होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /ALIGARH NEWS: राशन माफियाओं के खिलाफ चला जिला प्रशासन का चाबुक, चावल के 400 बोरे जब्त

ALIGARH NEWS: राशन माफियाओं के खिलाफ चला जिला प्रशासन का चाबुक, चावल के 400 बोरे जब्त

Black Marketing: अलीगढ़ प्रशासन को मुखबिर के जरिए सूचना मिली कि थाना महुआखेड़ा और ऊपरकोट कोतवाली इलाके में चावल की काला ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : रंजीत सिंह

अलीगढ़. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिला प्रशासन ने गरीबों के हक पर डाला डालनेवालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है. प्रशासन ने कालाबाजारी कर रहे दो थाना क्षेत्रों के गोदामों पर छापा मारा और चावल से भरे करीब 400 बोरे बरामद किए. हालांकि छापामारी से पहवले ही गोदामों से लेबर व राशन माफिया फरार होने में सफल हो गए.

दरअसल अलीगढ़ प्रशासन को मुखबिर के जरिए सूचना मिली कि थाना महुआखेड़ा और ऊपरकोट कोतवाली इलाके में चावल की कालाबाजारी की जा रही है. जिसके बाद अपर जिलाधिकारी अमित भट्ट के नेतृत्व में एसीएम अमान अंसारी व डीएसओ शिवाकांत पांडे की संयुक्त टीम ने राशन माफियाओं के खिलाफ दो बड़ी दो बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया.

आपके शहर से (अलीगढ़)

अलीगढ़
अलीगढ़

राशन माफिया गजेंद्र के गोदाम पर छापा

पहली कार्रवाई राशन माफिया गजेंद्र के गोदाम पर हुई. प्रशासन की ये कार्रवाई सोमवार व मंगलवार की मध्य देर रात तक चलती रही. इस दौरान गोदाम के भीतर कैंटर व छोटा हाथी वाहन में लदे राशन के 150 बोरे बरामद हुए. एसीएम प्रथम अमान अंसारी व डीएसओ शिवाकांत पांडे ने बताया है कि गजेंद्र लंबे अरसे से राशन माफिया घोषित है. इसके विरुद्ध पहले भी कई कार्रवाई हो चुकी है. एक बार फिर से इसके गोदाम से राशन के चावल के डेढ़ सौ बोरे बरामद हुए हैं. मौके पर इलाका पुलिस को बुलवाकर गोदाम सील कर दिया गया है.

सरफराज के गोदाम पर शिकंजा

वहीं दूसरी कार्रवाई ऊपरकोट कोतवाली इलाके के कमेला रोड के पास राशन माफिया सरफराज के गोदाम पर हुई. यहां चावल से भरे 250 से अधिक बोरे बरामद हुए हैं. प्रशासन को मौके से कैंटर व अन्य लोडर वाहन भी बरामद हुए हैं, जिनमें माल भरा जा रहा था. जबकि गोदाम से राशन माफिया और लेबर फरार हो चुके थे. फिलहाल प्रशासनिक टीम ने मौके से माल बरामद कर गोदाम को सील कर दिया है.

कुल 400 बोरे बरामद

डीएसओ शिवाकांत पांडे ने बताया है कि, दोनों गोदामों से करीब चावल से भरे 400 बोरे बरामद किए गए हैं. साथ ही साथ बताया कि अक्सर कोटेदार के द्वारा गरीबों को जो चावल दिया जाता है उसे लोग बेच देते हैं, जिसे राशन माफिया खरीदकर बाद में कालाबाजारी करते हैं. जबकि ऐसे राशन को स्टोर करना या फिर गलत तरीकों से बेचना अपराध है.

Tags: Aligarh news, Black marketing, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें