NCB ने बरामद की 12 करोड़ की प्रतिबंधित दवाएं, चार तस्कर गिरफ्तार, यूरोपीय देशों तक फैला है कारोबार

आतंक का पर्याय बन चुके ड्रग्स माफिया को NCB ने दबोचा. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

आतंक का पर्याय बन चुके ड्रग्स माफिया को NCB ने दबोचा. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

एनसीबी ने 12 करोड़ की प्रतिबंधित दवाइयां बरामद कर 4 लोगों को गिरफ्तार किया है. ये दवाइयां अवैध तरीके से तस्करी कर विदेश भेजी जा रहीं थीं. दवाओं की खरीद फरोख्त डार्कनेट के जरिये की जा रही थी.

  • Share this:
आगरा. उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh) के आगरा ( Agra) में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau) ने प्रतिबंधित दवाओं का अवैध कारोबार करने वाले गिरोह को पकडऩे में सफलता प्राप्त की है. एनसीबी ने 12 करोड़ की प्रतिबंधित दवाइयां बरामद कर 4 लोगों को गिरफ्तार किया है. ये दवाइयां अवैध तरीके से तस्करी कर विदेश भेजी जा रहीं थीं. खास बात है कि दवाओं की खरीद फरोख्त डार्कनेट के जरिये की जा रही थी. इसकी भनक लगते ही शातिर तस्करों को दबोच लिया गया.

एनसीबी के डिप्टी डायरेक्टर केपीएस मल्होत्रा के मुताबिक आगरा ,बलिया और दिल्ली में छापेमारी कर 4 लोगों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए लोगों में के अग्रवाल, के गोयल, सोमदत्त और मनीष शामिल हैं. आरोप है कि ये सभी प्रतिबंधित दवाओं की अवैध तरीके से खरीद फरोख्त कर तस्करी के जरिये उन्हें अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोप समेत कई देशों में भेजते थे. एनसीबी ने हरिद्वार की एक दवा कंपनी में छापेमारी कर 30 लाख से ज्यादा नशीली दवाइयां और 70 हजार खांसी के सीरप बरामद किये हैं. जिनकी कीमत 12 करोड़ है.

Youtube Video


एनसीबी के मुताबिक इस ऑपरेशन को 3 महीने में अंजाम दिया गया. जांच में पता चला कि आगरा का कारोबारी के अग्रवाल इस तरह की दवाएं खरीदता है, जबकि आगरा का ही दवा विके्रता के गोयल उसे दवा बेचता है. ये दवाएं हरिद्वार की एक दवा कंपनी से अवैध तरीके से आ रहीं थीं. जबकि इन दवाओं को बलिया का मनीष और दिल्ली का सोमदत्त अपनी पहचान छिपाकर विदेश भेजते थे. ये दवाएं हर्बल पैकिंग में छिपाकर भेजीं जा रहीं थीं. खास बात ये है कि दवाओं की खरीद फरोख्त डार्कनेट के जरिये हो रही थी. वहीं से एनसीबी को इस गैंग का सुराग मिला. इस मामले में एनसीबी दवा कंपनी के मालिक की तलाश कर रही है. एनसीबी ने इस साल 36 करोड कीमत की प्रतिबंधित दवाइयां और 1 लाख खांसी के सीरप बरामद किए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज