आगरा Unlock-1.0: जून की तपती धूप और सीट पर दुधमुंहा बच्चा लिए ई-रिक्शा चलाती मां
Agra News in Hindi

आगरा Unlock-1.0: जून की तपती धूप और सीट पर दुधमुंहा बच्चा लिए ई-रिक्शा चलाती मां
पति के इलाज के लिए दुधमुंहे बच्चे को लेकर ई-रिक्शा चला रही है महिला

आगरा (Agra) के एमजी रोड पर भगवान टॉकीज चौराहे से लेकर राजामंडी तक ई-रिक्शा (E-rickshaw) दौड़ाती यह महिला मां और पत्नी दोनों का एक साथ फर्ज निभा रही है.

  • Share this:
आगरा. ताजनगरी आगरा में अनलॉक 1.0 (Unlock-1.0) को लेकर चहल-पहल बढ़ी, तो बीमार पति के इलाज के लिए एक महिला कलेजे के टुकड़े के संग ई-रिक्शा (E-rickshaw) चलाने के लिए निकल पड़ी. दुधमुंहे बच्चे को पिछली सीट पर रखकर वह दिनभर सवारी ढोती रहती है. वक्त निकालकर बच्चे की भी जरूरत पूरी करती है. अब पति का इलाज (Treatment) भी हो रहा है और घर गृहस्थी भी चल रही है. यह महिला अपने आप में संघर्ष की मुकम्मल दास्तां है. और उनलोगों के लिए सबक है, जो जरा-जरा सी बात पर टूट जाते हैं.

घर चलाने के लिए ई-रिक्शा चलाने का फैसला
आगरा के एमजी रोड पर भगवान टॉकीज चौराहे से लेकर राजामंडी तक ई- रिक्शा दौड़ाती यह महिला मां और पत्नी दोनों का एक साथ फर्ज निभा रही है. परिवार चलाने की अहम जिम्मेदारी जब उसके कंधे पर आई, तो उसने 40 डिग्री तापमान में दहकती सड़क पर जिंदगी से जंग लड़ने का फैसला लिया. महिला ने बताया कि वह पहले घर में रहती थी. इस बीच पति को इन्फेक्शन हो गया. पति का इलाज चलने लगा और घर में तीन बच्चे भी हैं.आर्थिक तंगी जिंदगी के रास्ते की बाधा न बन पाए, इसलिए उसने ई रिक्शा चलाने का फैसला किया.


संघर्ष को देखकर लोग करते हैं सलाम


शुरू में लोग उसके इस फैसले से हैरान थे, लेकिन जब उसने ई-रिक्शा के जरिये जिंदगी की गाड़ी दौड़ाने लगी, तो अब लोग उसके साहस को सलाम करते हैं. ई-रिक्शा पर बैठने वाले सीट पर बच्चे को बैठा देख उसके बारे में उससे पूछते हैं. महिला ने बताया कि लॉकडाउन खुलने के बाद यह चिंता थी कि अब घर कैसे चलेगा. लेकिन चंद रोज में रिक्शा चलाना सीख लिया और फिर ताजनगरी की सड़क पर रिक्शा चलाने लगी. अब हमें लोग सम्मान भी देते हैं. और घर-गृहस्थी भी अच्छे से चल रही है.

महिला ने बताया कि उसके तीन बच्चे हैं. दो बड़े हैं, इसलिए वे घर पर रह जाते हैं. लेकिन सबसे छोटा दुधमुंहा है, इसलिए उसे साथ लेकर ई-रिक्शा चलाना पड़ता है. बहरहाल वह फर्ज के पथ पर संघर्ष की गाड़ी हिम्मत के साथ दौड़ा रही है.

ये भी पढ़ें- UP सरकार का दावा, अब तक 1642 ट्रेनों से 22,17 लाख प्रवासियों की हुई घर वापसी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading