Home /News /uttar-pradesh /

principle accuse of taking salary without attending school had hired girl to teach students

आगरा : बिना स्कूल आए वेतन ले रही थी प्रधानाध्यापिका, पढ़ाने के लिए 5000 रुपये में किराए पर रखी थी लड़की

प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका बिना स्कूल आए वेतन ले रही थी और स्कूल के बच्चों को पढ़ाने के लिए प्रधानाध्यापिका के द्वारा पांच हजार रुपये महीने पर एक युवती को रखा गया था.

प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका बिना स्कूल आए वेतन ले रही थी और स्कूल के बच्चों को पढ़ाने के लिए प्रधानाध्यापिका के द्वारा पांच हजार रुपये महीने पर एक युवती को रखा गया था.

पूछताछ पर सहायक अध्यापक मनीष कुमार, शिक्षामित्र अंजू, ऊषा ने टीम को बताया कि प्रधानाध्यापिका सुमन सिंह की जगह एक लड़की पढ़ा रही है. लड़की भी मौके पर मौजूद थी, उसने बताया कि वह अक्तूबर, 2021 से विद्यालय में पढ़ा रही है और उसे 5000 रुपये प्रति माह प्रधानाध्यापिका के द्वारा दिए जाते हैं.

अधिक पढ़ें ...

आगरा. उत्तर प्रदेश में आगरा के बेसिक शिक्षा विभाग ने एक बड़ा खुलासा किया है. प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका बिना स्कूल आए वेतन ले रही थी और स्कूल के बच्चों को पढ़ाने के लिए प्रधानाध्यापिका के द्वारा पांच हजार रुपये महीने पर एक युवती को रखा गया था. युवती प्रधानाध्यापिका की जगह स्कूल के बच्चों को पढ़ाती थी.

मंडलीय उप निरीक्षक उर्दू राकेश कुमार व मंडलीय समन्वयक मिड-डे मील राकेश कुमार पाराशर छह मई को जैतपुर कलां स्थित प्राथमिक विद्यालय नगला सुरई का निरीक्षण करने गए थे. स्कूल में जब प्रधानाध्यापिका नहीं मिली तो टीम के द्वारा पूछताछ की गई. निरीक्षण के दौरान किराए पर रखी गई युवती भी स्कूल के मौजूद थी. हालांकि इस मामले में एडी बेसिक महेश चंद्र ने प्रभारी बीएसए को प्रधानाध्यापिका और संबंधित दोषियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द समिति बनाकर पूरे मामले की जांच कराई जाए और दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए.

यह है पूरा मामला
6 मई को मंडलीय उप निरीक्षक उर्दू राकेश कुमार व मंडलीय समन्वयक मिड-डे मील राकेश कुमार पाराशर ने जैतपुर कलां स्थित प्राथमिक विद्यालय नगला सुरई का निरीक्षण किया था. स्कूल की प्रधानाध्यापिका सुमन सिंह अनुपस्थित थीं. उपस्थिति पंजिका में देखने से पता चला कि वह 29 अप्रैल से बिना सूचना के विद्यालय से अनुपस्थित हैं. उपस्थिति पंजिका में 28 अप्रैल को आकस्मिक अवकाश अंकित मिला. पत्र व्यवहार में पंजिका में आकस्मिक अवकाश दर्ज नहीं था. जब टीम ने मिड-डे मील और छात्रों की उपस्थिति पंजिका मांगी तो शिक्षक व शिक्षामित्रों ने बताया कि सभी प्रधानाध्यापिका के पास हैं. इसके बाद यह पूरा मामला सामने आया.

ये भी पढ़ें- महोबा के हनुमान मंदिर में जा घुसी तेज़ रफ्तार बोलेरो, श्रद्धालुओं में मची भगदड़

ग्रामीणों ने कहा- कभी प्रधानाध्यापिका को नहीं देखा
पूछताछ पर सहायक अध्यापक मनीष कुमार, शिक्षामित्र अंजू, ऊषा ने टीम को बताया कि प्रधानाध्यापिका सुमन सिंह की जगह एक लड़की पढ़ा रही है. लड़की भी मौके पर मौजूद थी, उसने बताया कि वह अक्तूबर, 2021 से विद्यालय में पढ़ा रही है और उसे 5000 रुपये प्रति माह प्रधानाध्यापिका के द्वारा दिए जाते हैं. मौके पर मौजूद ग्रामीण ने भी बताया कि उन्होंने कभी प्रधानाध्यापिका को नहीं देखा है.

ये भी पढ़ें- बहन की शादी के वक्त से लापता 9 साल के भाई की मिली लाश, हत्या की आशंका

विद्यालयों का किया जायेगा औचक निरीक्षण
इस मामले की जानकारी जब एडी बेसिक को हुई तो उनके द्वारा बीएसए को निर्देश दिया गया कि जिलाधिकारी और सीडीओ की जानकारी में प्रकरण लाकर ब्लॉक के सभी विद्यालयों का जल्द से जल्द औचक निरीक्षण कराया जाए.

मिड-डे मील में भी घोटाला
बेसिक शिक्षा विभाग की टीम ने जैतपुर कलां के ही प्राथमिक विद्यालय बड़ा गांव में मिड-डे मील की गड़बड़ी पकड़ी. यहां पंजीकृत 45 की जगह 22 विद्यार्थी उपस्थित थे. मिड-डे मील के रजिस्टर में विद्यार्थियों की संख्या 45 लिखी गई थी. मामले की जानकारी होने पर एडी बेसिक ने बीएसए को प्रधानाध्यापक के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने और समिति बनाकर मामले की जांच कराने के निर्देश हैं. वही मिड-डे के लिए जारी धनराशि वापस कराने के लिए कहा है.

Tags: Agra news, Government School

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर