होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Vocal For Local : आगरा में मार्बल से क्यों बनाया गया अनोखा क्रिसमस ट्री? जानें अनोखी पहल

Vocal For Local : आगरा में मार्बल से क्यों बनाया गया अनोखा क्रिसमस ट्री? जानें अनोखी पहल

आगरा में संगमरमर की खास कला से बनाया गया क्रिसमस ट्री.

आगरा में संगमरमर की खास कला से बनाया गया क्रिसमस ट्री.

क्रिसमस का त्योहार धूमधाम से मनाए जाने की तैयारियों के बीच यह भी एक फैक्ट है कि यह टूरिज़्म सीज़न है. सर्दियों में ताजन ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – हरिकांत शर्मा

आगरा. क्रिसमस से पहले ही घरों के साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर विशेष तौर से साफ-सफाई, साज-सज्जा और क्रिसमस ट्री सजाए जाने का काम शुरू हो गया है. इधर आगरा के एक होटल में इस बार क्रिसमस से पहले अनोखा क्रिसमस ट्री सजाया गया है. अमूमन क्रिसमस ट्री में सजावट के लिए कई चीजों का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन आगरा में पहली बार संगमरमर से यह ट्री सजाया गया है. यह भी पहली बार है कि क्रिसमस ट्री पर हस्त शिल्प कला से बनी चीज़ों का इस्तेमाल किया गया है.

डबल ट्री बाई हिल्टन होटल और पर्यटन विभाग के संयुक्त प्रयास से हिल्टन होटल में क्रिसमस माह का आयोजन ‘लाइट आउट ऑफ डार्कनेस’ किया जा रहा है. क्रिसमस त्यौहार को ध्यान में रखते हुए होटल की लॉबी में एक बहुत बड़ा क्रिसमस ट्री सजाया गया है. करीब पन्द्रह फुट लम्बे इस ट्री पर यूपी पर्यटन विकास परियोजना से जुडे़ करीब 150 शिल्पकारों के शिल्प उत्पादों को सजाया गया है.

बड़े पैमाने पर होता है पच्चीकारी का काम

क्रिसमस ट्री को सजाने वाले ये सभी शिल्पकार ताजगंज के पुराने मुहल्लों में रहने वाले हैं, जो कि कई पीढ़ियों से पच्चीकारी, जरदोजी एंव गलीचा बनाने का काम करते हैं. होटल में ‘क्रिसमस ट्री लाइटिंग सैरेमनी’ से शुरू होकर 25 दिसम्बर तक चलने वाले आयोजन में पर्यटकों जो भी प्रोडक्ट खरीदेंगे, उसका सीधा लाभ शिल्पकारों को मिलेगा. असल में लोकल रोजगार को बढ़ाने के मकसद से यहां आगरा के हस्तशिल्प का प्रचार प्रसार करना किया जा रहा है.

हैंडीक्राफ्ट को ऐसे किया जा रहा है प्रमोट

पर्यटन विभाग के संयुक्त निदेशक अविनाश चन्द्र मिश्रा ने बताया कि विभाग आगरा सहित चार औऱ जनपदों में प्रो पूअर पर्यटन विकास परियोजना चला रहा है. इसके तहत बुनियादी ढांचे के विकास के साथ आगरा क्षेत्र के हस्तशिल्प को बढ़ावा देने और शिल्पकारों की आय बढ़ाने के लिए अनेक काम किए जा रहे हैं. शिल्पकारों को आधुनिक तकनीक और डिजाइन्स पर अनुभवी विशेषज्ञों द्वारा ट्रेनिंग दी जा रही है. हस्तकला की ब्रिकी के लिए उन्हें स्थानीय बाजार से भी जोड़ा जा रहा है और सरकार के जेम पोर्टल पर भी.

मिश्रा ने यह भी बताया भारत सरकार के हस्तशिल्प विभाग के ज़रिये शिल्पकारों का पंजीकरण कर पहचान पत्र भी बांटे जा रहे हैं. इससे उन्हें कई सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सकेगा. शिल्पकारों के आर्थिक विकास एंव सामाजिक सुरक्षा के लिए इन लोंगो को प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, ओडीओपी योजना, स्मार्ट सिटी मिशन एवं दीनदयाल अंत्योदय राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन जैसी योजनाओं के साथ जोड़ा गया है.

Tags: Agra news, Christmas

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें