• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • ALIGARH ALIGARH POISONOUS LIQUOR CASE 13 PEOPLE IN DANGER OF LOSS OF EYESIGHT TREATMENT CONTINUES UPAS

अलीगढ़ शराब कांड: 13 लोगों की आंखों की रोशनी पर संकट, 87 में से 35 लोगों की शराब से मौत की पुष्टि

अलीगढ़ सीएमओ बीपी सिंह कल्याणी ने बताया कि अब 87 में से 35 में शराब से मौत की पुष्टि हुई है.

Aligarh News: सीएमओ बीपी सिंह ने बताया कि अब तक 87 लोगों का पोस्टमार्टम हो चुका है, इनमें से 35 लोग शराब के कारण मरे हैं. अन्य लोगों की विसरा रिपोर्ट जांच के लिए आगरा भेजी गई है.

  • Share this:
अलीगढ़. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ (Aligarh) में जहरीली शराब कांड मामले में अब तक 87 लोगों की मौत हुई है. कई का इलाज अस्पताल में चल रहा है. सीएमओ बीपी सिंह की मानें तो अब तक 87 लोगों का पोस्टमार्टम हो चुका है, जिनमें से 35 लोग शराब के कारण मरे हैं. अन्य लोगों की विसरा रिपोर्ट जांच के लिए आगरा भेजी गई है. रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है. बीपी सिंह ने बताया कि इस मामले में कुल 13 लोगों में आंख की शिकायत हुई थी. उन सभी का ट्रीटमेंट चल रहा है, उनमें से कुछ लोग इंप्रूव कर गए हैं. तीन-चार ऐसे हैं, जिनमें अभी सुधार नहीं हो रहा है. करीब 22 लोगों का अभी भी अस्पताल में इलाज चल रहा है.

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में जहरीली शराब से होने वाली मौतों के लिए मिलने वाला जहर कहीं और से नहीं, बल्कि तालानगरी की स्याही-सेनेटाइजर फैक्टरी और थाना अकराबाद के पनेठी चौकी इलाके से ही दिया गया था. शराब तस्कर 50 हजार का इनामी विकास की सूचना पर पुलिस और आबकारी और प्रशासन की टीम ने तालानगरी व पनेठी इलाके की इन फैक्टरियों के संचालक कारोबारी विजेंद्र कपूर व उनके एकाउंटेंट को गिरफ्तार कर फैक्टरी से 40 हजार लीटर मिथाइल अल्कोहल बरामद किया है. साथ ही फैक्टरी को सील कर दिया गया है. गिरफ्तार दोनों लोगों पर संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा गया है. इस कार्रवाई के दौरान 10 घंटे तक चली जांच में फैक्‍ट्री की वैधता पर भी सवाल खड़े हुए हैं. आबकारी प्रयोगशाला भेजे गए सैंपल की जांच में देर शाम यह पुष्टि हो गई है कि जब्त किया गया माल मिथाइल अल्कोहल ही है.

एसएसपी कलानिधि नैथानी की टीम ने ताला नगरी के सेक्टर-1 में स्थित मैसर्स वरदान इंक एंड सॉल्वेंट प्राइवेट लिमिटेड में रविवार रात चेकिंग शुरू की. इस दौरान यहां भारी मात्रा में अवैध मिथाइल अल्कोहल मिला. यहीं से शराब बनाने के लिए इसकी आपूर्ति की जाती थी. फैक्टरी में अल्कोहल के 203 ड्रम मिले हैं, जिनमें 40 हजार 600 लीटर माल है. इस दौरान फैक्टरी स्वामी विजेन्द्र कपूर व उसके एकाउंटेट सुमित कुमार ने पूछताछ में कोई ठोस जानकारी नहीं दी. बाद में खबर पर एसडीएम कोल रंजीत सिंह, उप आबकारी आयुक्त, सीओ अतरौली सुदेश गुप्ता आदि आ गए. कई घंटे तक दोनों से पूछताछ चली मगर वे चुप्पी साधे रहे. बाद में औषधि विभाग व विशेषज्ञों की टीम को मौके पर बुलाया गया. जांच में मिथाइल अल्कोहल, एथाइल एल्कोहल व आइसो पोपाइल केमिकल होना पाया गया.

रात भर चली जांच के बाद पांच ड्रमों से 15 नमूने लेकर सोमवार तड़के साढ़े तीन बजे फैक्टरी को सील कर दिया गया और दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया. आबकारी निरीक्षक अवनीश कुमार पांडेय की ओर से फैक्टरी मालिक विजेन्द्र कपूर पुत्र मोहनलाल कपूर निवासी वैष्णोधाम विद्यानगर रामघाट रोड और एकाउंटेट सुमित पुत्र राकेश शर्मा निवासी ककेथल थाना अतरौली के खिलाफ धारा 272/273 आईपीसी तथा 60(ए), 60(1), 62 आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया है. दोनों को जेल भेज दिया गया है.

एथाइल की जगह बेचा मिथाइल अल्कोहल और हुई मौत थाना पुलिस के अनुसार वर्षों से इंक बनाने वाली फैक्टरी में जनवरी से वरदान जर्म्स किल नाम से सैनिटाइजर बनाया जा रहा था, जिसके लिए लाइसेंस प्राधिकारी व निदेशक आयुर्वेद सेवाएं लखनऊ से अनुज्ञापन प्राप्त है. मगर उसके प्रोफार्मा पर भी संदेह है. साथ में डी-नेजर स्प्रिट का अधिकार है, मगर यहां सैनिटाइजर बनाने के लिए एथाइल और मिथाइल अल्कोहल का प्रयोग किया जा रहा था जिसका कोई लाइसेंस आबाकारी से नहीं है.

अब तक पुलिस ने 50 हजार के इनामी व 3 मुख्य आरोपी सहित 33 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है. अब तक पुलिस ने 90 हजार लीटर अवैध अल्कोहल बरामद कर लिया है. खाली बोतलें, पव्वे, ढक्कन, मोहर, होलोग्राम, सहित भारी मात्रा में अवैध सामग्री बरामद की है. अब तक 2 सीओ, 3 थानाध्यक्ष, 2 चौकी इंचार्ज व 7 आबकारी अधिकारी और कर्मचारियों को निलंबित किया गया है. एसएसपी ने पुलिस की 6 टीमों की गिरफ्तारी के लिए लगा रखा है, लगातार गिरफ्तारियां की जा रही हैं.

अब तक 87 का पोस्टमॉर्टम, 35 में शराब से मौत की पुष्टि: सीएमओ

सीएमओ बीपी सिंह की मानें तो अब तक 87 लोगों का पोस्टमार्टम हो चुका है, जिसमें से 35 लोग शराब के कारण मरे हैं. वही बाकी अन्य लोग की विसरा रिपोर्ट जांच के लिए भेजी गई है. इस मामले में अस्पताल में भर्ती लोगों से इंटेलिजेंस ब्यूरो ने भी पूछताछ की है. लगातार मौतों का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है. साथी अस्पतालों में भी उपचार के लिए संख्या बढ़ती जा रही है.

बीपी सिंह ने बताया कि इस मामले में कुल 13 लोगों आंख की शिकायत हुई थी. उन सभी का ट्रीटमेंट चल रहा है, उनमें से कुछ लोग इंप्रूव कर गए हैं, तीन-चार ऐसे हैं, जिनमें अभी सुधार नहीं हो रहा है. करीब 22 लोगों का अभी भी अस्पताल में इलाज चल रहा है.
Published by:Ajayendra Rajan Shukla
First published: