Home /News /uttar-pradesh /

Agra: एयरफोर्स स्टेशन के नुकीली तारों में उलझा 6 फीट लंबा अजगर, ऐसे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

Agra: एयरफोर्स स्टेशन के नुकीली तारों में उलझा 6 फीट लंबा अजगर, ऐसे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

Agra:  बताया जा रहा है कि अजगर को जल्द ही वापस जंगल में छोड़ दिया जाएगा.

Agra: बताया जा रहा है कि अजगर को जल्द ही वापस जंगल में छोड़ दिया जाएगा.

Agra News: वाइल्डलाइफ एसओएस के सीईओ और सह-संस्थापक, कार्तिक सत्यनारायण ने कहा “हर साल, हम सिंथेटिक गार्डन नेटिंग और ऐसे ही वायर मेश में से कई सांपों को बचाते हैं. सांप, पक्षी और छोटे स्तनधारी जीव अक्सर इनमें फंस जाते हैं और अंत में दम घुटने या सांस ना ले पाने के कारण मर जाते हैं. वाइल्डलाइफ एसओएस के डायरेक्टर कंजर्वेशन प्रोजेक्ट्स, बैजूराज एमवी ने कहा, 'चूंकि, रेजर वायर में लगी ब्लेड काफी हद तक नुकीली और तेज होती हैं.' जिससे तार पर चढ़ना या काटना लगभग असंभव हो जाता है, इसलिए यह रेस्क्यू ऑपरेशन हमारी टीम के लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहा.

अधिक पढ़ें ...

आगरा. ताजनगरी आगरा (Agra) के अर्जुन नगर स्थित एयरफोर्स स्टेशन (Air Force Station) की बाउंड्री वॉल पर लगे घातक रेजर वायर में 6 फीट लंबा अजगर (Python) उलझ गया. वाइल्डलाइफ एसओएस रैपिड रिस्पांस यूनिट ने कड़ी मशक्कत के बाद अजगर का रेस्क्यू किया. सांप को रेस्क्यू टीम ने बचाने के बाद उसे मेडिकल परीक्षण में रखा गया ही. आगरा के वाइल्डलाइफ एसओएस के हेल्पलाइन नंबर ( 91-9917109666) पर आगरा एयरफोर्स स्टेशन से इमरजेंसी कॉल प्राप्त हुई. बताया गया कि एयरफोर्स स्टेशन की बाउंड्री वॉल पर लगी रेजर वायर में एक अजगर बुरी तरह से लिपटा हुआ है.

रात में गश्त कर रहे सुरक्षा अधिकारियों ने एयरफोर्स स्टेशन के अर्जुन नगर गेट के समीप बाउंड्री वॉल पर बड़े सांप को रेजर तार में फंसा पाया. उसकी सुरक्षा को लेकर चिंतित, अधिकारियों ने तुरंत घटना की सूचना वाइल्डलाइफ एसओएस को दी. वन्यजीव संरक्षण संस्था की दो सदस्यीय टीम तुरंत मौके के लिए रवाना हुई. टीम को पहले से ही परेशान अजगर को रेजर वायर से सुरक्षित निकालने में लगभग एक घंटे का समय लगा. अजगर को अब चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है और जल्द ही वापस जंगल में छोड़ दिया जाएगा.

अब यूपी के फतेहपुर में जीका वायरस की दस्तक, शख्स मिला संक्रमित, इलाके में हड़कंप

वाइल्डलाइफ एसओएस के सीईओ और सह-संस्थापक, कार्तिक सत्यनारायण ने कहा “हर साल, हम सिंथेटिक गार्डन नेटिंग और ऐसे ही वायर मेश में से कई सांपों को बचाते हैं. सांप, पक्षी और छोटे स्तनधारी जीव अक्सर इनमें फंस जाते हैं और अंत में दम घुटने या सांस ना ले पाने के कारण मर जाते हैं. वाइल्डलाइफ एसओएस के डायरेक्टर कंजर्वेशन प्रोजेक्ट्स, बैजूराज एमवी ने कहा, ‘चूंकि, रेजर वायर में लगी ब्लेड काफी हद तक नुकीली और तेज होती हैं.’ जिससे तार पर चढ़ना या काटना लगभग असंभव हो जाता है, इसलिए यह रेस्क्यू ऑपरेशन हमारी टीम के लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहा.

Tags: Agra news, Agra Police, Indian air force, Python Viral Video, Up forest department, UP news, Yogi government, आगरा

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर