आगरा: मुगल विरासत को समेटे UP के इस ऐतिहासिक शहर के नाम है पर्यटन की दुनिया का विशेष 'ताज'

ताजमहल (फाइल फोटो)
ताजमहल (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के आगरा (Agra) का रसूख देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) से कभी कम नहीं रहा. काफी समय तक ये मुगल सल्तनत की राजधानी रहा. आज आगरा देश के सबसे प्रमुख पर्यटक स्थलों में शुमार है. ताजमहल (Taj Mahal), आगरा किला (Agra Fort) और फतेहपुर सीकरी (Fatehpur Sikri) यहां की शान हैं. यही नहीं रोजगार देने के मामले में भी आगरा का प्रमुख स्थान है,

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 12:26 AM IST
  • Share this:
आगरा. उत्तर प्रदेश के ऐतिहासिक शहरों में आगरा (Agra) का नाम काफी ऊपर आता है. कभी मुगलों की पसंदीदा जगह रहे आगरा में शेरशाह सूरी से लेकर अंग्रेजों तक ने अपनी छाप छोड़ी. आज आगरा देश के सबसे प्रमुख पर्यटक स्थलों में शुमार है. ताजमहल (Taj Mahal), आगरा किला (Agra Fort) और फतेहपुर सीकरी (Fatehpur Sikri) यहां की शान हैं. इसके साथ ही रोजगार देने के मामले में भी आगरा का प्रमुख स्थान है, देश में जूतों की अहम सप्लाई इसी शहर से होती है. और भी बहुत कुछ है, इस शहर में...

इतिहास और मान्यता

आगरा एक ऐतिहासिक नगर माना जाता है. वैसे तो आगरा का इतिहास मुख्य रूप से मुगल काल से चर्चा में आया लेकिन इसका सम्बन्ध महर्षि अंगिरा से है, 1000 ईसा पूर्व हुए थे. इतिहास में इसका पहला ज़िक्र महाभारत के समय से माना जाता है, जब इसे अग्रबाण या अग्रवन के नाम से संबोधित किया जाता था.



11वीं सदी के फ़ारसी कवि मासूद सलमान ने आगरा के किले पर गजनवी के आक्रमण का उल्लेख किया है, जो तब राजा जयपाल के शासनाधीन था. जयपाल के आत्मसमर्पण के बावजूद, महमूद ने किले को लूट लिया था. 1504 में सिकंदर लोदी ने अपनी राजधानी को दिल्ली से आगरा स्थानांतरित किया. इसके बाद उनके पुत्र इब्राहिम लोदी के 1526 में पानीपत के पहले युद्ध में हार के बाद यह बाबर (मुगल शासन) के अंतर्गत आया. 1540 और 1556 के बीच, शेरशाह सूरी ने इस क्षेत्र पर शासन किया. इसके बाद ये 1648 तक भारत में मुगल साम्राज्य की राजधानी रहा. आगरा पर बाद में मराठों का अधिपत्य रहा, जिनके बाद यह ब्रिटिश राज के अंतर्गत आ गया.
Agra 1
आगरा का ताजमहल (File Photo)


मुगल काल में हासिल की ऊंचाइयां

इसे अकबरबाद के रूप में जाना जाता था. अकबर, जहांगीर और शाहजहां के शासनकाल में आगरा मुगल साम्राज्य की राजधानी बना रहा. अकबर ने इसे अपने मूल बारह उपहास (शाही शीर्ष-स्तर के प्रांतों), सीमावर्ती पुरानी दिल्ली, अवध, इलाहाबाद, मालवा और अजमेर में से एक का नामित सीट बना दिया. शाहजहां ने बाद में 1649 में अपनी राजधानी शाहजानाबाद में स्थानांतरित कर दी.

बाबर ने बनाया बाग फिर अकबर ने बनाया फतेहपुर सीकरी

चूंकि अकबरबाद मुगलों के तहत भारत के सबसे महत्वपूर्ण शहरों में से एक था, इसलिए इसमें बहुत सारी इमारत गतिविधि देखी गई. मुगल राजवंश के संस्थापक बाबर ने यमुना नदी के तट पर पहला औपचारिक फारसी उद्यान बनाया. बगीचे को आराम का बाग कहा जाता है. उनके पोते अकबर ने महान लाल किले के विशाल किनारे उठाए. आगरा को कला, वाणिज्य और धर्म के लिए केंद्र बनाने के अलावा अकबर ने फतेहपुर सीकरी नामक अकबराबाद के बाहरी इलाके में नया शहर भी बनाया. यह शहर पत्थर में एक मुगल सैन्य शिविर के रूप में बनाया गया था.

agra6
आगरा फोर्ट (File Photo)


दिल्ली और आगरा के बीच बदलती रही राजधानी

उनके बेटे जहांगीर को वनस्पतियों और जीवों का प्यार था और लाल किले के अंदर कई बगीचे रखे थे. शाहजहां ने अकबरबाद को सबसे अधिक मूल्यवान स्मारक ताज महल दिया. अपनी पत्नी मुमताज महल की याद में ये मकबरा 1653 में पूरा हुआ. बाद में शाहजहां ने राजधानी को अपने शासनकाल के दौरान दिल्ली में स्थानांतरित कर दिया लेकिन उनका बेटा औरंगजेब राजधानी को अकबरबाद में वापस ले आया. उसने पिता से गद्दी छीन ली और उन्हें किले में कैद कर दिया. औरंगजेब के शासनकाल के दौरान अकबराबाद भारत की राजधानी बना रहा. 1653 में दक्षिण में औरंगाबाद राजधानी स्थानांतरित हुई. मुगल साम्राज्य के पतन के बाद, शहर मराठों के प्रभाव में आया और 1803 में ब्रिटिश राज के हाथों जाने से पहले इसे आगरा कहा जाने लगा.

1857 के पहले स्वतंत्रता संग्राम का गवाह

1835 में जब अंग्रेजों द्वारा आगरा प्रेसीडेंसी की स्थापना हुई, तो शहर सरकार की सीट बन गई 1857 के पहले स्वतंत्रता संग्राम के दौरान विद्रोह की खबर 11 मई को आगरा पहुंची थी और 30 मई को मूल पैदल सेना, 44वें और 67वें रेजिमेंट की 2 कंपनियों ने विद्रोह किया और दिल्ली चले गए. हालांकि, विद्रोही दिल्ली चले गए, जिससे अंग्रेजों को 8 जुलाई तक आदेश बहाल करने की अनुमति मिल गई. 1947 में भारत की आजादी तक यहां ब्रिटिश शासन फिर से शहर में सुरक्षित कर लिया गया था.

Agra2
आगरा मॉन्यूमेंट्स (Courtsey: Twitter)


देश का प्रमुख पर्यटन स्थल

आगरा अपनी कई मुगलकालीन इमारतों के कारण एक प्रमुख पर्यटन स्थल है, विशेषकर ताजमहल, आगरा किला और फतेहपुर सीकरी के लिए, जो सभी यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल हैं. दिल्ली और जयपुर के साथ आगरा गोल्डन ट्रायंगल टूरिस्ट सर्किट में शामिल है और लखनऊ और वाराणसी के साथ यह उत्तर प्रदेश राज्य के एक पर्यटक सर्किट, उत्तर प्रदेश हेरिटेज आर्क का हिस्सा है. सांस्कृतिक रूप से आगरा ब्रज क्षेत्र में स्थित है. देश की प्रमुख नदी यमुना आगरा से होकर गुजरती है. ताज महल इसी के किनारे स्थित है. आज आगरा यमुना एक्सप्रेसवे के माध्यम से दिल्ली से और आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे के माध्यम से लखनऊ से जुड़ा हुआ है.

दर्शनीय स्थल

आगरा का ताजमहल, आगरा किला, फतेहपुर सीकरी, एतमादुद्दौला का मकबरा, जामा मस्जिद, चीनी का रोजा, मेहताब बाग, स्वामी बाग और दयाल बाग, सिकंदरा, मरियम मकबरा, पालीवाल पार्क (हीविट पार्क).

Agra3
आगरा मॉन्यूमेंट्स (Courtsey: Twitter)


धर्म

आगरा दीन-ए-इलाही धर्म का जन्मस्थान है. जो अकबर के शासनकाल और राधास्वामी विश्वास के दौरान विकसित हुआ, जिसमें दुनिया भर में लगभग 2 लाख अनुयायी हैं. आगरा के पास जैन धर्म के शौरीपुर और 1000 ईसा पूर्व हिंदू धर्म के रनुका के साथ ऐतिहासिक संबंध हैं. दूसरी शताब्दी में भूगोलविद् टॉलेमी ने इसे विश्व के मानचित्र पर आगरा के रूप में चिह्नित किया.

भौगोलिक स्थिति

आगरा के उत्तर में मथुरा जिला है, दक्षिण में यह राजस्थान के धौलपुर जिले के पास है, पूर्व में इसके फिरोजाबाद है और पश्चिम में भरतपुर है. यमुना नदी यहां से होकर गुजरती है.

Agra5
आगरा (Courtsey: Twitter)


मौसम

आगरा घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च तक पर्यटकों के लिए सर्वश्रेष्ठ मौसम माना जाता है. गर्मियों के मौसम में यहां अधिकतम तापमान 45 डिग्री पार कर जाता है.

आबादी और साक्षरता

2011 की जनगणना के अनुसार आगरा जिले की कुल जनसंख्या 4,418,797 है, जिसमें से पुरुष 2,364,953 और महिलाएं 2,053,844 हैं. इस आबादी के साथ ये भारत में 41वें स्थान पर है. यहां प्रति वर्ग किलोमीटर में 1084 व्यक्ति रहते हैं. इस आबादी में करीब 89 फीसदी हिंदू हैं, जबकि 9.30 प्रतिशत मुस्लिम जनसंख्या. यहां लिंग अनुपात 1000 पुरुषों के मुकाबले 859 महिलाओं का है. साक्षरता के मामले आगरा का प्रतिशत महज 69.44 है.

वर्तमान ये है शासकीय व्यवस्था

आगरा जिला 6 तहसीलों और 15 ब्लॉकों में विभाजित है. जिले में पंचायत की कुल संख्या 114 है जबकि ग्राम सभा 695 पर है. एक नगर निगम और 5 नगर पालिका परिषद व 7 नगर पंचायत हैं. कुल 906 गांव हैं. जिले में कुल 40 पुलिस स्टेशन हैं, जिनमें से 16 शहरी क्षेत्र में और 24 ग्रामीण इलाकों में हैं. रेलवे स्टेशनों की कुल संख्या (हॉल सहित) 29 है और बस स्टैण्ड/बस स्टॉप 144 हैं.

agra11
प्रसिद्ध बटेश्वर मेला (File Photo)


मेला व उत्सव

आगरा में मेले और त्यौहार काफी रंगीन हैं. ताज महोत्सव यहां के सबसे प्रसिद्ध कार्यक्रमों में से एक है. ये फरवरी में 10 दिन के लिए होता है. ये ताजमहल के करीब, शिल्प ग्राम में मनाया जाता है. त्यौहार कला, शिल्प, संस्कृति, भोजन की पारंपरिक विविधता, और लोक प्रदर्शन का प्रदर्शन है. ये त्यौहार उत्साह के साथ वसंत ऋतु का स्वागत करता है. महोत्सव एक भव्य जुलूस के साथ शुरू होता है

बटेश्वर मेला

बटेश्वर शहर आगरा से 70 किमी की दूर स्थित है. यहां कई हिंदू-देवताओं और देवी के 108 मंदिर हैं. अक्टूबर/नवंबर के महीनों में भगवान शिव को समर्पित एक वार्षिक मेला आयोजित किया जाता है. इस महीने के दौरान, हजारों भक्त यमुना नदी के पवित्र जल में डुबकी लेते हैं. पशु मेला इस मेले का एक हिस्सा है.

राम बरात

दशहरा से पहले आयोजित, राम बारात भगवान राम का विशेष विवाह जुलूस है, जो हर साल आगरा में आयोजित किया जाता है. यह रामलीला का एक हिस्सा है, जो दशहरा के दिन समाप्त होता है, जब भगवान रावण को मार देते हैं. एक विशेष स्थान पर देवी सीता, राजा जनक, ‘जनकपुरी’ का महल स्थापित है. यह स्थल मेले के लिए आधार बन जाता है, जिसे भगवान के हजारों भक्तों द्वारा देखा जाता है जो शाही शादी को देखने के लिए आते हैं.

Agra7
आगरा मॉन्यूमेंट्स (Courtsey: Twitter)


कैलाश मेला

आगरा से सिर्फ 12 किमी दूर एक स्थान पर आयोजित, कैलाश मेला कैलाश मंदिर में भगवान शिव को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए आयोजित किया जाता है. त्योहार का आयोजन भगवान शिव की उपस्थिति को पत्थर लिंगम के रूप में मनाने के लिए अगस्त / सितंबर के महीने में आयोजित किया जाता है. आस-पास के स्थानों से भक्त इस मेले में भाग लेते हैं.

अर्थव्यवस्था

आगरा जिले की बात करें तो यहां अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है, जबकि आगरा शहर की अर्थव्यवस्था का आधार लघु उद्योग, वाणिज्य और व्यापार है. प्रमुख फसलें गेहूं, धान, बाजरा, सरसों, पेटा आदि हैं. आगरा की कुल अर्थव्यवस्था का लगभग 40 प्रतिशत उद्योग (प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से) पर निर्भर है. 7200 से अधिक छोटे पैमाने पर औद्योगिक इकाइयां यहां हैं. आगरा शहर चमड़े के सामान, हस्तशिल्प, ज़री-ज़रदोजी, पत्थर नक्काशी और जड़ना कार्य के लिए प्रसिद्ध है. आगरा की मिठाई –पेठा और दालमोठ  और गजक की अपनी अलग पहचान है.

आगरा में प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना, नुनिहाई में की गई है. इसके अलावा मिनी औद्योगिक एस्टेट, अछनेरा, उत्तर प्रदेश एसआईडीसी औद्योगिक क्षेत्र, फाउंडरी नगर, सिकंदरा ए, बी, सी, प्रमुख हैं.

agra8
आगरा मॉन्यूमेंट्स (Courtsey: Twitter)


आगरा में जिले में 12 बड़ी औद्योगिक इकाइयां हैं, जो मध्यम उद्योगों के अंतर्गत आती हैं. इनमें बिजली का सामान, पंखा, पाइप्स, सी.आई ढलाई, चमड़ा सामान और जूते, स्टील रोलिंग, पैकिंग और दूध के उत्पाद प्रमुख हैं.

वहीं लघु उद्योग की क्षेणी में आगरा में करीब 7200 इकाइयां काम कर रही हैं. जो कपास और वस्त्र, लकड़ी के पेपर उत्पाद और स्टेशनरी, चमड़े के सामान और धातु उत्पाद, ऑटो और इंजन पार्ट्स, विद्युत सामान इत्यादि बनाते हैं.

हस्तशिल्प

हस्तशिल्प में जरी-जरदोजी, मार्बल स्टोन नक्काशी और इनली काम के अलावा लगभग 13000 लोग कार्पेट का काम कर रहे हैं. यहां लगभग 116 निर्यात इकाइयां हैं.

जूता उद्योग

आगरा में रोजाना जूते के 1.5 लाख जोड़े कई इकाइकयों में बनते हैं. यहां 60 संगठित जूता इकाइयां, 3000 छोटी और लगभग 30,000 घर में कारीगर इकाइयां हैं. आगरा में फुटवियर उद्योगों का समर्थन करने वाली बड़ी संख्या में अनुषंगी उद्योग हैं. भारत में जूते की कुल घरेलू आवश्यकता का लगभग 65 प्रतिशत आगरा से आपूर्ति होती है.

Agra9
यमुना एक्सप्रेस वे (Courtsey: Twitter)


मुगल काल से लेकर ब्रिटिश शासन में खूब फली फूली शिक्षा व्यवस्था



मुग़ल काल से ही आगरा इस्लाम की शिक्षा का एक केंद्र रहा फिर ब्रिटिश शासन के समय अंग्रेज़ों ने यहां पाश्चात्य शिक्षा को बढ़ावा दिया. वर्ष 1823 में यहां आगरा कॉलेज की स्थापना हुई. अन्य प्रमुख महाविद्यालय में राजा बलबंत सिंह महाविद्यालय, सेंट जोन्स कॉलेज, बैकुंठी देवी कन्या महाविद्यालय, और बीडी जैन कन्या महाविद्यालय हैं. ये सभी महाविद्यालय बीआर अम्बेडकर विश्वविद्यालय से सम्बद्ध हैं. आगरा स्थित एक अन्य प्रमुख विश्वविद्यालय है दयालबाग विश्वविद्यालय. इसके अलावा तमाम बोर्ड के स्कूल हैं, जिनमें आगरा पब्लिक स्कूल, एयर फ़ोर्स स्कूल, केंद्रीय विद्यालय,

प्रमुख स्कूल-कॉलेज

मुफ़ीद-ए-आम इण्टर कॉलेज, गायत्री पब्लिक स्कूल, महावीर दिगम्बर जैन इण्टर कॉलेज, चौधरी सीएम पब्लिक स्कूल, दिल्ली पब्लिक स्कूल, राजकीय पॉलीटेक्निक मनकेड़ा, सरस्वती शिशु मंदिर, सेंट जोसेफ़ गर्ल्स इण्टर कॉलेज, सेंट पीटर्स कॉलेज, सेंट पॉल्स चर्च कॉलेज, सेंट फ्राँसिस कान्वेंट स्कूल, होली पब्लिक स्कूल, राजकीय इंटर कॉलेज प्रमुख हैं.

SP Singh Baghel
बीजेपी सांसद एसपी सिंह बघेल (Courtsey: Twitter)


सियासत

आगरा जिले में दो लोकसभा सीटें आती हैं, एक आगरा और दूसरी फतेहपुर सीकरी सीट.

2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी से एसपी सिंह बघेल ने यहां से जीत दर्ज की. इससे पहले 2014 और 2019 में बीजेपी से डॉ राम शंकर कठेरिया यहां काबिज रहे. 2004 और 1999 में दो बार यहां सपा से राज बब्बर ने जीत दर्ज की. 1998 (निर्दलीय), 1996 (बसपा) और 1991 (जनता दल) में भगवान शंकर रावत यहां से विजयी रहे. इसी तरह 1988 में जनता दल से अजय सिंह सांसद बने. 1984 और 1980 में कांग्रेस से निहाल सिंह जीते, 1977 में शंभू नाथ चतुर्वेदी विजेता रहे. उससे पहले 1971 में अचल सिंह, 1967 में एसए सिंह, 1957 में अचल सिंह के रूप में कांग्रेस यहां से जीतती रही.

sadhvi niranjan jyoti
बीजेपी सांसद साध्वी निरंजन ज्योति (File Photo)


वहीं फतेहपुर सीकरी की बात करें तो यहां से बीजेपी की साध्वी निरंजन ज्योति वर्तमान में सांसद हैं. 1957 में कांग्रेस के अंसार हरवानी, 1962 में निर्दलीय गौर शंकर उर्फ गौरी बाबू, 1967 और 71 में कांग्रेस के संत बख्श सिंह, 1977 भारतीय लोकदल के बशीर अहमद, 1978 में जनता पार्टी के सैयद लियाकत हुसैन, 1980 और 84 में कांग्रेस के हरि कृष्ण शास्त्री, 1989, 91 में जनता दल से विश्वनाथ प्रताप सिंह, 1996 में बसपा के विशंभर प्रसाद निषाद, 1998, 1999 में बीजेपी से अशोक कुमार पटेल, 2004 में बसपा से महेंद्र प्रसाद निषाद, 2009 में सपा के राकेश सचान उसके बाद से लगातार दो बार से बीजेपी साध्वी निरंजन ज्योति चुनाव जीत रही हैं.

आगरा जिले में कुल 10 विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें आगरा कैंट, आगरा उत्तरी, आगरा देहात, आगरा दक्षिणी, बाह, एम्मादपुर, फतेहाबाद, फतेहपुर सीकरी, खैरागढ़.

साभार- विकीपीडिया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज