AMU में खड़े फाइटर प्लेन को बेचने के लिए OLX पर डाला ऐड, अब विवि प्रशासन ने दी सफाई

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग कॉलेज के बाहर इंडियन एयरफोर्स के फाइटर प्लेन को प्रतीक के रूप में रखा गया है. (फाइल फोटो)
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग कॉलेज के बाहर इंडियन एयरफोर्स के फाइटर प्लेन को प्रतीक के रूप में रखा गया है. (फाइल फोटो)

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर मोहम्मद वसीम अली (Proctor Mohammad Wasim Ali) ने कहा है कि कैंपस में खड़े फाइटर प्लेन की बिक्री के बारे में OLX पर पोस्ट करना गलत है. विश्वविद्यालय ने इसे नीलाम करने या बेचने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 9:56 AM IST
  • Share this:
अलीगढ़. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ (Aligarh) में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (Aligarh Muslim University) के परिसर में स्थित फाइटर प्लेन की बिक्री करने के लिए किसी शरारती तत्व ने उसकी तस्वीर को OLX पर पोस्ट कर दिया. मामले की जानकारी लगते ही विश्वविद्यालय प्रशासन सकते में आ गया. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर  मोहम्मद वसीम अली (Proctor Mohammad Wasim Ali) ने कहा है कि कैंपस में खड़े फाइटर प्लेन की बिक्री के बारे में OLX पर पोस्ट करना गलत है. विश्वविद्यालय ने इसे नीलाम करने या बेचने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है. हम मामले को देख रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह विश्वविद्यालय को बदनाम करने का एक प्रयास है.

दरअसल, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग कॉलेज के बाहर इंडियन एयरफोर्स के फाइटर प्लेन को प्रतीक के रूप में रखा गया है. यह प्लेन साल 2009 से कैंपस में है, पर किसी शरारती तत्व ने OLX  की साइट पर जाकर इस प्लेन को बेचने के लिए ऐड दे दिया. जिसकी कीमत OLX पर 9 करोड़ 99 लाख 99 हजार 999 रुपये रखी गई. इस प्लेन को बेचने के लिए OLX पर 3 अगस्त को ही विज्ञापन पोस्ट किया गया था. मामले की जानकारी जैसे ही सोशल मीडिया पर फैली, इस पोस्ट को शरारती तत्व ने डिलीट भी कर दिया. फिलहाल एएमयू प्रॉक्टर ने इस पूरे मामले में जांच कर कार्रवाई की बात कही है.


वायुसेना ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को MIG-23 गिफ्ट किया था
जानकारी के मुताबिक, भारतीय वायुसेना ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को साल 2009 में माइक्रो यान MIG-23 गिफ्ट किया था. इसको एएमयू के इंजीनियरिंग विभाग के बाहर एक प्रतीक के रूप में स्थापित कर दिया गया था. इसका उपयोग वायुसेना ने इस फाइटर विमान को कई महत्वपूर्ण युद्ध में इस्तेमाल किया था. लगभग 28 साल तक यह इंडियन एयरफोर्स में रहने के बाद इस प्लेन को रिटायरमेंट करते हुए एएमयू को गिफ्ट कर दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज