Home /News /uttar-pradesh /

अलीगढ़:-आखिर क्यों श्री कृष्ण जन्मभूमि के लिए बलि चढ़ाने को तैयार हैं राज्यमंत्री रघुराज सिंह

अलीगढ़:-आखिर क्यों श्री कृष्ण जन्मभूमि के लिए बलि चढ़ाने को तैयार हैं राज्यमंत्री रघुराज सिंह

रघुराज

रघुराज सिंह, राज्यमंत्री (श्रम और सेवायोजन) उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के राज्य मंत्री ठाकुर रघुराज सिंह ने मथुरा को लेकर बयान देकर एक बार फिर राजनीति गरमा दी है.उन्होंने कहा कि अयोध्या और काशी के बाद मथुरा की बारी है,मथुरा हमारे आराध्य श्री कृष्ण की भूमि है.उसके लिए हम हर तरह की बलि चढ़ाने को भी तैयार हैं. 

अधिक पढ़ें ...

    उत्तर प्रदेश के राज्य मंत्री ठाकुर रघुराज सिंह ने मथुरा को लेकर बयान देकर एक बार फिर राजनीति गरमा दी है.उन्होंने कहा कि अयोध्या और काशी के बाद मथुरा की बारी है,मथुरा हमारे आराध्य श्री कृष्ण की भूमि है.उसके लिए हम हर तरह की बलि चढ़ाने को भी तैयार हैं. राज्य मंत्री रघुराज सिंह ने उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि अयोध्या काशी के बाद अब मथुरा की बारी है, भगवान श्रीकृष्ण की जन्म भूमि मथुरा को कब्जामुक्त कराना हमारा एजेंडे में है.मथुरा में हिंदुओं का देवस्थान है और भगवान श्री कृष्ण हिंदुओं के आराध्य देव हैं,तो इसमें बुराई क्या है, हमारा हिंदुत्व का देवस्थान है,श्री कृष्ण एक ऐसे भगवान हैं जिन्होंने हस्तलिखित गीता बनाई है,राज्य मंत्री रघुराज सिंह ने कहा कि हम उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में कब्जा किए गए देव स्थानों को मुक्त कराएंगे रघुराज सिंह ने कहा कि हिंदुस्तान में कन्वर्टेड मुसलमान है, हमारे ही भाई हैं यह सब हंसकर मानेंगे कारसेवा में हमारा साथ देंगे, कुछ दिन पहले रघुराज सिंह ने कहा था कि ईश्वर ने मौका दिया तो पूरे देश के सभी मदरसों को बंद करा दूंगा इसको लेकर काफी हंगामा चल रहा है.
    इस मामले को लेकर थाने में तहरीर भी दी गई, रघुराज सिंह का कहना है कि सनातन सिर्फ धर्म ही धर्म है विश्व में, कोई और धर्म नहीं बाकी सब पंथ है.हम तो हिंदुत्व की भावना से काम करने वाले लोग हैं, हमने तो हमेशा कहा है कि जो हिंदुत्व की बात करेगा वही देश पर राज करेगा.

    Tags: Aligarh news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर