पंचायत का फरमान- शराब पी और जुआ खेला तो भरना होगा जुर्माना

पंचायत में ग्रामीणों ने कहा कि शराब, जुआ, सट्टा समाज को दूषित करते हैं. ग्राम प्रधान प्रमोद कुमार ने बताया कि पंचायत में सभी ने एकराय होकर इन सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लड़ने की शपथ ली.

Alok singh | ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 13, 2018, 11:31 AM IST
पंचायत का फरमान- शराब पी और जुआ खेला तो भरना होगा जुर्माना
प्रतीकात्मक तस्वीर
Alok singh | ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 13, 2018, 11:31 AM IST
अलीगढ़ के थाना छर्रा क्षेत्र के ग्राम बाईंखुर्द में ग्रामीणों ने शराब, जुआ, सट्टा जैसी सामाजिक बुराइयों के खिलाफ बड़ी पहल की है. एक पंचायत में फैसला लिया गया है कि गांव में किसी ने शराब पी या जुआ खेला तो दस हजार रुपये जुर्माना देना होगा. सट्टा लगाने या अतिक्रमण करने वालों को भी दंडित किया जाएगा. इतना ही नहीं उनका सामाजिक बहिष्कार भी होगा. ग्राम प्रधान के नेतृत्व में ग्रामीणों ने थाना छर्रा में प्रार्थना पत्र देकर पंचायत के फैसले की जानकारी दे दी है. पुलिस ने ग्रामीणों की पहल को सराहा है. इतना ही नहीं थाने के सामने की दीवार पर भी ये स्लोगन  लिखे गए हैं.

पंचायत में ग्रामीणों ने कहा कि शराब, जुआ, सट्टा  समाज को दूषित करते हैं. ग्राम प्रधान प्रमोद कुमार ने बताया कि पंचायत में सभी ने एकराय होकर इन सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लड़ने की शपथ ली. फैसला लिया कि गांव में कोई जुआ, सट्टा खेलता है, शराब पीता या अतिक्रमण करता पाया जाता है तो उस पर 10 हजार रुपये जुर्माना लगाया जाएगा. उनका सामाजिक बहिष्कार भी किया जाएगा. ग्रामीणों ने भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारी को बर्दाश्त न करने व शांति से रहने की भी बात कही. पंचायत में  विमलेश देवी, प्रधानपति प्रमोद कुमार, जिलापंचायत सदस्य पति भरत सिंह राजपूत समेत दर्जनों ग्रामीण मौजूद रहे.



गांव के लोगों की इस पहल की पुलिस ने भी सराहना की है. एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने कहा है कि ग्रामीणों का यह कार्य बहुत ही सराहनीय व अद्वितीय है. यह सामाजिक चेतना का युग है. इस काम के लिए ग्राम प्रधान और पंचायत द्वारा पुलिस से सहयोग भी मांगा गया है.  पुलिस भी इस निर्णय पर उनकी मदद करने को तैयार है.

दरअसल जिस गांव में यह पंचायत हुई है यहां दर्जनों घर ऐसे हैं जहां शराब बनाई जाती है. जिससे गांव के नवयुवक नशे का शिकार हो रहे हैं. अब देखना यह है कि पंचायत द्वारा लिया गए इस निर्णय का कितने लोग पालन करते हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...