PM मोदी से बातकर आगरा की प्रीति बोली- लगा जैसे भगवान मेरे सामने आ गये

कोरोनाकाल में प्रीति का सब्जी का कारोबार बर्बाद हो गया था. लेकिन स्वनिधि योजना से लोन लेकर उसने फिर से फल का कारोबार शुरू किया है.
कोरोनाकाल में प्रीति का सब्जी का कारोबार बर्बाद हो गया था. लेकिन स्वनिधि योजना से लोन लेकर उसने फिर से फल का कारोबार शुरू किया है.

प्रीति ने बताया कि कोरोना लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान उसका व्यापार खत्म हो गया था. इसके बाद उसने स्वनिधि योजना (PM Swanidhi Scheme) के तहत दस हजार रुपये का लोन लेकर दोबारा कारोबार शुरू किया. अब उसकी बेपटरी जिंदगी फिर से पटरी पर लौट रही है.

  • Share this:
आगरा. कोरोनाकाल (Corona Crisis) में जिंदगी की कठिनाइयों से उबारने में पीएम स्वनिधि योजना (PM Swanidhi Scheme) लाभप्रद साबित हो रही है. इस योजना से न जाने कितने लोगों के होठों पर मुस्कान आई है. उन्हीं में से एक हैं आगरा की रहने वाली प्रीति. प्रीति ठेले पर फल बेचती है. उसने पूरे आत्मविश्वास के साथ पीएम मोदी (PM Modi) से वर्चअल संवाद किया. दस हजार के बिना ब्याज वाले लोन के जरिये कैसे उसने अपनी जिंदगी संवारी, इसकी जानकारी पीएम मोदी की दी. इससे पीएम काफी प्रभावित हुए.

पीएम मोदी से बातचीत के बाद प्रीति ने न्यूज-18 से कहा ऐसे लगा जैसे मेरे सामने स्वयं भगवान आ गये. उसने कभी ऐसा सपने में भी नहीं सोचा था कि एक दिन देश के पीएम उसका हालचाल पूछेंगे. स्वनिधि योजना से उसकी जिंदगी बदल गई.

प्रीति ने बताया कि कोरोना लॉकडाउन के दौरान उसका व्यापार खत्म हो गया था. इसके बाद उसने स्वनिधि योजना के तहत दस हजार रुपये का लोन लेकर दोबारा कारोबार शुरू किया. अब उसकी बेपटरी जिंदगी फिर से पटरी पर लौट रही है.



बतौर प्रीति दस हजार रुपये का लोन वह सालभर में लौटा देगी. इसके बाद बीस हजार के लोन का रास्ता साफ हो जाएगा. इसी तरह से वह अपने कारोबार आगे बढ़ते चली जाएगी. लोन की एक किश्त वह जमा भी करा चुकी है.
प्रीति ने अपने पति के स्वास्थ्य को लेकर पीएम को जानकारी दी. जिस पर पीएम मोदी ने उनका इलाज कराने का भरोसा दिलाया. प्रीति के पति का स्वास्थ्य खराब है. लिहाजा पूरे परिवार को संभालने की जिम्मेदारी प्रीति पर आ गई है. प्रीति पहले सब्जी बेचा करती थी. लेकिन पीएम स्वनिधि योजना से लोन लेकर अब वह फल का कारोबार करने लगी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज