Home /News /uttar-pradesh /

प्रियंका का ट्वीट, डर किस बात का, क्यों रोका? यूपी सरकार ने दे दी आगरा जाने की मंजूरी

प्रियंका का ट्वीट, डर किस बात का, क्यों रोका? यूपी सरकार ने दे दी आगरा जाने की मंजूरी

प्रियंका को हिरासत में मृतक के परिजनों से मिलने आगरा रवाना हुईं हैं.

प्रियंका को हिरासत में मृतक के परिजनों से मिलने आगरा रवाना हुईं हैं.

Priyanka gandhi in Agra: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को यूपी सरकार ने हिरासत से छोड़ दिया. चौतरफा दबाव के बाद उन्हें आगरा जाने की अनुमति दे दी है. प्रियंका गांधी पुलिस हिरासत में मारे गए युवक अरुण वाल्मीकि के परिजनों से मिलने रवाना हो गईं.

अधिक पढ़ें ...

    आगरा. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) को यूपी सरकार (UP government) ने आगरा जाने की अनुमति दे दी है. अनुमति मिलते ही वह आगरा के लिए रवाना हो गईं. इसके पहले उन्हें आगरा एक्सप्रेस वे के एंट्री पॉइंट पर रोककर हिरासत में ले लिया गया था. इस पर प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया था कि ‘अरुण वाल्मीकि (arun valmiki) की मृत्यु पुलिस हिरासत में हुई है. उनका परिवार न्याय मांग रहा है. मैं परिवार से मिलने जाना चाहती हूं. उत्तर प्रदेश सरकार को डर किस बात का है? क्यों मुझे रोका जा रहा है.’

    प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने के बाद यूपी का सियासी पारा चढ़ने लगा. इसके बाद उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा हिरासत में लिए गए व्यक्ति के परिजनों से मिलने के लिए आगरा जाने की अनुमति दी गई. इससे पहले दिन में, गांधी को लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर रोक दिया गया था. क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई थी. पुलिस अधिकारियों ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि कांग्रेस महासचिव को रोक दिया गया, क्योंकि आगरा के जिला मजिस्ट्रेट ने व्यक्ति की मौत के बाद किसी भी राजनीतिक व्यक्तित्व को वहां नहीं जाने देने का अनुरोध किया था. इसका जवाब देते हुए, गांधी ने एएनआई से कहा, ‘वे कहते हैं कि मैं आगरा नहीं जा सकती, मैं जहां भी जाती हूं वे मुझे रोकते हैं. क्या मुझे रेस्टोरेंट में बैठे रहना चाहिए? सिर्फ इसलिए कि यह उनके लिए राजनीतिक रूप से सुविधाजनक है? मैं उनसे मिलना चाहती हूं, इसमें कौन सी बड़ी बात है?”

    उन्होंने कहा, ‘जिस समय मैं पार्टी कार्यालय के अलावा किसी अन्य स्थान पर जाने की कोशिश करती हूं, तो वे (प्रशासन) मुझे रोकने की कोशिश करते हैं. इससे जनता को भी असुविधा हो रही है.’ गांधी अरुण वाल्मीकि नाम के एक व्यक्ति के परिवार के सदस्यों से मिलने की कोशिश कर रहे थे, जिस पर जगदीशपुरा पुलिस स्टेशन से 25 लाख रुपये चोरी करने का आरोप था. पूछताछ के दौरान तबीयत बिगड़ने पर पुलिस हिरासत में उसकी मौत हो गई. आगरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) मुनिराज ने पीटीआई-भाषा को बताया कि मंगलवार की रात आरोपी अचानक बीमार पड़ गया, जब चोरी के पैसे की बरामदगी के लिए उसके घर पर छापेमारी की जा रही थी. उन्होंने कहा, ‘उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.’

    Tags: Agra news, Arun valmiki, Death in police custody, Priyanka gandhi, Priyanka gandhi custody, प्रियंका गांधी

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर