Home /News /uttar-pradesh /

UP Election 2022 :- जान लीजिए विधायक बनने से पहले नामांकन की क्या है पूरी प्रक्रिया  

UP Election 2022 :- जान लीजिए विधायक बनने से पहले नामांकन की क्या है पूरी प्रक्रिया  

X

प्रदेश में विधानसभा के चुनावों की तारीखों का ऐलान हो चुका है.प्रथम चरण में होने वाले चुनाव को लेकर अब सभी पार्टियों के प्रत्याशी नामा?

    प्रदेश में विधानसभा के चुनावों की तारीखों का ऐलान हो चुका है.प्रथम चरण में होने वाले चुनाव को लेकर अब सभी पार्टियों के प्रत्याशी नामांकन पत्र भरने के लिए पहुंच रहे हैं.कोई भी आम आदमी भी विधायक पद के लिए नामांकन कर सकता है.लेकिन उससे पहले नामांकन पत्र दाखिल करने की पूरी प्रक्रिया जाननी होगी. इस वीडियो में हम आपको नामांकन पत्र दाखिल करने की पूरी प्रक्रिया बताएंगे और उसके साथ ही यह भी बताएंगे कि इस दौरान आपके पास क्या-क्या कागजात होना जरूरी है.

    निर्दलीय प्रत्याशी के लिए 10 व पार्टी से चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी के पास होने चाहिए 1 प्रस्तावक
    आगरा बार एसोसिएशन के अध्यक्ष बृजेंद्र सिंह रावत नें बताया कि अगर कोई प्रत्याशी किसी पार्टी से नामांकन करता है तो उसे 1 प्रस्तावक की जरूरत होती है.वहीं अगर कोई प्रत्याशी निर्दलीय पर्चा दाखिल करने के लिए आता है तो उसे अपने क्षेत्र के 10 प्रस्तावों की जरूरत होती है.साथ ही चालान की राशि आरक्षण के हिसाब से देनी होती है.अगर प्रत्याशी सामान्य वर्ग का है तो उसे 10 हजार का चालान भरना होगा .वही प्रत्याशी किसी आरक्षित वर्ग से है तो उसे सिर्फ 5 हजार का ही चालान भरना होगा.

    विधायक बनने के लिएभरना होता है25 पेज का फार्म
    बृजेंद्र सिंह बताते हैं कि विधायक बनने से पहले बहुत सारे कागजों की जरूरत पड़ती है.नामांकन पत्र 25 पेज का होता है जिसमें बाद में 3 पेज और जुड़ते हैं .जरूरी कागजों में प्रत्याशी को अपने पासपोर्ट साइज फोटो ,आधार कार्ड, पैन कार्ड, मूल निवास, जाति प्रमाण पत्र की प्रतिलिपि जैसे कागजों की जरूरत होती है.

    चल अचल संपत्ति का देना होता है ब्यौरा
    विधायक बनने से पहले नामांकन पत्र में अपनी चल अचल संपत्ति का ब्यौरा देना होता है. यानी कि आपके पास कितने जेवरात है और आपके अकाउंट में कितनी धनराशि जमा है.इसके साथ ही आपको अपनी पत्नी और आश्रित बच्चों की भी पूरी जानकारी देनी पड़ती है.साथ ही आपके पास कितने हथियार हैं और आपके ऊपर कितने आपराधिक मामले दर्ज हैं इन सभी की जानकारी आपको एक एफिडेविट के माध्यम से बिल्कुल स्पष्ट और सही-सही जानकारी जिला निर्वाचन अधिकारी को देनी होती है.इसी के आधार पर आपका नामांकन पत्र भरा जाता है.

    क्या होता है पार्टी का बी फार्म
    अगर प्रत्याशी निर्दलीय मैदान में उतर रहा है तो उसे किसी भी बी- फार्म की जरूरत नहीं होती है.साफ शब्दों में कहा जाए तो बी फार्म पार्टी के द्वारा दिया गया एक आधिकारिक रूप से घोषणा पत्र होता है.जिसमें वह यह घोषित करते हैं कि यह प्रत्याशी हमारी पार्टी का उम्मीदवार है.

    नामांकन करने के कुछ दिनों के बाद नाम वापसी का भी समय निर्वाचन आयोग के द्वारा दिया जाता है.उसमें प्रत्याशी अपनी मर्जी से नाम वापस ले सकता है .इसके लिए बकायदा एक एफिडेविट पर घोषणा पत्र देना होता है जिसमें नाम वापसी करने की डिटेल लिखी होती है.वेरिफाई करने के बाद प्रत्याशी का नाम वापस कर दिया जाता है.
    (रिपोर्ट:- हरीकान्त शर्मा आगरा)

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर