के बच्चों को अपने साथ लिया और घाटों की सफाई करने जुट गईं. उन्होंने शुरू में 500 मीटर के दायरे के घाट को गोद लिया. हर रविवार को इन घाटों की सफाई करने लगी. कारवां धीरे-धीरे बढ़ता गया और 1 साल में अब इन घाटों की तस्वीर बदल गई. हिमानी के साथ में कई वॉलिंटियर्स भी जुड़ गए हैं. अब 30 से 40 लोग साथ हैं, जो नींव के पत्थर की तरह काम कर रहे हैं.

यमुना को कर रहे प्रदूषित
हिमानी चतुर्वेदी का कहना है कि लोग आस्था के नाम पर हमारी जीवनदायिनी नदियों को नाला बना रहे हैं.धर्म के नाम पर पूजा सामग्री कचरा और पॉलिथीन नदियों में फेंकते हैं. जिसकी वजह से नदियों का पानी प्रदूषित हो रहा है.उसमें रहने वाले जलीय जीव भी मर रहे हैं. इसके लिए हिमानी लोगों को जागरूक भी कर रही हैं. जिससे वह पूजा सामग्री, पॉलिथीन और ऐसी कोई भी चीज पानी में ना फेंके. जिसकी वजह से नदिया गंदी हो. लेकिन लोगों की अजीब प्रतिक्रिया देखने को मिलती हैं. समझाने के बावजूद भी लोग चोरी छुपे पॉलिथीन कचरा और पूजा सामग्री, पीओपी की बनी मूर्तियां आज भी यमुना में फेंकते है. जो अपने समाज के लिए गलत संदेश दे रहे हैं.

जागरूक करने के बाद भी लोग फेंकते है कचरा
हिमानी चतुर्वेदी और बच्चों ने मिलकर यमुना के घाट को गोद लेकर सफाई करने की सोची तो शुरुआत में बेहद दिक्कतों का सामना करना पड़ा था. लोग उन्हें हास्यास्पद दृष्टि से देखते थे. साथ ही उन पर कमेंट भी करते थे कि 1 दिन में सफाई करने से आप क्या बदलाव ला पाएंगे. इसके साथ ही जब भी वह लोगों को पीओपी की बनी मूर्तियां पूजा सामग्री पॉलिथीन यमुना में फेंकने से मना करती थी तो उन्हें बदले में अजीबोगरीब प्रतिक्रिया मिलती थी. कई लोग झगड़ा करने पर उतारू हो जाते थे, तो कई लोग कहते थे कि आप किस विभाग से हैं और आपकी बात हम क्यों माने?

बदल रही है यमुना की तस्वीर
1 साल पहले हिमानी चतुर्वेदी और उनके वॉलिंटियर ने मिलकर यमुना के घाटों को गोद लेकर सफाई का जिम्मा उठाया था.धीरे-धीरे अब इन घाटों की तस्वीर बदल रही है. वॉलिंटियर हर रविवार को इन घाटों की सफाई करते हैं. यहां से पूजा सामग्री कचरा पॉलिथीन उठाकर डस्टबिन में डालते हैं. नतीजा घाट देखने में बेहद साफ लग रहे हैं. साथ ही अब लोगों को जागरूक करते हैं कि वह कर्मकांड के नाम पर यमुना को प्रदूषित ना करें.

बच्चों के साथ शहर के लोग भी मुहिम से जुड़ने लगे
धीरे धीरे बच्चों के साथ-साथ शहर के अन्य लोग भी जुड़ रहे हैं और घाटों की तस्वीरों को बदल रहे हैं. साथ ही अब बच्चों का कारवां बढ़ता जा रहा है. पढ़ाई के साथ-साथ यमुना की सफाई को भी समय देते हैं.

उन्हें नया नारा दिया है. “हमने ठाना है पानी को बचाना है ” बच्चों की इस मुहिम को लोगों का अब सपोर्ट मिल रहा है.

Tags: Agra news, CM Yogi, Polluted water, River Yamuna, Up pollution, UP Pollution Control Board

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें