इंस्पेक्टर की लात से हुई भ्रूण की मौत, महिला ने आरोप लगाकर कराया गर्भपात

महिला का आरोप है कि वह 25 जनवरी को गंगीरी थाने में अपने पति से मिलने गई थी. इस दौरान इंस्पेक्टर रामराज यादव ने उसके साथ अभद्रता की और लात घूसों से उसकी पिटाई की.

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 4, 2018, 10:50 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 4, 2018, 10:50 PM IST
अलीगढ़ थाने के इंस्पेक्टर पर पेट पर लात मारने का आरोप लगाने वाली महिला ने बुधवार को मेडिकल कॉलेज में अपना गर्भपात करवाया. महिला का आरोप है कि वह 25 जनवरी को गंगीरी थाने में अपने पति से मिलने गई थी. महिला का पति स्कूटर चोरी के मामले में थाने में बंद था. महिला के अनुसार इस दौरान इंस्पेक्टर रामराज यादव ने उसके साथ अभद्रता की और लात घूसों से उसकी पिटाई की.

महिला का कहना है कि वो उस वक्त दो माह की गर्भवती थी और इंस्पेक्टर की मारपीट की वजह से उसके गर्भ को चोट पहुंची. दर्द अधिक होने पर महिला ने डॉक्टर के परामर्श पर अल्ट्रासाउंड कराया तो गर्भ में बच्चे की धड़कन बंद हो चुकी थी. डॉक्टरों के अनुसार भ्रूण को अगर जल्दी नहीं निकाला जाता तो महिला के जीवन पर संकट आ जाता.

इस पूरे प्रकरण को लेकर एसएसपी ने क्षेत्राधिकारी बरला अनुज चौधरी को जांच सौंपकर 24 घण्टे के अंदर रिपोर्ट देने के लिए कहा था. हालांकि पांच दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक मामले की जांच रिपोर्ट नहीं आई है. वहीं महिला का कहना है कि जांच अधिकारी जान बूझकर पुलिस इंस्पेक्टर को बचाने की कोशिश कर रहे हैं. महिला के अनुसार पुलिस विभाग अपने ही इंस्पेक्टर के खिलाफ कार्रवाई नहीं करना चाहता इसलिए जांच को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है.

वहीं गर्भपात के बाद पीड़ित महिला ने आरोप लगाया कि आरोपी इंस्पेक्टर मेडिकल कॉलेज में आया था और पैसे देकर मामले को रफा-दफा करने का प्रस्ताव दिया. हालांकि पीड़िता ने साफ कर दिया है कि वो ऐसे किसी प्रस्ताव को नहीं मानेगी और आरोपी को उसकी सजा दिला कर ही रहेगी.

 
First published: April 4, 2018, 8:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...