CTET 2021: आगरा में परीक्षा से दो घंटे पहले लीक हो गया पेपर, कोचिंग संचालक समेत 5 गिरफ्तार

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (Central teacher eligibility test-CTET) का पेपर दो घंटे पहले लीक होने पर पुलिस ने मंगलवार को कोचिंग संचालक समेच पांच युवकों को गिरफ्तार किया है.

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) का प्रश्नपत्र आगरा में परीक्षा से दो घंटे पहले ही लीक हो गया था. परीक्षा के दो दिन बाद मंगलवार को पुलिस ने इस मामले में कोचिंग सेंटर संचालक सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया है.

  • Share this:
    आगरा. यूपी के आगरा में पुलिस ने 5 ऐसे युवकों को गिरफ्तार किया है, जिन पर केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा से पहले पेपर लीक करने का आरोप लगा है. इन युवकों ने परीक्षा (CTET 2021 News) से ऐन 2 घंटे पहले पेपर लीक कर दिया था. आगरा के एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि रविवार को हुई परीक्षा का प्रश्न पत्र प्रयागराज के गिरोह ने लीक किया था. गिरोह से आगरा के छात्र मोहित यादव को पेपर मिला. मोहित के जरिये ही पेपर कुलदीप फौजदार और थान सिंह को मिला. इसके बाद थान सिंह ने कोचिंग टीचर प्रभात और संचालक विकास शर्मा को व्हाट्सएप से पेपर भेज दिया.

    कोचिंग संचालक विकास ने अभ्यर्थियों के व्हाट्सएप ग्रुप में CTET का पेपर शेयर किया, जिसके एवज में उसने हर अभ्यर्थी से 50 हजार रुपये लिए थे. एसएसपी ने बताया कि आगरा में विकास शर्मा का अपेक्स क्लासेस नाम से कोचिंग सेंटर है, जिसकी चार शाखाएं हैं. पुलिस ने शिकायत के आधार पर राजा की मंडी से उसे गिरफ्तार किया है.

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुलिस ने बताया कि आगरा मंडल के मैनपुरी जिले में अभ्यर्थी के स्थान पर परीक्षा देने के लिए आए मुन्नाभाई (परीक्षा में बैठने वाला) को पकड़ा गया था. पूछताछ में खुलासा हुआ कि उससे 50 हजार रुपये में सौदा तय हुआ था. मुन्नाभाई को पकड़ने के बाद पुलिस ने अभ्यर्थी और बिचौलिये को भी गिरफ्तार कर लिया. जिले में 26 केंद्रों पर रविवार को CTET परीक्षा हुई थी. इस दौरान फर्दपुर रोड स्थित बालाजी ग्लोबल एकेडमी पर अभ्यर्थी के स्थान पर परीक्षा देने आए मुन्नाभाई को बिछवां पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

    पूछताछ में उसने अपना नाम महेंद्र सिंह निवासी उत्तर नगर सैलई, सती रोड, थाना रामगढ़, फिरोजाबाद हाल निवासी इटावा रोड, बेवर बताया था. उसी ने सॉल्वर गैंग के सदस्यों के नाम भी बताए थे. यह भी बताया कि वह इटावा रोड बेवर निवासी राहुल वर्मा के स्थान पर परीक्षा देने आया था.

    थाना कुरावली के गांव अशोकपुर निवासी अक्षय, जो वर्तमान में कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला वंशीगोहरा में रहता है और ब्रजेश सोलंकी निवासी सैलई आंबेडकर पार्क थाना रामगढ़ फिरोजाबाद ने उसे राहुल से मिलवाया था. राहुल की जगह परीक्षा देने के लिए उसे 50 हजार रुपये में बात तय हुई थी. पुलिस ने बिचौलिया अक्षय और अभ्यर्थी राहुल को भी गिरफ्तार कर लिया है. सभी ने अपना जुर्म कुबूल किया है.