CAA पर AMU में बवाल के बाद पुलिस और यूनिवर्सिटी ने 15,000 छात्रों को ऐसे भेजा घर
Aligarh News in Hindi

CAA पर AMU में बवाल के बाद पुलिस और यूनिवर्सिटी ने 15,000 छात्रों को ऐसे भेजा घर
AMU (File Photo)

अलीगढ़ में अमन कायम करने के मकसद से पुलिस-प्रशासन ने रेलवे से सहयोग मांगा था. जिसके बाद अलग-अलग रूट पर जाने वाली 77 ट्रेनों से करीब 15 हजार छात्रों को उनके आईकार्ड देखने के बाद ट्रेन में बिठाकर रवाना किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2019, 1:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नागरिकता कानून (CAA) को लेकर दिल्ली (Delhi) के जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी (Jamia Millia Islamia University) में भड़की हिंसा का अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में भारी विरोध हुआ था. इसे लेकर एएमयू में बवाल हुआ था. जिसमें पुलिस (Police) और छात्रों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाए थे. भारी हंगामे के बाद एहतियातन यूनिवर्सिटी को बंद कर दिया गया था. साथ ही हॉस्टल खाली करने के आदेश जारी किए गए थे. अब पुलिस-प्रशासन और यूनिवर्सिटी ने भारतीय रेल (Indian Railway) की मदद से करीब 15 हजार छात्रों को 77 ट्रेनों से उनके घरों के लिए रवाना किया है.

रेलवे ने छात्रों के लिए अलीगढ़ स्टेशन पर बिना स्टॉपेज रुकवाई 21 ट्रेन

रेलवे इलाहबाद मंडल के पीआरओ सुनील गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया, संसद में सीएबी पारित होने के बाद एएमयू के छात्रों आंदोलन और प्रदर्शन किया जा रहा था. अलीगढ़ में अमन कायम करने के मकसद से पुलिस-प्रशासन ने रेलवे से सहयोग मांगा था. जिसके बाद अलग-अलग रूट पर जाने वाली 77 ट्रेनों से करीब 15 हजार छात्रों को उनके आईकार्ड देखने के बाद ट्रेन में बिठाकर रवाना किया गया. इन 77 में से 21 ट्रेनें ऐसी थीं जिनका अलीगढ़ में ठहराव (स्टॉप) नहीं है. लेकिन रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों की मदद से उन्हें अलीगढ़ स्टेशन पर रोका गया. छात्रों को ट्रेन से घर भेजने का ये सिलसिला दो दिन तक चला.



जामिया हिंसा के बाद AMU में हुआ था बवाल
बता दें कि नागरिकता कानून को लेकर देश के अन्य हिस्सों की तरह अलीगढ़ के एएमयू में भी लगातार विरोध हो रहा है. छात्र यूनिवर्सिटी के गेट तक आकर विरोध-प्रदर्शन कर रहे थे. लेकिन रविवार की रात जामिया हिंसा के बाद एएमयू में बवाल शुरु हो गया. छात्रों ने पुलिस पर उन्हें पीटने और आंसू गैस के इस्तेमाल का आरोप लगाया था. वहीं अलीगढ़ पुलिस का कहना था कि छात्रों ने उनके और वाहनों के ऊपर पथराव किया. इसके बाद से एएमयू में हालात तनावपूर्ण हो गए थे.

जामिया हिंसा के दो आरोपियों को नहीं मिली जमानत

दिल्ली की एक अदालत ने संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में यहां जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पास हिंसक प्रदर्शन के संबंध में गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों को जमानत देने से इनकार कर दिया. अदालत ने कहा कि दोनों के खिलाफ गंभीर आरोप लगे हैं और इस बात की आशंका जायज है कि अगर उन्हें रिहा किया गया तो वह फिर ऐसी वारदात में शामिल हो सकते हैं.

मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट ने याचिका को खारिज कर दिया और उन्हें 31 दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. अदालत ने कहा, 'दी गई दलील, आरोपियों के खिलाफ लगे आरोप और जांच अभी शुरुआती अवस्था में है, इसलिए जमानत नहीं दी जा सकती है.

ये भी पढ़ें- CAA Protest: मंडी हाउस और लालकिला क्षेत्र में धारा 144 लागू, दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने जारी किया अलर्ट

जामिया हिंसा: 10 आरोपी गिरफ्तार, पुलिस का दावा- सभी का है आपराधिक रिकॉर्ड, कोई छात्र नहीं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading