प्रियंका का ट्वीट- दिल्ली, मुंबई से अधिक है आगरा में कोरोना से मृत्युदर, 48 घंटे में जनता को स्पष्टीकरण दें CM
Agra News in Hindi

प्रियंका का ट्वीट- दिल्ली, मुंबई से अधिक है आगरा में कोरोना से मृत्युदर, 48 घंटे में जनता को स्पष्टीकरण दें CM
आगरा में कोरोना से मौतों को सियासत गरमा गई है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर बड़ा हमला बोला है. (file photo)

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है कि आगरा (Agra) में कोरोना से मृत्युदर दिल्ली व मुंबई से भी अधिक है. यहां कोरोना से मरीजों की मृत्यदर 6.8% है. यहां कोरोना से जान गंवाने वाले 79 मरीजों में से कुल 35% यानि 28 लोगों की मौत अस्पताल में भर्ती होने के 48 घण्टे के अंदर हुई है.

  • Share this:
आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों के लिए सियासत गरमा गई है. मामले में आगरा के डीएम प्रभु एन सिंह (DM Prabhu N Singh) ने कांग्रेस (Congress) महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) को झूठी खबर ट्वीट करने को लेकर नोटिस भेजकर जवाब तलब किया है. जिलाधिकारी की नोटिस में कहा गया है कि प्रियंका गांधी के गलत ट्वीट करने से लोगों में भ्रम फैला है और कोरोना योद्धाओं के मनोबल को ठेस पहुंची है. वहीं मामले में प्रियंका गांधी ने एक और ट्वीट कर कहा है कि आगरा में कोरोना के मरीजों की मृत्युदर दिल्ली और मुंबई से भी ज्यादा है. उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री 48 घंटे के भीतर जनता को इसका स्पष्टीकरण दें और कोविड मरीजों की स्थिति और संख्या में की जा रही हेराफेरी पर जवाबदेही बनाएं.

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है, “आगरा में कोरोना से मृत्युदर दिल्ली व मुंबई से भी अधिक है. यहां कोरोना से मरीजों की मृत्यदर 6.8% है. यहां कोरोना से जान गंवाने वाले 79 मरीजों में से कुल 35% यानि 28 लोगों की मौत अस्पताल में भर्ती होने के 48 घण्टे के अंदर हुई है.‘आगरा मॉडल’का झूठ फैलाकर इन विषम परिस्थितियों में धकेलने के जिम्मेदार कौन हैं? मुख्यमंत्री जी 48 घंटे के भीतर जनता को इसका स्पष्टीकरण दें और कोविड मरीजों की स्थिति और संख्या में की जा रही हेराफेरी पर जवाबदेही बनाएं.

ये भी पढ़ें: आगरा DM ने प्रियंका गांधी को भेजा नोटिस, कहा- आपके ट्वीट से फैला भ्रम



इस ट्वीट में प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री कार्यालय का एक पत्र भी पेश किया है. 18 जून के इस पत्र में लिखा गया है कि मुख्यमंत्री के समक्ष प्रस्तुत किए जाने वाले कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की मृत्यु संबंधित आंकड़े एवं वास्तविक रूप से घटित मृत्यु के आंकड़ों में विरोधाभास होता है. 17 जून को पेश की गई सूचना के अनुसार 16 जून को कोविड से संक्रमित 30 मरीजों की मृत्यु हुई है, जबकि वास्तविक रूप से यह संख्या काफी कम थी.



ये भी पढ़ें: UP: जून में ही अभिभावकों के खाते में पहुंचेगी मिड डे मील की धनराशि

मुख्यमंत्री ने इस पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि मृत्यु से संबंधित वास्तविक आंकड़े ही पोर्टल पर फीड किए जाएं और उसी के अनुसार सूचना उनके समक्ष प्रस्तुत की जाए. सीएम ने मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के स्तर से ही मरीज के गृह जनपद की सही जानकारी फीड किए जाने के भी निर्देश दिए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज