होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /अलीगढ़ का शेखा झील पर्यटकों के लिए हुआ गुलजार, आसमानी रास्ते अमन का पैगाम लेकर आए परिंदे

अलीगढ़ का शेखा झील पर्यटकों के लिए हुआ गुलजार, आसमानी रास्ते अमन का पैगाम लेकर आए परिंदे

इन विदेशी परिंदों की अठखेलियां पक्षी प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं. मौसम में बदलाव के साथ ही बड़ी संख्य ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट – वसीम अहमद
    अलीगढ़. जंग की जमीन (रूस) से हजारों किलोमीटर का आसमानी रास्ता तय कर अमन का पैगाम लेकर आए मेहमान परिंदों ने अलीगढ़ की शेखा झील में डेरा डाल दिया है. इन विदेशी परिंदों की अठखेलियां पक्षी प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं. मौसम में बदलाव के साथ ही बड़ी संख्या में विदेशी पक्षियों का शेखा झील पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है.

    NEWS 18 LOCAL से खास बात चीत में शेखा झील प्रभारी चंचल कुमारी ने बताया कि हजारों साइबेरियन पक्षियों के पहुंचने से झील के प्राकृतिक सौंदर्य में चार चांद लग रहे हैं. पक्षियों को नजदीक से निहारने और उनकी तस्वीर को अपने मोबाइल व कैमरे में कैद करने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटक भी रोजाना झील पर पहुंच रहे हैं.

    यहां पर्यटकों को मिलता है सुकून
    दीविया सिंह बताती हैं कि वो काफ़ी सालों से यहां घूमने आती है उन्हें बहुत अच्छा लगता है, बहुत सुकून मिलता है काफी शांति महसूस करती हूं. यहां विदेश से साइबेरियन पंछी आते है जो कि बहुत खूबसूरत होते हैं. इसी लिए यहां आकर बहुत अच्छा फील होता है.

    आपके शहर से (अलीगढ़)

    अलीगढ़
    अलीगढ़

    विदेशी पक्षियों की खास पसंद है शेखा झील
    जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर 40 हेक्टेयर में फैली शेखा झील सर्दियों के मौसम में करीब 186 प्रवासी मेहमान परिंदों की सबसे पसंदीदा जगह है. नवंबर से लेकर फरवरी तक झील पक्षियों से गुलजार रहती है. गर्मियों की शुरुआत में ही अपने ये परिंदे अपने वतन लौटने लगते हैं. फिलहाल यहां विदेशी सारस, मुरैन पनकौआ, जलकौआ, ब्लैक आइविश, बड़ा बगुला, स्काट बिल, जल मुर्गा, पिनटेल, कॉमन टेल, ब्लैक पिनटेल, डार्टर, ग्रे हीरोन, पेटेंड स्ट्रोक, ग्रेट कोरमोरेंट, पर्पल हीरोन, कॉम्ब डक, व्हाइट आईबिज, ब्लैक हैडेड आईबिज, ओपन बिल स्ट्रोक, स्पॉट बिल्ड डक, ब्लैक नेक्ड स्ट्रोक, व्हाइट ब्रेस्टेड वाटर हेन, कॉमन मूरहेन, लिटिल कोरमोरेंट, व्लाइट आईबिज, सोवलर, ग्रेलेग गूज, गेटबेल, सुर्खाव, सावलर, दूब आदि परिंदे हर साल प्रवास के लिए पहुंचते हैं.जैसे-जैसे सर्दी बढ़ती जाएगी वैसे ही विदेशी परिंदों के आने का सिलसिला बढ़ता जाएगा.

    Tags: Aligarh news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें