Home /News /uttar-pradesh /

watch the story of construction of jama masjid of agra on the occasion of eid ul fitr

ईद-उल-फितर के मौके पर देखिए आगरा की जामा मस्जिद के बनने की कहानी

आगरा

आगरा की जामा मस्ज़िद ।

ईद-उल-फितर के मौके पर आज आगरा की जामा मस्जिद में हजारों की संख्या में नमाजियों ने नमाज अदा की.आपसी सद्भाव और भाईचारे से आज पूरे देश में ईद का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा है.सुबह 7:30 बजे आगरा की शाही जामा मस्जिद में लोगों ने बड़ी संख्या में नमाज अदा की.इस जामा मस्जिद

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट:- हरीकान्त शर्मा,आगरा

    ईद-उल-फितर के मौके पर आज आगरा की जामा मस्जिद में हजारों की संख्या में नमाजियों ने नमाज अदा की.आपसी सद्भाव और भाईचारे से आज पूरे देश में ईद का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा है.सुबह 7:30 बजे आगरा की शाही जामा मस्जिद में लोगों ने बड़ी संख्या में नमाज अदा की.इस जामा मस्जिद का खास इतिहास रहा है.सदियों से लोग यहां पर जुम्मे की नमाज से लेकर ईद की नमाज अदा करते चले आ रहे हैं.

    शाहजहां की बेटी जहांआरा ने बनवाई थी जामा मस्जिद
    देश की सबसे बड़ी मस्जिदों में शुमार आगरा की जामा मस्जिद का इतिहास बेहद पुराना है.बात तब की है जब आगरा में शाहजहां का शासन काल था.शाहजहां की बेटी जहांआरा ने इबादत के लिए अपने पिता से जामा मस्जिद बनवाने की अनुमति मांगी.शाहजहां की अनुमति से 17 वी शताब्दी में सन 1643 में इस मस्जिद का निर्माण कार्य शुरू हुआ था,जो 5 साल तक चला 1648 में जाकर मस्जिद बनकर तैयार हुई.उस वक्त इस मस्जिद की निर्माण में जो लागत आई थी वह लगभग 5 लाख रुपए थी.

    25 से 30 हज़ार लोग एक साथ अदा कर सकते हैं इस मस्जिद में नमाज
    यहां के स्थानीय लोग बताते हैं कि सदियों से लोग इस मस्जिद में नमाज अदा करते चले आ रहे हैं.देश की सबसे बड़ी मस्जिदों में इसका नाम शुमार है.इस मस्जिद में 25 से 30 हजार लोग एक साथ बैठ कर नमाज अदा कर सकते हैं.चारों तरफ अब यह घनी आबादी से घिरी हुई है.बगल में ही आगरा का लाल किला है.लाल बलुआ पत्थर व सफ़ेद संगमरमर पत्थर से इसे तराशा गया है.सैकड़ों साल बीत जाने के बावजूद इस मस्जिद की खूबसूरती कम नहीं हुई है.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर