प्रदूषण के चलते खतरे में ताज की खूबसूरती! एयर क्वालिटी इंडेक्स 400 के पार

प्रदूषण धुंध की वजह से ताजमहल सहित सभी प्रमुख स्मारक थोड़ी दूरी से भी अदृश्य नजर आ रहे हैं. एनजीटी के सख्त निर्देशों के बाद भी जहरीले धुंए फेंक रहे वाहनों पर रोक नहीं लग सकी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 8, 2018, 2:14 PM IST
प्रदूषण के चलते खतरे में ताज की खूबसूरती! एयर क्वालिटी इंडेक्स 400 के पार
ताजमहल फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: December 8, 2018, 2:14 PM IST
ताजनगरी आगरा में एक बार फिर प्रदूषण की सबसे बड़ी मार पड़ी है. एयर क्वालिटी इंडेक्स इस सीजन में पहली बार 400 के पार पहुंच गया है. दोपहर के वक्त एयर क्वालिटी इंडेक्स 427 रहा जो बेहद खतरनाक माना जाता है. चौराहों पर खड़े ट्रैफिक पुलिसकर्मी भी काफी परेशान नजर आ रहे हैं. पुलिस के जवान आंखों में जलन और सांस लेने में दिक्कत बता रहे हैं.

प्रदूषण धुंध की वजह से ताजमहल सहित सभी प्रमुख स्मारक थोड़ी दूरी से भी अदृश्य नजर आ रहे हैं. एनजीटी के सख्त निर्देशों के बाद भी वाहन जहरीला धुंए फेंक रहे हैं. वहीं हाइवे पर धूल उड़ रही है. प्रशासन की तरफ से ना तो पानी का छिड़काव किया जा रहा है और ना ही धुंआ उगलती गाड़ियों पर लगाम लगाया जा रहा है.

आरटीओ के अधिकारियों की तरफ से भी प्रदूषण फैलाते वाहनों पर शिकंजा नहीं कसा जा रहा है. जिसके कारण एसएन मेडिकल कालेज में सांस संबंधी रोगियों की संख्या पचास फीसदी बढ़ गई है. आंकड़ों पर गौर करें तो जनपद में 10.5 लाख से अधिक व्यावसायिक और गैर व्यावसायिक वाहन पंजीकृत हैं. जिले में 18 से ज्यादा प्रदूषण जांच केंद्रों की दो साल से जांच तक नहीं की गई है. जिले में 188 पंप हैं, लेकिन अब यहां धुआं जांच के लिए कोई सुविधा नहीं है.

(रिपोर्ट- हिमांशु त्रिपाठी)

ये भी पढ़ें- 

कानपुर: यूपी STF ने किया सॉल्वर गैंग का भंडाफोड़, सरगना समेत 10 गिरफ्तार

मेरठ: पुलिस और गौ तस्करों के बीच मुठभेड़, 2 गिरफ्तार
Loading...

BJP सांसद सावित्री बाई फुले का इस्‍तीफा देने का निर्णय सही: ओपी राजभर
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर